स्वास्थ्य

Health Tips: इन टिप्स से ब्रेस्ट कैंसर का जोखिम हो सकता है कम, अपनाएं ये 5 उपाय

चेस्ट पेन हो सकता है ब्रेस्ट कैंसर का संकेत ! इन लक्षणों को भूलकर भी न करें नजरअंदाज


हाइलाइट्स

एक स्वस्थ आहार ब्रेस्ट कैंसर के विकास के जोखिम को कम करने में मदद कर सकता है.
स्मोकिंग कई अन्य स्वास्थ्य जोखिमों के अलावा ब्रेस्ट कैंसर का कारण बनता है.
एक वर्ष या उससे अधिक समय तक ब्रेस्टफीडिंग कराने से ब्रेस्ट कैंसर का खतरा कम हो जाता है.

Steps to Prevent Breast Cancer: भारत में ब्रेस्ट कैंसर (Breast Cancer in India) के मामले लगातार बढ़ रहे हैं. इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के एक हालिया अध्ययन के अनुसार, साल 2025 तक ब्रेस्ट कैंसर के मामले प्रति वर्ष 2.32 लाख से अधिक हो सकते हैं. महिलाओं को किसी भी कीमत पर ब्रेस्ट कैंसर के लक्षणों को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए, और बीमारी के प्रारंभिक चरण में ठीक होने के लिए उपचार महत्वपूर्ण है. इसके साथ ही ब्रेस्ट कैंसर (Breast Cancer) को रोकने और जीवन की गुणवत्ता में सुधार के लिए उचित जांच भी आवश्यक है.

ब्रेस्ट कैंसर स्तन के किसी भी हिस्से में शुरू हो सकता है और महिलाओं में उच्च मृत्यु दर का कारण बन सकता है. विशेषज्ञ अक्सर सुझाव देते हैं कि शुरुआती जांच और पहचान से महिलाओं की जीवित रहने की दर में सुधार करने में मदद मिल सकती है. स्वस्थ वजन बनाए रखना हर किसी के लिए महत्वपूर्ण है. अधिक वजन होने से ब्रेस्ट कैंसर सहित कई कैंसर का खतरा बढ़ जाता है. नीचे बताए गए कुछ टिप्स को अपनाकर ब्रेस्ट कैंसर के जोखिम से बच सकते हैं.

स्वस्थ आहार जरूरी
एक स्वस्थ आहार ब्रेस्ट कैंसर के जोखिम को कम करने में मदद कर सकता है. शराब का सेवन कम करने की कोशिश करें और ढेर सारे फल और सब्जियां खाएं. विशेषज्ञों का सुझाव है कि कम शराब पीना भी ब्रेस्ट कैंसर के खतरे को बुलाने जैसा है.

स्मोकिंग से बचें
स्मोकिंग कई अन्य स्वास्थ्य जोखिमों के अलावा स्तन कैंसर सहित कम से कम 15 विभिन्न प्रकार के कैंसर का कारण बनता है. यदि आप स्मोकिंग करती हैं, तो इसे जल्द से जल्द छोड़ने का प्रयास करें. स्मोकिंग छोड़ने का निर्णय मुश्किल जरूर होता है, लेकिन काफी फायदेमंद होता है. इसका फैसला जितनी जल्दी हो लेना चाहिए.

कराएं ब्रेस्टफीडिंग
एक वर्ष या उससे अधिक समय तक ब्रेस्टफीडिंग (Breastfeeding)  कराने से स्तन कैंसर का खतरा कम हो जाता है. साथ ही यह बच्चे के स्वास्थ्य के लिए भी बेहद फायदेमंद है. ब्रेस्टफीडिंग संबंधी जानकारी के लिए अपने बाल रोग विशेषज्ञ, अस्पताल या स्थानीय स्वास्थ्य विभाग से संपर्क करना चाहिए.

अपने परिवार का इतिहास जानें
कैंसर के पारिवारिक इतिहास वाली महिलाओं को अतिरिक्त सावधानी बरतनी चाहिए. इसलिए महिलाओं के लिए अपने परिवार के इतिहास को समझना बेहद जरूरी है. यदि आपकी मां या बहन को स्तन या ओवरियन कैंसर है, तो आपको इसका अधिक खतरा है.

पढ़ें- हेल्दी बालों के लिए स्कैल्प को स्क्रब करना है बेहद जरूरी, जानिए इसके फायदे

मैमोग्राम स्क्रीनिंग
स्तन कैंसर के लिए मैमोग्राम स्क्रीनिंग से जान बच सकती है. यह कैंसर को रोकती नहीं है, लेकिन जब यह अधिक उपचार योग्य होता है, तो यह इसका जल्द पता लगाने में मदद कर सकती है. 40 वर्ष की आयु के बाद अधिकांश महिलाओं को वार्षिक मैमोग्राम स्क्रीनिंग करानी चाहिए. जिन महिलाओं को स्तन कैंसर का अधिक खतरा होता है, उन्हें पहले स्क्रीनिंग शुरू करने की आवश्यकता हो सकती है.

Tags: Cancer, Health, Lifestyle



Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top