राजनीति

PM Modi fan donated gold to Kashi Vishwanath temple | PM मोदी की मां हीराबेन के वजन के बराबर काशी विश्वनाथ मंदिर में लग रहा सोना, 187 साल बाद गर्भगृह हुआ स्वर्णमंडित

open-button


Kashi Vishwanath Temple: काशी विश्वनाथ मंदिर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मां हीराबेन के वजन के बराबर का सोना लग रहा है। फिलहाल, 37 किलो सोना गर्भगृह की दीवारों पर चढ़ चुका है। स्वर्णमंडित होने से गर्भगृह की दीवारें दमक उठीं हैं। जिस प्रशंसक ने सोना दान किया है, वह दक्षिण भारत के रहने वाले हैं। प्रशंसक ने प्रधानमंत्री की नीतियों से प्रभावित होकर भारी मात्रा में स्वर्ण का गुप्त दान किया है।

Published: March 02, 2022 10:07:49 am

पत्रिका ब्यूरो
नई दिल्ली/ वाराणसी। मोदी युग में लगातार काशी विश्वनाथ धाम की सुंदरता में चार चांद लग रहा है। काशी विश्वनाथ मंदिर का भव्य कॉरिडोर बनने के बाद अब मंदिर का गर्भगृह भी स्वर्णमंडित हो गया है। यह संभव हुआ है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यों से प्रभावित एक दक्षिण भारतीय प्रशंसक की बदौलत। प्रशंसक ने प्रधानमंत्री की मां हीरा बेन के वजन के बराबर सोना मंदिर प्रशासन को दान किया है। दिल्ली से सुरक्षा के बीच ट्रक से मंदिर के लिए सोना भेजा। 30 घंटे की मेहनत के बाद कारीगर काशी विश्वनाथ मंदिर के गर्भगृह की दीवारों में सोना जड़ने में सफल रहे। संयोग रहा कि स्वर्ण मंडित गर्भगृह का दर्शन भी सबसे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को किया, जब वह काशी के दौरे पर गए थे।

modi_in_kashi_vishwanath.jpg

काशी विश्वनाथ मंदिर के स्वर्णमंडित गर्भगृह का अवलोकन करते प्रधानमंत्री मोदी।

काशी विश्वनाथ मंदिर न्यास से जुड़े अधिकारियों के मुताबिक, एक महीने पहले दक्षिण भारत के एक श्रद्धालु ने काशी विश्वनाथ मंदिर का दर्शन किया था। इसके बाद श्रद्धालु ने काशी विश्वनाथ मंदिर न्यास से गर्भगृह के लिए सोना दान करने की इच्छा जताई थी। मंदिर प्रशासन से अनुमति मिलने के बाद श्रद्धालु ने दिल्ली की एक संस्था के माध्यम से कड़ी सुरक्षा के बीच दिल्ली से सोने की प्लेटों को ट्रक से काशी विश्वनाथ मंदिर भेजा। बताया जाता है कि श्रद्धालु ने प्रधानमंत्री की मां हीराबेन के वजन के बराबर का सोना मंदिर प्रशासन को दान किया है। शुक्रवार से रविवार के बीच करीब 30 घंटे में 10 कारीगरों ने गर्भगृह में 37 किलो सोना लगाने में सफल रहे।

अब चांदी की चौखट भी बदलेगी और यहां सोना लगेगा। स्वर्ण शिखर के नीचे के हिस्सों में भी सोना लगेगा। इस प्रकार महाशिवरात्रि के बाद करीब 24 किलो और सोना लगेगा। गर्भगृह के स्वर्णमंडित होने के बाद प्रधानमंत्री मोदी रविवार को बाबा विश्वनाथ का अभिषेक के लिए पहुंचे थे। बता दें कि इससे पहले वर्ष 1835 में पंजाब के तत्कालीन महाराज रणजीत सिंह ने बाबा काशी विश्वनाथ मंदिर के दो शिखरों को स्वर्णमंडित किया था। इस प्रकार करीब 187 साल बाद काशी विश्वनाथ मंदिर में सोना चढ़ा है।

newsletter

अगली खबर

right-arrow





Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top