स्वास्थ्य

Ayurvedic Remedies of Fever: इन आसान आयुर्वेदिक उपायों से घर में करें बुखार कम

Ayurvedic Remedies of Fever: इन आसान आयुर्वेदिक उपायों से घर में करें बुखार कम


Ayurvedic Remedies of Fever: कोरोना (Corona) हो या फिर मौसम में बदलाव, अक्सर लोगों को बुखार हो ही जाता है. जब शरीर का तापमान 98.6° फारेनहाइट से ऊपर होता है, तो यह आमतौर पर बुखार (What is Fever) कहलाता है. बुखार होने पर शरीर में दर्द, सिर में दर्द, थकान, चक्कर आना, ठंड या कपकपी लगना, भूख ना लगना, मांसपेशियों में ऐंठन, शारीरिक ऊर्जा में कमी आदि लक्षण (Symptoms of Fever) नजर आते हैं. सबसे ज्यादा लोग वायरल फीवर से ग्रस्त होते हैं. यह 3 से 7 दिनों तक बना रह सकता है. इसमें व्यक्ति शारीरिक रूप से बेहद कमजोरी महसूस करने लगता है. कई बार शरीर का तापमान 102 से 103 डिग्री पहुंच जाता है और दवा खाने के बाद भी तापमान कम ना हो, बिना देर किए डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए. हो सकता है किसी अन्य रोग के कारण बार-बार तेज बुखार हो रहा हो. बॉडी टेम्परेचर इसलिए भी बढ़ता है, जब शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली (Immunity) कई तरह के बैक्टीरिया, वायरस से लड़ने के लिए मेहनत करता है. बुखार होने पर आप शरीर के तापमान को इन आयुर्वेदिक उपायों (Ayurvedic Treatment of Fever) से कम कर सकते हैं.

इसे भी पढ़ें: जानिए बुखार में क्यों बढ़ जाता है हमारे शरीर का तापमान

बुखार ठीक करने के आयुर्वेदिक उपाय

  • सार्थक आयुर्वेदालय एवं पंचकर्मा केंद्र (मथुरा) के पंचकर्मा विशेषज्ञ और आयुर्वेदाचार्य डॉ. अंकुर अग्रवाल कहते हैं आयुर्वेद के अनुसार, जब हमारे पेट की पाचनशक्ति कमजोर हो जाती है और हमें भूख नहीं लगती, फिर भी हम खाना खा लेते हैं, तो इससे हमारी भूख पूरी तरह से खत्म हो जाती है. इसी कारण से बुखार आ जाता है. हालांकि, यह अधिक गंभीर बुखार नहीं होता है.
  • जब शरीर का तापमान बहुत अधिक हो लगभग 101 डिग्री फारेनहाइट से ऊपर, तब माथे पर ठंडे पानी की पट्टी रखने से बुखार कम होने लगता है. जब शरीर का तापमान बढ़ता है, तो वह सिर और हृदय पर अटैक करता है. ठंडे पानी की पट्टी रखने से हमारा सिर और हृदय सुरक्षित रहेगा.

इसे भी पढ़ें: मौसमी बुखार बच्‍चों के लिए क्‍यों हो रहा है जानलेवा, बता रहे हैं विशेषज्ञ

  • जब अधिक बुखार हो तो चंदन घिसकर मरीज के नाभि और पैरों के तलवों पर लगाना चाहिए. इसे बुखार धीरे-धीरे कम होने लगता है.
  • कभी भी पंखे की हवा में ना सोएं. हमेशा बुखार होने पर कंबल ओढ़कर लेटना चाहिए, जिससे शरीर में पसीना आने से बुखार कम हो सकता है.
  • बुखार में हमेशा लघन करना सबसे बेहतरीन उपचार माना गया है. लघन यानी लघु आहार का सेवन करना. बुखार जब भी हो तो खाना बहुत हल्का और सुपाच्य खाएं. बहुत अधिक हेवी, तेल-मसालेदार चीजों का सेवन ना करें. दरअसल, बुखार कमजोर पाचनशक्ति के कारण आता है, इसलिए हल्का भोजन करने से पाचनशक्ति में जल्दी सुधार आ सकता है, जिससे पाचनतंत्र को बल मिलता है.
  • तुलसी, अदरक, लहसुन आदि के सेवन से भी बुखार कम कर सकते हैं. तुलसी का काढ़ा या फिर तुलसी वाली चाय पीने से बुखार में आराम मिलता है. यह शरीर के तापमान को कम करती है, इंफेक्शन से लड़ती है. तुलसी में एंटीबैक्टीरियल, एंटीवायरल तत्व होते हैं, जो रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाते हैं.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle



Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top