स्वास्थ्य

Health news do you get tired before completing the exercise this reason came out in the study nav


Less Exercise can Increase Difficulties : क्या आपने कभी ऐसा महसूस किया है कि जितनी एक्सरसाइज या पुश-अप करने का आपने तय किया हो, उससे पहले ही ऐसी स्थिति बन जाती है कि आपको लगता है कि बस अब और नहीं, इतनी ही बहुत है…और उसके बाद आपके लिए एक भी पुश-अप करना मुश्किल हो जाता है? इस सवाल का जवाब इंग्लैंड की यूनिवर्सिटी ऑफ लीड्स (University of Leeds) के साइंटिस्टों द्वारा ब्रिटिश हार्ट फाउंडेशन (British Heart Foundation) के सहयोग से की गई एक स्टडी में दिया गया है. इस स्टडी में साइंटिस्टों ने पता लगाया है कि ब्लड फ्लो सेंसर का काम करने वाले पीजो-1 नामक प्रोटीन के निष्क्रिय होने से ये स्थिति पैदा होती है, इसमें होता क्या है कि मसल्स तक ब्लड पहुंचाने वाली कोशिकाओं (कैपलेरीज) का घनत्व कम होता है. और इस तरह सीमित ब्लड फ्लो के कारण एक्टिव रह पाना या फिजिकल एक्टिविटी को बनाए रखना ज्यादा मुश्किल हो जाता है और आप ये महसूस करने लगते हैं कि बस इतनी ही एक्सरसाइज बहुत है.

इस स्टडी का निष्कर्ष जर्नल ऑफ क्लिनिकल इन्वेस्टिगेशन (Journal of Clinical Investigation) में प्रकाशित किया गया है. रिसर्चर्स के अनुसार, ये निष्कर्ष इस बायोलॉजिकल प्रोसेस को समझने में मदद करता है कि एक्सरसाइज जितनी कठिन होती है, उसे उतना ही कम किया जा सकता है.

कैसे हुई स्टडी

इस स्टडी के दौरान चूहों पर प्रयोग किया गया है, जबकि पीजो1 प्रोटीन इंसानों में भी पाया जाता है. इससे ये कहा जा सकता है कि इंसानों में भी वही क्रियाएं होती होंगी. स्टडी के दौरान साइंटिस्टों ने चूहों को दो ग्रुपों में बांटा, एक कंट्रोल ग्रुप और दूसरा ग्रुप जिसका पीजो1 लेवल 10 हफ्ते तक अस्त-व्यस्त रखा गया. इन दोनों की तुलना करने पर पाया गया कि पीजो1 की अस्त-व्यस्तता वाले ग्रुप के चूहों के चलने-फिरने, भागदौड़ करने और अन्य फिजिकल एक्टिविटी पीजो1 के कम लेवल के साथ घट गई. इससे ये संकेत मिलता है कि सामान्य शारीरिक एक्टिविटी बनाए रखने में पीजो1 की बड़ी ही अहम भूमिका होती है.

यह भी पढ़ें-
संक्रमित के शरीर के विभिन्न हिस्सों में छिपे हो सकते हैं कई कोविड वेरिएंट- स्टडी

क्या कहते हैं जानकार
यूनिवर्सिटी ऑफ लीड्स में स्कूल ऑफ मेडिसिन के रिसर्चर और इस स्टडी के चीफ राइटर फियोना बार्टोली का कहना है कि एक्सरसाइज हमें कार्डियोवस्कुलर (हार्ट और धमनियों), डायबिटीज , डिप्रेशन और कैंसर जैसी बीमारियों से बचाती हैं. लेकिन दुर्भाग्यवश कुछ लोग अनेक कारणों से पर्याप्त एक्सरसाइज नहीं कर पाते हैं. ऐसी स्थिति लोगों रोगों का जोखिम और बढ़ा देती है. जो लोग कम एक्सरसाइज करते हैं वो लोग कम फिट रहते हैं और ये स्थिति बिगड़ती चली जाती है. हमारी स्टडी में फिजिकल एक्टिविटी और पीजो1 के लेवल पर फिजिकल परफोर्मेंस के बीच बड़ा ही अहम संबंध सामने आया है. एक्सरसाइज के जरिए पीजो1 को एक्टिव रखना हमारे फिजिकल परफोर्मेंस और हेल्थ के लिए अहम होता है.

यह भी पढ़ें-
Cholesterol Control Diet: कोलेस्ट्रॉल को कंट्रोल करने के लिए डाइट में शामिल करें ये 5 चीजें

इस स्टडी के एक अन्य राइटर प्रोफेसर डेविड बीच का कहना है कि हमारी स्टडी से ये पता चलता है कि रक्त नलिकाओं यानी ब्लड वेसल्स (blood vessels) पीजो1 की भूमिका किस तरह से फिजिकल एक्टिविटी से जुड़ी हैं. ब्लड वेसल्स के विकास में इसकी भूमिका की जो जानकारी है, लेकिन अडल्ट्स में ब्लड वेसल्स के रखरखाव में उसके योगदान की बहुत कम जानकारी है. ये स्टडी मसल्स के फंक्शन के नुकसान को बचाने का इलाज ढूंढने में मदद करेगा.

Tags: Fitness, Health, Health News, Lifestyle



Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top