स्वास्थ्य

4 Tips for stress free life: खुशियों को हां तनाव को ना! इन 4 एक्टिविटी से जिएं तनावमुक्त जीवन

अपको महसूस होते हैं ये शारीरिक बदलाव तो रहे सावधान, एंग्जायटी से हो सकते हैं पीड़ित


हाइलाइट्स

योग-आधारित ध्यान का अभ्यास तनाव के दौरान आपकी काफी मदद कर सकता है.
दैनिक रूप से डायरी लिखना सकारात्मक विश्वास प्रणालियों को मजबूत करता है.
आभार व्यक्त करने की भावना में तनाव को नियंत्रण करने की शक्ति होती है.

4 Tips for stress free life: यदि आप इस सवाल का जवाब ढूंढ रहे हैं कि तनाव (stress) में रहने के बाद भी अपने संबंध (relationship) दूसरों के साथ कैसे विकसित करें, तो यह खबर आपके काम की है. अक्सर देखा जाता है कि नौकरी के दबाव, वित्तीय अस्थिरता, व्यक्तिगत चिंताओं या स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के कारण लोग तनावग्रस्त हो जाते हैं. मानसिक स्वास्थ्य पेशेवरों (Mental Health Professionals) के अनुसार, तनाव बुरा नहीं है लेकिन यह शक्तिशाली है और यह इंगित करता है कि कुछ बदलने की जरूरत है. इसके साथ ही यह इशारा करता है कि कुछ कार्रवाई करने की भी जरूरत है. तो हम बताने जा रहे हैं कि कैसे तनाव के दौरान आप दूसरों के साथ अपने संबंध बेहतर कर सकते हैं.

योग-आधारित ध्यान का अभ्यास करें: योग-आधारित ध्यान का अभ्यास सहानुभूतिपूर्ण और पैरासिम्पेथेटिक तंत्रिका तंत्र को सक्रिय करता है. साथ ही सांस लेने, शरीर की चेतना, चयनात्मक जागरूकता और विज़ुअलाइज़ेशन जैसी तकनीकों के साथ एकीकृत ध्यान के तौर-तरीके न केवल मानसिक स्वास्थ्य की स्थिति को बेहतर करते हैं बल्कि जीवन की गुणवत्ता में भी सुधार करते हैं.

डायरी लिखें: दैनिक रूप से डायरी लिखना सकारात्मक विश्वास प्रणालियों को मजबूत करने और न्यूरोपैथवे बनाने का एक अविश्वसनीय तरीका है जो आपकी उच्चतम क्षमता को प्रकट करने में मदद करता है. शुद्ध इरादे और भावना के साथ दैनिक आधार पर अपने तत्काल, मध्यावधि और दीर्घकालिक लक्ष्यों का विवरण देखें और लिखें, यह तनाव को नियंत्रण करने में मदद करता है.

आभार व्यक्त करें: आभार व्यक्त करने की भावना में तनाव को नियंत्रण करने की शक्ति होती है. दिन में आपके द्वारा अनुभव की गई छोटी-छोटी चीजों के लिए आभार व्यक्त करने का अभ्यास करें, और वह सब जो आपको सीखने, बढ़ने और विकसित होने में मदद करता है. यह आपको अपनी ताकत और क्षमताओं का निर्माण करने में सक्षम करेगा.

पढ़ें- अनुलोम-विलोम करते समय कहीं आप भी तो नहीं कर रहे ये गलतियां, एक्सपर्ट से जानें क्या है सही तरीका

जागरूकता लाएं: अपने विचारों, शब्दों और कार्यों के प्रति सचेत रहें. यहां तक कि जब आप बैठते हैं, खाते हैं या बोलते हैं, तब भी जागरूकता लाएं. दिन में कम से कम एक एक्टिविटी पूरे ध्यान से करें. वर्तमान पर ध्यान दें और अपने जीवन में एक सक्रिय प्रेरणा शक्ति बनें. उद्देश्यपूर्ण जीवन जिएं और जीवन को अपने आप ही न होने दें.

Tags: Health, Life, Mental health



Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top