भारत

After the ruckus, notice to Shiva after Lord Shankar | बवाल के बाद भगवान शंकर के बाद शिव को नोटिस

open-button


जिला प्रशासन ने टंकण त्रृटि सुधार कर अतिक्रमणकारी शिव कुमार मालाकार को दिया नोटिस
नोटिस में कहा सुनवाई के अवसर देकर प्रकरण का होगा निराकरण

Published: March 29, 2022 08:39:37 pm

रायगढ़. सृष्टि के सृजन कर्ता भगवान भोलेनाथ को जमीन के एक छोटे से टुकड़े पर अवैध कब्जा के लिए जिला प्रशासन ने नोटिस जारी किया था। इस मामले में काफी बवाल हुआ। बवाल के बाद अब जिला प्रशासन ने अपनी गलती में सुधार किया है। वहीं भगवान भोलेनाथ के बाद शिव को नोटिस जारी किया है। दरअसल अतिक्रमणकारी शिव कुमार मालाकार है, जिसके नाम से नोटिस जारी किया गया है।
उल्लेखनीय है कि शहर के कौहाकुंडा क्षेत्र में सरकारी जमीन पर अवैध कब्जा के लिए नायब तहसीलदार विक्रांत राठौर के द्वारा १० लोगों को नोटिस जारी किया था। इसमें एक नाम शिव मंदिर का था। ऐसे में स्थानीय लोगों ने इसमें बवाल कर दिया और शिव के साथ सुनवाई की तिथि को तहसील कार्यालय पहुंचे। इससे यह बात चर्चा का विषय बना रहा। हालांकि नायब तहसीलदार के द्वारा शिव मंदिर को नोटिस जारी होने के पीछे कारण टंकण त्रृटि मान रहे थे, लेकिन इसमें समय रहते सुधार नहीं किया। इसकी वजह से बवाल की स्थिति निर्मित हुई। अब इसमें सुधार करते हुए कब्जाधारी शिव कुमार मालाकार को नोटिस जारी किया है।
तहसीलदार को भी मिला नोटिस
भगवान भोलेनाथ को नोटिस जारी किए जाने व इसके बाद बवाल होने पर एसडीएम ने मामले में नायब तहसीलदार विक्रांत राठौर को नोटिस जारी किया। वहीं इसका जवाब देने के लिए २४ घंटे का समय दिया गया था। नायब तहसीलदार ने इस मामले में टंकण त्रृटि होने का जवाब दिया।

raigarh

बवाल के बाद भगवान शंकर के बाद शिव को नोटिस

संसोधित किया नोटिस
तहसीलदार रायगढ़ गगन शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया कि दिनांक 9 मार्च 2022 को जारी कारण बताओ नोटिस टंकण त्रुटिवश शिव मंदिर को जारी हो गया था। प्रकरण में शीघ्र सुनवाई का आवेदन प्राप्त होने पर न्यायालय तहसीलदार रायगढ़ द्वारा उक्त जारी नोटिस को शिथिल करते हुए शिव कुमार मालाकार पिता लाभोराम को संशोधित नोटिस जारी किया जा चुका है। इस तरह प्रकरण में अवैध कब्जाधारियों को विधिवत सुनवाई का अवसर देते हुए संहिता में दिए प्रावधानों के तहत प्रकरण का निराकरण किया जाएगा।

newsletter

अगली खबर

right-arrow





Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top