स्वास्थ्य

New Reaserch: युवा शवों के स्पर्म से मिलेगी नई जिंदगी, एम्स भोपाल ने शुरू किया शोध

पुरुषों में शुक्राणुओं के लिए क्यों खतरा है फोन का ज्यादा इस्तेमाल, नुकसान से बचने के लिए अपनाएं ये टिप्स


भोपाल. इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर, ICMR) ने भोपाल के एम्स (AIIMS Bhopal) को मृत शरीर के स्पर्म (Sperm) को डोनेट कर संतानोत्पत्ति की संभावनाओं पर शोध का काम सौंपा है. इस रिसर्च के जरिए यह पता लगाया जाएगा कि किसी युवा पुरुष की मौत के बाद में कब तक स्पर्म जिंदा रहते हैं.
शोध में यह पता भी लगाया जाएगा कि क्या स्पर्म को नि:संतान दंपति या मृत पुरूष की पत्नी को डोनेट कर संतानोत्पत्ति संभव है? यदि हां तो यह कैसे संभव होगा? भोपाल एम्स देश का पहला संस्थान होगा, जो इस तरह की रिसर्च करेगा. तीन साल तक चलने वाली इस रिसर्च की रिपोर्ट आईसीएमआर को सौंपी जाएगी. भारत में फिलहाल इस तरह के सवालों पर कोई रिसर्च नहीं हुई है. कुछ वेस्टर्न देशों में इसे लेकर गाइडलाइन बनाई जा चुकी हैं.

यह भी पढ़ें: Kashmir Files Controversy: खान सरनेम तकलीफ देता है, राजनीति में जा सकता हूं: आईएएस नियाज खान 

रिसर्च के लिए मिला 35 लाख रुपए का बजट

एम्स में इस रिसर्च के लिए फिलहाल तकनीकी उपकरण खरीदी की प्रक्रिया की जा रही है. आईसीएमआर ने 35 लाख रुपए का बजट भी स्वीकृत किया है. आईसीएमआर ने इस प्रोजेक्ट को वर्ष 2020 में ही मंजूरी दे दी थी, लेकिन कोरोना संक्रमण (Corona) के कारण प्रोजेक्ट जनवरी 2022 में शुरू हो सका है. एफएमटी डिपार्टमेंट के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. राघवेंद्र विदुआ, डॉ. अरनीत अरोरा और एडिशनल प्रोफेसर पैथोलॉजी डॉ. अश्वनि टंडन ने इस पर रिसर्च शुरू कर दी है. इसके लिए दो जूनियर रिसर्च फैलो भी लिए गए हैं.

यह भी पढ़ें: Gun license: मध्यप्रदेश में आर्म लाइसेंस होगा स्मार्ट, अवैध हथियारों की पहचान होगी आसान

रिसर्च की इसलिए पड़ी जरूरत

किसी सड़क हादसे में युवा व्यक्ति की जान चली गई, लेकिन परिवार उसी से अपने कुनबे को आगे बढ़ाना चाहता है. ऐसी परिस्थिति में मृत व्यक्ति के स्पर्म की मदद से संतानोत्पत्ति की जा सकेगी. वहीं, रिसर्च के लिए लिक्विड नाइट्रोजन सिलेंडर भी खरीदे जा रहे हैं. इससे वाजिब टेंपरेचर भी पहचाना जाएगा, जिस पर स्पर्म को जीवित और कारगर रखा जा सके. इस प्रोजेक्ट के बाद भोपाल एम्स में स्पर्म बैंक बनाने पर भी योजना बनाई जाएगी.

आपके शहर से (भोपाल)

मध्य प्रदेश

मध्य प्रदेश

Tags: AIIMS, Aiims doctor, AIIMS Study, ICMR



Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top