स्वास्थ्य

Benefits of Turmeric Tea: इम्यूनिटी बढ़ाने से लेकर सेहत को कई लाभ पहुंचाती है हल्दी की चाय, यूं बनाएं

Benefits of Turmeric Tea: इम्यूनिटी बढ़ाने से लेकर सेहत को कई लाभ पहुंचाती है हल्दी की चाय, यूं बनाएं


Benefits of Turmeric Tea: हल्दी वाला दूध तो आप हेल्दी रहने के लिए पीते हैं, लेकिन कभी हल्दी वाली चाय पी है. यदि हल्दी वाली चाय अब तक पीकर नहीं देखे हैं, तो जरूर पिएं. हल्दी (Turmeric) ना सिर्फ कई तरह के रोगों, इंफेक्शन से बचाती है, बल्कि त्वचा को संवारने, निखारने का काम भी करती है. हल्दी वाली चाय पीने के फायदों की (Turmeric tea) बात की जाए, तो यह इंफ्लेमेशन कम करती है, नींद की गुणवत्ता में सुधार लाती है. साथ ही मुंहासे की समस्या से भी छुटकारा मिल सकता है. यह चाय लिवर और हार्ट को हेल्दी रखती है. आइए जानते हैं हल्दी वाली चाय पीने के अन्य सेहत लाभ (Haldi ki Chai ke Fayde) और इसे बनाने का तरीका क्या तरीका क्या है.

इसे भी पढ़ें: कच्ची हल्दी के हैं ढेरों फायदे, इस्तेमाल से मिलेंगे ये नतीजे

हल्दी की चाय में मौजूद न्यूट्रिशनल वैल्यू
वेबएमडी में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार, एक चम्मच पिसी हुई हल्दी से तैयार एक कप हल्दी वाली चाय में कई तरह के पौषक तत्व मौजूद होते हैं. इसमें कैलोरी 8, प्रोटीन 0 ग्राम, फैट 0 ग्राम, फाइबर 0 ग्राम, शुगर की मात्रा 0 ग्राम और कार्बोहाइड्रेट्स 1 ग्राम होता है. जहां तक हल्दी में मौजूद पोषक तत्वों की बात है, तो इसमें विटामिन बी3, बी6, सी, कॉपर, आयरन, पोटैशियम, जिंक होते हैं, वहीं इसकी जड़ों में फ्लोवोनॉएड्स, बीटा-कैरोटीन, करक्युमिन होते हैं. ये सभी शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट्स कई तरह के क्रोनिक डिजीज और इंफ्लेमेशन के रिस्क को कम करते हैं.

हल्दी वाली चाय पीने के फायदे

  • हल्दी में मौजूद करक्युमिन कम्पाउंड इंफ्लेमेशन को कम करने में मदद करता है. यदि आपको जोड़ों में दर्द, गठिया का दर्द, सूजन हो तो आप हल्दी वाली चाय का सेवन करें. करक्युमिन एक शक्तिशाली एंटी-इंफ्लेमेटरी तत्व है, जो ऑस्टियोअर्थराइटिस के दर्द को दूर करने में कारगर है.
  • करक्युमिन में एंटी-कैंसर गुण होते हैं, जो कई तरह के कैंसर के होने के खतरे को कम कर सकते हैं. त्वचा, बाउल, स्तन, पेट आदि कैंसर से बचे रहने के लिए डाइट में नियमित रूप से शामिल करें हल्दी वाली चाय.
  • कुछ अध्ययनों से ये भी पता चला है कि करक्युमिन ब्लड शुगर लेवल को भी कम करता है. साथ ही डायबिटीज से संबंधित कई तरह के जोखिम को दूर करता है. आप हल्दी वाली चाय या फिर प्रतिदिन हल्दी को अपने भोजन में शामिल करके भी डायबिटीज को मैनेज कर सकते हैं. करक्युमिन इंसुलिन के निर्माण में मदद करता है. डायबिटीज में लिवर संबंधित समस्याएं होना आम है, ऐसे में हल्दी की चाय पीकर इससे बच सकते हैं.

इसे भी पढ़ें: Side Effects of Turmeric: ज्यादा हल्दी का सेवन नुकसान भी पहुंचा सकता है, जानिए कारण

  • रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए भी आप हल्दी वाली चाय का सेवन कर सकते हैं. इसमें मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी तत्व इम्यूनिटी को मजबूत करते हैं. प्रतिदिन या सप्ताह में दो से तीन बार भी आप हल्दी वाली चाय का सेवन करके इम्यून सिस्टम को स्ट्रॉन्ग बनाए रख सकते हैं, जिससे कई संक्रामक बीमारियों के होने का खतरा भी कम होता है.

हल्दी वाली चाय बनाने का तरीका
आप हल्दी वाली चाय हल्दी पाउडर से बना सकते हैं या फिर साबुत सूखी हल्दी को पीसकर भी चाय में इस्तेमाल कर सकते हैं. 2 कप पानी में 1 छोटी चम्मच हल्दी पाउडर डालें. इसे गैस पर रख कर 5 से 10 मिनट के लिए उबलने दें. गैस से उतारकर इसे कप में छान लें. हल्का ठंडा हो जाए, तो इसमें स्वाद लाने के लिए शहद, काला नमक, काली मिर्च पाउडर, अदरक का रस, नींबू का रस भी मिला सकते हैं. शहद, अदरक, नींबू, काली मिर्च मिलाने से इस चाय की पौष्टिकता और भी अधिक बढ़ जाएगी.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle



Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top