स्वास्थ्य

वजन कम करने में क्या वाकई है एफ-फैक्‍टर डाइट असरदार, जानें इसके बारे में

वजन कम करने में क्या वाकई है एफ-फैक्‍टर डाइट असरदार, जानें इसके बारे में


हाइलाइट्स

एफ-फैक्‍टर डाइट को तीन स्‍टेप में किया जा सकता है.
एफ-फैक्‍टर डाइट को करने के लिए अधिक पानी का सेवन करना चाहिए.
वजन कम करने के लिए इस डाइट को फॉलो किया जा सकता है.

How To Follow F-Factor Diet – फिटनेस पसंद और घंटों सिटिंग जॉब करने वाले लोगों के बीच आजकल एफ-फैक्‍टर डाइट काफी लोकप्रिय हो रही है. अच्‍छी फिटनेस के लिए बढ़ती जागरूकता के बीच लोग अब खान-पान पर भी विशेष ध्‍यान दे रहे हैं. वेट लॉस और वेट मेंटेन करने के लिए कई तरह की डाइट इस समय प्रचलन में हैं, लेकिन इन दिनों एफ फैक्‍टर डाइट वजन कम करने के लिए ज्‍यादा इफेक्टिव मानी जा रही है. ऐसा दावा किया जा रहा है कि एफ फैक्‍टर डाइट प्‍लान से एक महीने में 5 किलोग्राम तक वजन कम किया जा सकता है. आइए जानते हैं एफ फैक्‍टर डाइट के बारे में और कैसे ये वजन घटाने में मदद करती है. 

ये भी पढ़ें:तनाव की वजह से बढ़ सकता है पैनिक अटैक, डीप ब्रीदिंग एक्सरसाइज से मिलेगी बड़ी राहत

क्‍या है एफ-फैक्‍टर डाइट
एफ-फैक्‍टर डाइट एक हाई-फाइबर डाइट है. हेल्‍थ डॉट कॉम के अनुसार एफ-फैक्‍टर में एफ का मतलब फाइबर से है. फाइबर में कैलोरी लगभग जीरो प्रतिशत होती है, इसलिए ये पेट को हमेशा भरा हुआ रखती है. वजन कम करने के अलावा हाई फाइबर डाइट कोलेस्‍ट्रॉल लेवल को बेहतर बनाने, ब्‍लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने और बॉडी को हमेशा एनर्जेटिक बनाए रखने में भी मदद करती है. महिलाओं को हर दिन 25 ग्राम और पुरुषों को 38 ग्राम फाइबर की जरूरत होती है. 

एफ-फैक्‍टर डाइट में करें तीन स्‍टेप को फॉलो
स्‍टेप 1 : पहला स्‍टेप लगभग दो हफ्ते का होता है और इसमें 1000-12000 कैलोरी और 35 ग्राम फाइबर का डेली सेवन किया जाता है.

स्‍टेप 2 : इस स्‍टेप को कंटीन्‍यूड वेट लॉस के नाम से जाना जाता है. इस स्‍टेप का पालन तब तक करना होता है जब तक उतना वजन कम नहीं हो जाता, जितना करना चाहते हैं. दूसरे स्‍टेप में प्रतिदिन 1267-1467 कैलोरी का सेवन करना है, जबकि नेट कार्ब्‍स की मात्रा 75 ग्राम डेली रखनी है.

स्‍टेप 3 : इस स्‍टेप को मेंटेनेंस फेज कहा जाता है, इसमें बॉडी मास इंडेक्‍स के आधार पर 1600-2000 कैलोरी डेली डाइट लेनी होती है. डेली नेट कार्ब्‍स की मात्रा 125 ग्राम से अधिक नहीं होनी चाहिए. इस स्‍टेप में बस इतना ध्‍यान रखना होता है कुल कैलोरी का 45 से 65 प्रतिशत हिस्‍सा कार्ब्‍स से मिलना चाहिए.

एफ-फैक्‍टर डाइट में पानी एक महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाता है क्‍योंकि फाइबर को अपना काम करने के लिए पानी की जरूरत होती है. ऐसे में एफ-फैक्‍टर डाइट लेने वालों को डेली कम से कम तीन लीटर पानी पीने की सलाह दी जाती है. महिलाएं 2.7 लीटर और पुरुष 3.7 लीटर डेली पानी की मात्रा ले सकते हैं. 

ये भी पढ़ें:कान का मैल साफ करने के लिए क्या हाइड्रोजन पेरोक्‍साइड का इस्‍तेमाल सेफ है? यहां जानें जरूरी बात

कैसी होनी चाहिए एफ-फैक्‍टर डाइट
एफ-फैक्‍टर डाइट में बीन्‍स और फलियों का सेवन भरपूर मात्रा में किया जाना चाहिए. साथ ही एग्‍स, हाई फाइबर रिच वेजिटेबल्‍स जैसे फूलगोभी, ब्रोकली, शकरकंद, गाजर, चुकंदर और नट्स बटर का सेवन किया जा सकता है. इसके अलावा फाइबर रिच अनाज और फ्रूट्स जैसे एप्‍पल, ऑरेंज, नाशपाती और जामुन आदि को डेली डाइट में शामिल किया जा सकता है.
एफ-फैक्‍टर डाइट को फॉलो करने से महीने में 4 से 5 किलोग्राम वजन कम किया जा सकता है. लेकिन किसी भी डाइट को फॉलो करने से पहले एक्‍सपर्ट की सलाह लेना न भूलें.

Tags: Fitness, Health, Healthy Diet



Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top