स्वास्थ्य

Covid-19 India: क्या भारत में एक बार फिर कहर बरपाएगा कोरोना वायरस? एक्सपर्ट्स ने कही यह बात

Covid-19 India: क्या भारत में एक बार फिर कहर बरपाएगा कोरोना वायरस? एक्सपर्ट्स ने कही यह बात


हाइलाइट्स

जानकारों के मुताबिक कोविड का नया वैरिएंट बेहद तेजी से संक्रमण फैला सकता है.
इससे बचने के लिए लोगों को कोविड प्रोटोकॉल्स का सख्ती से पालन करना चाहिए.

Covid-19 Variant BF.7 In India: पिछले कई दिनों से चीन (China) में लाखों लोगों को अपना शिकार बना चुके कोविड-19 के नए वैरिएंट Omicron BF.7 ने भारत (India) में भी दस्तक दे दी है. यह वैरिएंट बेहद खतरनाक माना जा रहा है और इससे संक्रमण की रफ्तार बेहद तेजी से बढ़ सकती है. अब लोगों को एक बार कोरोना के कहर की चिंता सता रही है. नए खतरे को देखते हुए केंद्र सरकार भी एक्टिव हो गई है और इससे निपटने के उपाय किए जा रहे हैं. अब सवाल उठता है कि क्या कोविड-19 का नया वैरिएंट भारत में कोरोना की नई लहर ला सकता है? क्या इससे हालात एक बार फिर भयावह हो सकते हैं? इस पर हेल्थ एक्सपर्ट्स की राय जान लेते हैं.

तेजी से फैल सकता है नया वैरिएंट

नई दिल्ली के सर गंगाराम हॉस्पिटल के प्रीवेंटिव हेल्थ डिपार्टमेंट की डायरेक्टर डॉ. सोनिया रावत कहती हैं कि कोरोनावायरस समय-समय पर म्यूटेट हो रहा है और नए वैरिएंट निकलकर सामने आ रहे हैं. कोरोना का नया वैरिएंट ज्यादा तेजी से फैल सकता है और सीवियर इलनेस की वजह बन सकता है. हो सकता है कि अगले कुछ सप्ताह में भारत में संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी हो जाए, लेकिन अगर सावधानी बढ़ती जाए तो हालात को वक्त रहते कंट्रोल किया जा सकता है. भारत में बड़े पैमाने पर वैक्सीनेशन हो चुका है, इसलिए नए वैरिएंट के घातक होने की संभावना कम है. हालांकि वैक्सीन नई वैरिएंट पर कितना असर करेगी, इस पर कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी. फिलहाल सभी को सतर्क रहने की जरूरत है.

यह भी पढ़ें- कम उम्र में हो रहे हैं सफेद बाल? डॉक्टर ने बताए इससे बचने के 5 तरीके

आपके शहर से (दिल्ली-एनसीआर)

राज्य चुनें

दिल्ली-एनसीआर

राज्य चुनें

दिल्ली-एनसीआर

फिर आ सकती है कोरोना की लहर

दिल्ली मेडिकल एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष और एनडीएमसी के रिटायर्ड सीएमओ डॉ. अनिल बंसल की मानें तो नए वैरिएंट ने भारत में कोरोना की नई लहर के खतरे को बढ़ा दिया है. आजकल इंटरनेशनल ट्रैवलिंग की वजह से एक देश से दूसरे देश में वायरस आसानी से पहुंच जाता है. शुरुआत में 5-7 दिनों तक इसके लक्षण नजर नहीं आते, लेकिन यह लोगों को संक्रमित करता रहता है. वैक्सीन की बात करें तो नए वैरीएंट पर वैक्सीन का असर काफी कम हो जाता है, लेकिन इसका सही अंदाजा रिसर्च के बाद ही लग सकेगा. भारत में अगर मामले बढ़ते हैं तो हालात गंभीर हो सकते हैं, क्योंकि अचानक मामले बढ़ने से हेल्थ सिस्टम चरमरा जाता है. एक जरूरी बात यह भी है कि कोविड से संक्रमित होने पर लोगों को क्वालिफाइड डॉक्टर से ही इलाज कराना चाहिए, वरना संक्रमण बुरी तरह फैल सकता है.

यह भी पढ़ें- सर्दियों में हार्ट अटैक से बचने के लिए अपनाएं ये 6 तरीके, स्वस्थ रहेगा दिल 

ऐसे लोगों को नए वैरिएंट से सबसे ज्यादा खतरा

डॉक्टर्स का कहना है कि कोरोना के नए वैरिएंट से उन लोगों को सबसे ज्यादा खतरा है, जो डायबिटीज, ब्लड प्रेशर, एचआईवी या अन्य गंभीर बीमारियों से जूझ रहे हैं. दमा, सांस या अन्य रेस्पिरेटरी डिजीज वाले लोगों के लंग्स में पहुंचकर यह वायरल सीवियर कंडीशन पैदा कर सकता है. इसलिए कमजोर इम्यूनिटी और बीमारियों से जूझ रहे लोगों को खास ख्याल रखना चाहिए. अगर किसी ने वैक्सीन की बूस्टर डोज नहीं लगवाई, तो जल्द से जल्द यह डोज लगवाकर खुद की सुरक्षा मजबूत करनी चाहिए.

यूनिवर्सल प्रिकॉशन ही टाल सकते हैं खतरा

एक्सपर्ट्स की मानें तो लोगों को नए वैरिएंट को लेकर अभी से सावधानी बरतनी होगी, वरना हालात भयावह हो सकते हैं. अगले कुछ दिनों में क्रिसमस और नए साल की पार्टी होंगी, जिनमें भीड़भाड़ से वायरस फैलने का खतरा ज्यादा है. इससे बचने के लिए लोगों को मास्क लगाना होगा, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा और भीड़भाड़ वाली जगहों से दूर रहना होगा. पहले की तरह कोविड नियमों का सख्ती से पालन करके नई लहर को रोका जा सकता है. अगर इन चीजों में लापरवाही बरती गई, तो संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ जाएगा.

Tags: Coronavirus, Covid-19 in India, Covid19, Health, Lifestyle, Trending news



Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top