स्वास्थ्य

Asthma care: सर्दी में अस्थमा के मरीजों को हार्ट अटैक और स्ट्रोक का खतरा ज्यादा, ऐसे करें बचाव

Asthma care: सर्दी में अस्थमा के मरीजों को हार्ट अटैक और स्ट्रोक का खतरा ज्यादा, ऐसे करें बचाव


हाइलाइट्स

शोध में पाया कि जिन लोगों में लगातार अस्थमा की शिकायत थी, उनके खून में सूजन का लेवल बहुत बढ़ गया.
धमनियों में सूजन के कारण हार्ट अटैक और स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है.

Risk of heart attack in asthma: सर्दी में अस्थमा के मरीजों के लिए परेशानी बढ़ जाती है. अब तक अस्थमा के लिए कोई मुकम्मल इलाज नहीं है लेकिन परहेज, इनहेलर और कुछ दवाइयों से इस बीमारी को कंट्रोल किया जा सकता है. लेकिन अगर सही से देखभाल न किया जाए तो अस्थमा के कारण वयस्कों में हार्ट अटैक और स्ट्रोक का जोखिम बढ़ जाता है. यह बात एक अध्ययन में सामने आई है. अध्ययन में कहा गया कि जो लोग अस्थमा की गंभीर बीमारी से जूझ रहे हैं और इसके लिए दवाइयां ले रहे हैं, उन्हें हार्ट अटैक और स्ट्रोक का जोखिम ज्यादा है. अध्ययन में शोधकर्ताओं ने पाया कि जिन लोगों में लगातार अस्थमा की शिकायत थी, दवाइयां लेने के बावजूद उनके खून में सूजन का लेवल बहुत बढ़ गया.

इसे भी पढ़ें- Winter workout: सर्दी में खुद को फिट रखना चाहते हैं तो ये वर्कआउट करें, एक्सपर्ट ने बताए बॉडी मजबूत करने के टिप्स

कैरोटिड आर्टरी में प्लैक
यूपीआई  न्यूज वेबसाइट के मुताबिक खून में सूजन के बढ़ा हुए स्तर कार्डियोवैस्कुलर सिस्टम पर बहुत ही बुरा असर डालता है. इस कारण खून की नलियों में चिपचिपा पदार्थ प्लैक का जमावड़ा होने लगता है जो हार्ट पर अनावश्यक दबाव बढ़ाता है और कैरोटिड आर्टरी को ब्लॉक करने लगता है. कैरोटिड आर्टरी से खून दिमाग में पहुंचता है. अध्ययन में शामिल लोगों में से 67 प्रतिशत अस्थमा के मरीजों के कैरोटिड आर्टरी में प्लैक पाया गया जबकि बिना अस्थमा या मामूली अस्थमा वाले लोगों में यह 50 प्रतिशत तक ही देखा गया.

अधिकांश डॉक्टरों को भी पता नहीं
यह अध्ययन अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन जर्नल में प्रकाशित हुआ है. अध्ययन के मुताबिक जो लोग लगातार अस्थमा से पीड़ित थे उनमें दो कैरोटिड प्लैक थे जबकि अन्य में सिर्फ एक. इस अध्ययन के प्रमुख शोधकर्ता डॉ मैथ्यू सी टेटरसॉल ने बताया कि अधिकांश डॉक्टर और मरीजों को इस बारे में पता नहीं रहता है कि अस्थमा के गंभीर मरीजों की धमनियों में सूजन आ सकती है. इसलिए यह अध्ययन उन लोगों के लिए काफी महत्वपूर्ण है जिन लोगों को लगातार अस्थमा की शिकायत रहती है. धमनियों में सूजन के कारण हार्ट अटैक और स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है. इस कारण डॉक्टर अब उन्हें पहले से आगाह करेंगे ताकि समय पर बचाव किया जा सके.

अस्थमा की गंभीरता से बचने के उपाय
अस्थमा के मरीजों को हमेशा अपने पास इनहेलर रखना चाहिए. इसके अलावा डॉक्टर से हमेशा सलाह लेते रहे. अस्थमा के मरीजों को हमेशा स्टेरॉयड की दवा भी साथ रखनी होती है. अस्थमा के मरीजों को धूल-मिट्टी, सर्दी से बचना होता है. इसलिए सर्दी के मौसम में बाहर जाने से यथासंभव बचें.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle



Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top