स्वास्थ्य

World Tuberculosis Day 2022: क्यों मनाया जाता है वर्ल्ड टीबी डे, इतिहास और इस बार की थीम जानें

World Tuberculosis Day 2022: क्यों मनाया जाता है वर्ल्ड टीबी डे, इतिहास और इस बार की थीम जानें


World Tuberculosis (TB) Day 2022: ‘विश्व टीबी या तपेदिक दिवस’ (World TB Day) हर साल 24 मार्च को मनाया जाता है. इसका उद्देश्य टीबी (Tuberculosis) को लेकर लोगों को जागरूक करने के साथ ही इसकी रोकथाम करने से है. इसके अलावा, लोगों पर पड़ने वाले इसके खतरनाक प्रभावों, फिर चाहे वो स्वास्थ्य से जुड़े हों या सामाजिक-आर्थिक हों, उनके बारे में जन जागरूकता और समझ को बढ़ाना है. यही वजह है कि ‘विश्व टीबी दिवस’ के मौके पर जागरूकता अभियान चलाने के साथ ही कई तरह के कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं. कोविड 19 संकट के बीच ‘वर्ल्ड टीबी डे’ इस बीमारी से प्रभावित लोगों पर ध्यान केंद्रित करने और टीबी पीड़ित और इससे होने वाली मौतों को समाप्त करने के लिए त्वरित कार्रवाई का आह्वान करने का ये एक बेहतर अवसर है. हालांकि, 2000 से अब तक टीबी से दुनियाभर में 66 मिलियन लोगों की जान बचाई गई है, लेकिन COVID-19 महामारी ने उन लाभों को उलट दिया है.

एक दशक में पहली बार, 2020 में टीबी से होने वाली मौतों में वृद्धि हुई है. पूर्वी यूरोप, अफ्रीका और मध्य पूर्व में चल रहे संघर्षों ने वहां रह रही कमजोर आबादी की स्थिति को और बढ़ा दिया है.

वर्ल्ड टीबी डे का इतिहास
24 मार्च, 1882 को जर्मन फिजिशियन और माइक्रोबायोलॉजिस्ट रॉबर्ट कॉच (Dr Robert Koch) ने टीबी के बैक्टीरियम यानी जीवाणु माइकोबैक्टीरियम ट्यूबरक्लोसिस (Mycobacterium Tuberculosis) की खोज की थी. उनकी यह खोज आगे चलकर टीबी के निदान और इलाज में बहुत मददगार साबित हुई. इस योगदान के लिए इस जर्मन माइक्रोबायोलॉजिस्ट को 1905 में नोबेल पुरस्कार से नवाजा गया. यही वजह है कि हर साल विश्व स्वास्थ्य संगठन टीबी के सामाजिक, आर्थिक और सेहत के लिए हानिकारक नतीजों पर दुनिया में पब्लिक अवेयरनेस फैलाने और दुनिया से टीबी के खात्मे की कोशिशों में तेजी लाने के लिए ये दिन मनाता आ रहा है.

यह भी पढ़ें-
ओमेगा-6 फैटी एसिड क्या है? जानिए किन फूड्स में होता है ये भरपूर, इसके फायदे

वर्ल्ड टीबी डे 2022 की थीम
इस साल विश्व टीबी दिवस 2022 की थीम ‘इनवेस्ट टू एंड टीबी. सेव लाइव्स (Invest to End TB. Save Lives)’है. इसका शाब्दिक अर्थ टीबी को खत्म करने के लिए निवेश करें…जीवन बचाए’ है.  इसका मतलब है कि डब्ल्यूएचओ तपेदिक (टीबी) के खिलाफ लड़ाई में संसाधनों, सहायता, देखभाल और सूचना के तत्काल निवेश का आह्वान करता है. बता दें कि 2020 में टीबी निदान (diagnostics), इलाज और रोकथाम (prevention) पर वैश्विक खर्च 2022 तक सालाना 13 बिलियन अमेरिकी डॉलर के वैश्विक लक्ष्य के आधे से भी कम था. जबकि रिसर्च एंड डेवलपमेंट के लिए हर साल 1.1 बिलियन अमेरिकी डॉलर की अतिरिक्त आवश्यकता है.

यह भी पढ़ें-
Bowel Cancer: घातक हो सकता है बाउल कैंसर के इन 12 लक्षणों को नजरअंदाज करना, जानें कारण, इलाज

अभी भी है किलर डिजीज की कैटेगरी में
विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के मुताबिक, टीबी अभी भी दुनिया की सबसे घातक संक्रामक किलर डिज़ीज़ (deadly infectious killer disease) में से एक है. हर दिन, लगभग 4100 लोग टीबी से अपनी जान गंवाते हैं और 30,000 के करीब लोग इस रोकथाम और इलाज की जा सकने वाली बीमारी की चपेट में आ जाते हैं, जबकि इसे रोका जा सकता है और इसका इलाज भी किया जा सकता है. टीबी एचआईवी से पीड़ित लोगों की मृत्यु का प्रमुख कारण है और रोगाणुरोधी प्रतिरोध (antimicrobial resistance) में एक प्रमुख योगदानकर्ता है.

Tags: Health, Health News, Lifestyle, TB, World Tuberculosis Day



Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top