स्वास्थ्य

28 मई को हर साल मनाई जाती है ‘विश्व मासिक धर्म स्वच्छता दिवस’, जानें इसका इतिहास और महत्‍व

28 मई को हर साल मनाई जाती है 'विश्व मासिक धर्म स्वच्छता दिवस', जानें इसका इतिहास और महत्‍व


World Menstrual Hygiene Day 2022: ‘विश्व मासिक धर्म स्वच्छता दिवस’ यानी ‘वर्ल्ड मेन्सट्रुअल हाइजीन डे 2022’ हर साल 28 मई को मनाया जाता है. इसका मकसद महिलाओं को माहवारी के दौरान साफ-सफाई के महत्‍व को समझाना है. गांव और शहरों में रहने वाली लाखों महिलाएं आज भी इससे जुड़ी कई ज़रूरी जानकारियों से अंजान हैं और उन्‍हें पता भी नहीं कि उनकी थोड़ी सी लापरवाही उन्‍हें हेपेटाइटिस बी, सर्वाइकल कैंसर, योनी संक्रमण जैसी गंभीर बीमारियों की तरफ धकेल सकता है. इसका असर महिलाओं पर शारीरिक ही नहीं, मानसिक रूप से भी लंबी उम्र तक परेशान कर सकता है.

विश्व मासिक धर्म स्वच्छता दिवस का महत्‍व
‘विश्व मासिक धर्म स्वच्छता दिवस’ मनाने का उद्देश्‍य युवा लड़कियों और महिलाओं को माहवारी के दौरान स्‍वच्‍छता का ध्‍यान रखने संबंधी ज़रूरी जानकारियां मुहैया कराना है, जिससे वे अंजाने में किसी जानलेवा बीमारी की चपेट में ना आ जाएं.

इसे भी पढ़ें: Aging tips for women: लंबी उम्र तक जीने के लिए महिलाएं जरूर करें ये 5 काम, दूर रहेंगी बीमारियां

विश्व मासिक धर्म स्वच्छता दिवस का इतिहास
सबसे पहले मासिक धर्म स्वच्छता दिवस मनाने की शुरुआत साल 2014 में जर्मनी के वॉश यूनाइटेड नाम के एक एनजीओ ने की थी. हर साल 28 मई को ही ये दिन सेलिब्रेट किया जाता है. दरअसल, इस दिन को चुनने के पीछे भी एक वजह है. आमतौर पर ज्यादातर महिलाओं के पीरियड्स साइकिल 28 दिनों के होते हैं. यही वजह है कि 28 तारीख को ही इस दिन को मनाने के लिए चुना गया.

इसे भी पढ़ें : Pregnancy Tips: प्रेग्‍नेंसी में मॉर्निंग सिकनेस से बचने के लिए अपनाएं ये टिप्स

इसलिए है ये खास
दरअसल, दुनियाभर में अभी भी कई ऐसे समाज हैं जहां महिलाएं इस पर खुलकर बात नहीं कर पातीं. ऐसे में पीरियड्स के दौरान किन बातों को ध्‍यान रखना है या किसी तरह की समस्‍या का कारण क्‍या है, साफ- सफाई के सहारे किन बीमारियों से बचा जा सकता है आदि जानकारियां उन्‍हें कभी मिल ही नहीं पाती. ऐसे में इस दिवस के मौके पर एक माहौल बनाने की कोशिश की जाती है कि लोगों को ये बताया जा सके कि मासिक धर्म कोई अपराध नहीं, बल्कि ये एक सामान्य शारीरिक प्रक्रिया है. जिस पर घर और समाज में खुलकर बात करने की ज़रूरत है, जिससे महिलाओं और बच्चियों को गंभीर और जानलेवा बीमारियों से बचाया जा सके. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

Tags: Health, Lifestyle



Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top