स्वास्थ्य

साइंटिस्टों ने बनाया नया MRI टूल, कैंसर का पता लगाने में मिलेगी मदद – स्टडी

साइंटिस्टों ने बनाया नया MRI टूल, कैंसर का पता लगाने में मिलेगी मदद - स्टडी


New MRI tool will help in detecting cancer : कनाडा की यूनिवर्सिटी ऑफ वाटरलू (University of Waterloo) के रिसर्चर्स की टीम ने हाल ही में एक ऐसा मैग्नेटिक रेजोनेंस इमेजिंग (MRI) टूल विकसित किया है, जिसमें कैंसर ग्रस्त ऊतक (tissue) सामान्य या स्वस्थ ऊतक से ज्यादा चमकने लगते हैं. इससे डॉक्टरों को कैंसर की सटीक पहचान और उसके बढ़ने को ट्रैक करने में आसानी होगी. इस टूल का विकास एक स्टडी के दौरान किया गया. कनाडा रिसर्च चेयर में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस एंड मेडिकल अमेजिंग के प्रोफेसर अलेक्जेंडर वोंग (Alexander Wong) ने बताया कि हमारी स्टडी ने दर्शाया है कि इस नई टेक्नोलॉजी में कैंसर की जांच और इलाज की रणनीति बनाने में सुधार लाने की क्षमता है. कोशिकाओं (Cells) की अनियमित पैकिंग से हेल्दी टिशूज की तुलना में कैंसर ग्रस्त टिशूज में पानी के अणुओं (molecules) के चलने के तरीके में अंतर होता है. ये नई तकनीक सिंथेटिक कोरिलेटेड डिफ्यूजन इमेजिंग (Synthetic Correlated Diffusion Imaging) कहलाती है, जो विभिन्न ग्रेडिएंट पल्स स्ट्रेंथ (Gradient Pulse Strength) और समय पर संश्लेषण (timely synthesis) और एमआरआई सिग्नल को पकड़ने में अंतर को स्पष्ट करती है.

इस तरह की सबसे बड़ी स्टडी में रिसर्चर्स ने लुनेनफेल्ड-तनेनबाम अनुसंधान संस्थान (Lunenfeld-Tanenbaum Research Institute), टोरंटो के कई अस्पतालों और ओंटारियो इंस्टीट्यूट फॉर कैंसर रिसर्च (Ontario Institute for Cancer Research) के मेडिकल स्पेशलिस्ट की मदद ली और उनके जरिए प्रोस्टेट कैंसर के 200 मरीजों की जांच की. इस स्टडी का निष्कर्ष ‘साइंटिफिक जर्नल’ में प्रकाशित किया गया है.

यह भी पढ़ें-
Side Effects of Abortion: बार-बार गर्भपात कराने के होते हैं कई स्वास्थ्य जोखिम, ये हैं इसके साइड एफेक्ट्स

स्टडी में क्या निकला
इस स्टडी में पाया गया कि मान एमआरआई (MRI) तकनीक की तुलना में सिंथेटिक कोरिलेटेड डिफ्यूजन इमेजिंग कैंसर ग्रस्त टिशूज को बेहतर ढंग से अलग दिखाता है. इससे ये डॉक्टरों या रेडियोलॉजिस्ट के एक संभावित ज्यादा बेहतर टूल साबित हो सकता है.

यह भी पढ़ें-
Yoga For Energy: एनर्जी से भरपूर रहने के लिए सुबह उठ कर जरूर करें इन योगासनों का अभ्यास

क्या कहते हैं जानकार
प्रोफेसर अलेक्जेंडर वोंग (Alexander Wong)  ने बताया कि प्रोस्टेट कैंसर पुरुषों को होने वाले कैंसर में दूसरा सबसे अधिक सामान्य रोग है और दुनियाभर खासकर विकसित देशों में इसके रोगियों की संख्या तेजी से बढ़ रही है. इसलिए हमने अपनी रिसर्च के दौरान इसकी जांच को लेकर फोकस किया. उन्होंने कहा कि हमें ब्रेस्ट कैंसर की स्क्रीनिंग, पहचान और इलाज की रणनीति बनाने में काफी अच्छा परिणाम मिला. इस लिहाज से ये तकनीक अन्य प्रकार के कैंसर की इमेजिंग और क्लिनिकल निर्णय करने में गेम चेंजर साबित हो सकती है.

Tags: Cancer, Health, Health News, Lifestyle



Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top