स्वास्थ्य

सर्दी-जुकाम ही नहीं अर्थराइटिस पेन से भी निजात दिलाते हैं अडूसा के पत्ते

सर्दी-जुकाम ही नहीं अर्थराइटिस पेन से भी निजात दिलाते हैं अडूसा के पत्ते


हाइलाइट्स

अडूसा में एंटी-इंफ्लामेटरी गुण होता है जो अर्थराइटिस के दर्द को कम करता है
अडूसा सांस से संबंधित कई बीमारियों को दूर करता है

Adusa leaf relieve joint pain:ठंड के मौसम में अडूसा के पत्ते से कई बीमारियों का इलाज किया जाता है. यह सर्दी-जुकाम से तो राहत दिलाता ही है लेकिन अडूसा ब्लड प्रेशर से लेकर जोड़ों के दर्द को भी आराम दिलाता है. अडूसा को देश के अलग-अलग हिस्सों में अलग-अलग नामों से भी जाना जाता है. इसे अडुस, बाकस, वसाका या अरुशा भी कहा जाता है. आमतौर पर सर्दी के मौसम में अडूसा के पत्ते को पानी में डालकर गर्म किया जाता है और इसे चाय की तरह कुछ और चीजें मिलाकर पिया जाता है. अडूसा में एंटी इंफ्लामेटरी गुण होता है. इसलिए अडूसा के पत्ते अर्थराइटिस पेन या जोड़ों के दर्द को आराम पहुंचाते हैं. इसके अलावा अडूसा सांस से संबंधित कई बीमारियों को दूर करता है. एंटी-इंफ्लामेटरी गुण होने के कारण अडूसा शरीर में सूजन से संबंधित सभी तरह की बीमारियों में राहत पहुंचाता है. अडूसा का दिल से संबंधित बीमारियां, रक्त संबंधी बीमारियां, प्यास, सांस संबंधी बीमारी, बुखार, कोढ़, टीवी आदि बीमारियों में इस्तेमाल किया जाता है.

इसे भी पढ़ें- इन 5 तरीकों को आदत में शुमार कर सर्दी में भी घटा सकते हैं वजन, इन्हें साइंस भी मानता है सही 

सर्दी में अडूसा के पत्ते के फायदे

अर्थराइटिस पेन को कम करता है
हेल्थ वेबसाइट लाइबरेट के मुताबिक अडूसा में एंटी-इंफ्लामेटरी गुण होता है जो अर्थराइटिस के दर्द को कम करता है. वेबसाइट के मुताबिक ज्वाइंट पेन लाइफस्टाइल से संबंधित बीमारी है जो कई तरह की जटिलताओं को पैदा करती है. अर्थराइटिस में यूरिक एसिड का लेवल बढ़ जाता है जिसके कारण जोड़ों में असहनीय दर्द होता है. अडूसा का पाउडर यूरिक एसिड के लेवल को कम करता है. इससे जोड़ों का दर्द और कड़ापन कम होता है. गठिया के दर्द में जोड़ों में अकड़न आने लगती है जिसके कारण भारी दर्द होता है. अडूसा एंटी-इंफ्लामेटरी और एंटीसेप्टिक होता है जो जोड़ों के दर्द को कम करता है.

खून को साफ करने में
जब किडनी में खराबी आ जाती है या किडनी फेल हो जाती है तब खून से टॉक्सिन पदार्थ छन नहीं पाता है. इसके कारण खून में यूरिया और नाइट्रोजन की मात्रा बढ़ने लगती है. अडूसा के पाउडर खून से इस यूरिया और नाइट्रोजन को निकालकर शरीर से बाहर कर सकता है. यानी किडनी से संबंधित बीमारियों में अडूसा बेहद लाभदायक है.

सर्दी-कफ-बुखार से राहत
अडूसा का काढ़ा बनाकर पीने से सर्दी-जुकाम गायब हो जाता है. इससे बुखार से भी निजात मिलती है. वहीं अगर सिर दर्द परेशान करने लगे तो भी अडूसा का काढ़ा बनाकर पीने से लाभ होता है. अडूसा के फूल को गुड़ में मिलाकर खाने से सिरदर्द से आराम मिलता है. इसका सेवन करने से बंद नाक तुरंत खुल जाती है. अडूसा छाती के कंजेशन को दूर करता है.

आखों में सूजन कम करे
अगर दिन भर कंप्यूटर पर बैठकर आंखें सूजा ली हो तो अडूसा का सेवन करें. आंखों की सूजन को अडूसा कुछ ही दिनों में ठीक कर देता है. इसके लिए अडूसा के 2-4 ताजे फूलों को गर्म कर आंख पर बांधने से आंख के गोलक की सूजन कम होती है.

अडूसा के साइड इफेक्ट
हालांकि विज्ञान में अडूसा को लेकर बहुत ज्यादा रिसर्च नहीं हुई है लेकिन माना जाता है कि प्रेग्नेंसी में अडूसा का सेवन नहीं करना चाहिए. इसी तरह अडूसा का काढ़ा पीने से इंसुलिन की मात्रा बढ़ती है लेकिन इसका ज्यादा सेवन इंसुलिन की मात्रा को कम कर सकता है.

Tags: Health, Lifestyle



Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top