स्वास्थ्य

Grey Hair treatment: क्या कम उम्र में बाल सफेद होने से रोका जा सकता है? अगर समय पर ये काम करें तो ऐसा मुमकिन है

Hair Care: कम उम्र में बदलने लगा है बालों का रंग तो न करें नजरअंदाज, इन 4 बातों पर दें ध्यान


हाइलाइट्स

कम उम्र में सफेद बाल के लिए अधिकांश मामलों में व्यक्ति खुद ही जिम्मेदार होते हैं
आमतौर पर कम उम्र में बाल सफेद होने का कारण मेलेनिन है

Natural way to reverse white hair: आजकल कम उम्र में बाल सफेद (white hair) होना आम बात बन गई है. अधिकांश युवाओं को कम उम्र में ही बाल सफेद होने लगे हैं. 30 की उम्र आते-आते अधिकांश युवाओं की दाढ़ी में भी कुछ बाल सफेद दिखने लगते हैं. कम उम्र में बाल सफेद होने के कई कारण है. सबसे पहला है जेनेटिक यानी अगर माता-पिता, दादा-दादी, नाना-नानी को यह बीमारी है तो बाल सफेद होने के चांस ज्यादा है. लेकिन जेनेटिक कारण बहुत कम लोगों में होता है. कम उम्र में बाल सफेद होने के सबसे ज्यादा कारण ये है कि लोगों की गतिहीन जीवनशैली हो गई है और खान-पान बहुत खराब हो गया है. यानी कम उम्र में सफेद बाल के लिए अधिकांश मामलों में व्यक्ति खुद ही जिम्मेदार होते हैं. इसलिए कम उम्र में बाल सफेद होने से रोकने के लिए यह जानना जरूरी है कि बाल सफेद होते क्यों हैं.

इसे भी पढ़ें-Hair loss Treatment: वैज्ञानिकों ने खोजा बाल उगाने का नया तरीका, अब गंजेपन से जल्द मिलेगी मुक्ति

बाल सफेद होने के कारण
आमतौर पर कम उम्र में बाल सफेद होने का कारण मेलेनिन है. मेलेनिन एक रंगद्रव्य है. यानी मेलेनिन के कारण ही बाल के रंग काले होते हैं. मेलेनिनन एक पिंगमेंट है जो आंख, बाल और स्किन की रंग और चमक को बनाए रखता है. जब शरीर में मेलेनिन कम बनने लगे या मेलेनिन की कमी होने लगे तो बालों का रंग सफेद होने लगता है. शरीर में जितना अधिक मेलेनिन रहेगा, बालों का रंग उतना ही गहरा काला होगा. मेलेनिन स्किन, आई और बाल में पिग्मेंटेशन प्रदान करता है. यह सूरज से निकले हानिकारक अल्ट्रावायलेट किरणों से रक्षा करता है. यह सूरज की रोशनी के कारण क्षतिग्रस्त होने वाले हेयर सेल्स को रोकता है.

मेलेनिन को शरीर में बढ़ाया जा सकता है
मैनएक्सपी के मुताबिक https://www.mensxp.com/grooming/beards-and-shaving/83268-grey-beard-treatment.html कुछ तरीकों को अपनाकर शरीर में मेलेनिन को बढ़ाया जा सकता है. कुछ एसेंशियल ऑयल है जिसके इस्तेमाल से मेलेनिन को बढ़ाया जा सकता है और बालों को सफेद होने से रोका जा सकता है. लेकिन इसके लिए सिर्फ तेल ही काफी नहीं है. बालों को सफेद होने से रोकने के लिए हेल्दी डाइट जरूरी है और बुरी आदतों को छोड़ना अनिवार्य है. इसके लिए सिगरेट, शराब को हमेशा के लिए बाय कहना होगा. इसके साथ ही तनाव, चिंता, अवसाद मेलेनिन को घटाने का सबसे बड़ा कारण है. इसलिए तनाव, चिंता, अवसाद को दूर करना होगा.

हेल्दी डाइट लेना जरूरी
कम उम्र में बालों को सफेद होने से रोकने के लिए एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर चीजों को डाइट में शामिल करना होगा. विटामिन बी 12 की कमी से आमतौर पर बाल सफेद होते हैं. इसलिए अपने भोजन में विटामिन बी 12 से भरपूर डाइट को शामिल करें. विटामिन बी 12 की कमी को मोटा अनाज या अंकुरित अनाज, डेयरी प्रोडक्ट, हरी पत्तीदार सब्जियों, मीट आदि से पूरी की जा सकती है. इसके अलावा विटामिन सी, डी और ई की भी जरूरत होती है. इसके लिए संतरे, आंवला, पालक, जामुन, स्ट्रॉबेरी, गाजर, टूना मछली, सूरजमुखी के बीज, रागी, अलसी के बीज, पंपकिन सीड्स आदि का सेवन करना चाहिए.

इन चीजों से भी कर सकते हैं बाल काले

  • करी पत्ता और बटर मिल्क को कुछ देर तक गर्म करें और इसे दाढ़ी या बाल में लगाए. 10 मिनट बाद गुनगुने पानी से धो लें.
  • एलोवेरा जेल और घी से बालों में मसाज करें. इससे सफेद बाल काले होने लगेंगे.
  • करी पत्ता और नारियल तेल को हल्की आंच पर गर्म करें और इसे ठंडा कर बालों में लगाएं.
  • नारियल तेल और आंवले को 2-3 मिनट तक गर्म करें और इसे ठंडा कर बालों में 15 मिनट के लिए लगाएं. बाल काले होने लगेंगे.
  • इसके अलावा भृगुराज तेल से भी मदद मिलेगी. बाजार में कई तरह के भृगुराज तेल उपलब्ध होते हैं.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle



Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top