स्वास्थ्य

सुबह-सुबह प्रकृति की आवाजें सुनना मानसिक स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद- स्टडी

सुबह-सुबह प्रकृति की आवाजें सुनना मानसिक स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद- स्टडी


Benefits of Nature’s Sound For Health: आजकल के बिजी लाइफस्टाइल में अपनी फिजिकल और मेंटल हेल्थ की देखभाल करना बहुत जरूरी है. एक्सपर्ट्स हमेशा से ही फिजिकल एक्टिविटी और मेडिटेशन की सलाह देते रहते हैं. लेकिन अब एक नई स्टडी में पता चला है कि प्रकृति की आवाज़ (Nature’s Sound) लोगों के मानसिक स्वास्थ्य को ठीक रखने में मदद कर सकती है. इस स्टडी के लिए बीबीसी सीरीज़ फ़ॉरेस्ट 404 (BBC series Forest 404) के हिस्से के रूप में 7,500 से अधिक लोगों से डाटा एकत्र किया गया था. बीबीसी सीरीज़ फ़ॉरेस्ट 404  एक पॉडकास्ट है, जिसमें प्रकृति के बिना दुनिया को दर्शाया गया है. स्टडी में पाया गया कि प्रतिभागियों ने बर्डसॉन्ग (Birdsong) की आवाज से तनाव और मानसिक थकान से राहत मिलने की सूचना दी.

यूनिवर्सिटी ऑफ एक्सेटर (University of Exeter) के प्रमुख रिसर्चर एलेक्स स्माली (Alex Smalley) का कहना है, “लॉकडाउन ने लोगों की अपने आसपास की प्राकृतिक ध्वनियों को फिर से खोजने में मदद की. हमारे निष्कर्ष बताते हैं कि इन अनुभवों को महसूस करना मेंटल हेल्थ और संरक्षण (Conservation) व्यवहार दोनों के लिए फायदेमंद हो सकता है.”

एलेक्स स्माली (Alex Smalley)  आगे कहते हैं, “अगर हम भविष्य में प्रकृति के स्वास्थ्य लाभों का दोहन करने की उम्मीद करते हैं, तो हमें यह सुनिश्चित करने की ज़रूरत है कि आज हर किसी के पास प्राकृतिक दुनिया के साथ सकारात्मक अनुभवों को बढ़ावा देने के अवसर हों,” उन्होंने आगे कहा कि “लहरों या बारिश जैसी परिदृश्य ध्वनियों को सुनने से चिकित्सीय प्रभावों की सूचना मिली थी.”

यह भी पढ़ें-
Ayurvedic Remedies of Fever: इन आसान आयुर्वेदिक उपायों से घर में करें बुखार कम

क्या कहते हैं जानकार
इस बारे में  गुरुग्राम के फोर्टिस मेमोरियल रिसर्च इंस्टीट्यूट में मेंटल हेल्थ और बिहेवियर साइंस की प्रमुख डॉ कामना छिब्बर ने हेल्थशॉट्स से बात की, कि प्रकृति की आवाज़ किसी के मानसिक स्वास्थ्य को कैसे लाभ पहुंचा सकती है.

यह भी पढ़ें-
डेली लाइफ की इन 5 अनहेल्दी आदतों से बढ़ सकता है कैंसर होने का रिस्क

कामना छिब्बर के अनुसार, प्रकृति का व्यक्ति के मेंटल हेल्थ और वल्फेयर (कल्याण) पर एक मजबूत पॉजीटिव इफेक्ट पड़ता है. ये केवल प्रकृति की निकटता के बारे में नहीं है, ये प्राकृतिक पर्यावरण की गुणवत्ता के बारे में भी है और किसी भी व्यक्ति के लिए जब वे प्रकृति के बीच समय बिताते हैं, प्रकृति की आवाज़ें सुनते हैं, चाहे वह पेड़ के पत्तों की सरसराहट, पक्षियों का चहकना या जानवरों की आवाज़ हो, ये हमारी मेंटल हेल्थ और ओवरऑल वेल्फेयर में मददगार होती हैं. ये तो आपने भी महसूस किया होगा कि जब आप प्रकृति के बीच में होते हैं, तो ये आपको खुशी और आनंद की भावनाओं की ओर ले जाता है, खासकर उन लोगों के लिए जो बाहर रहना पसंद करते हैं .

Tags: Health, Health News, Lifestyle, Mental health



Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top