स्वास्थ्य

लॉन्ग कोविड सिंड्रोम का संकेत हो सकते हैं मूड स्विंग्स, जानिए कैसे

लॉन्ग कोविड सिंड्रोम का संकेत हो सकते हैं मूड स्विंग्स, जानिए कैसे


लॉन्ग कोविड और पोस्ट कोविड लक्षण ऐसी स्थितियां हैं जो कोविड19 इंफेक्शन से ठीक होने के बाद भी लोगों को प्रभावित करती हैं. क्योंकि ठीक होने के बाद भी ये लक्षण उनकी डेली लाइफ को प्रभावित करते रहते हैं. रोजमर्रा के कामकाज करने में सक्षम नहीं होने से आपके मूड पर गंभीर असर पड़ सकता है. कई स्टडीज ने साबित किया है कि लंबे समय तक कोविड का न केवल आपकी फिजिकल हेल्थ पर बल्कि मेंटल हेल्थ पर भी गंभीर प्रभाव पड़ सकता है. कई लोगों ने देखा कि संक्रमण से उबरने के बाद उनका मूड प्रभावित हो रहा है और उन्हें अपने काम पर वापस जाना या पहले की तरह सामाजिक जीवन जीना मुश्किल हो रहा है.

इलेक्ट्रॉनिक हेल्थ रिकॉर्ड्स (ईएचआर) की मदद से हाल ही में की गई एक स्टडी में ये पाया गया कि संक्रमण से उबरने के 3 महीने के भीतर, लोगों को कम मूड और डिप्रेशन के बढ़ते जोखिम का अनुभव होने की आशंका है. एक बड़ी ईएचआर स्टडी में एक्सपर्ट्स ने मूड में कई बदलावों को भी नोट किया है, जो लॉन्ग कोविड स्थितियों के लक्षण पैदा करते हैं.

लो मूड के लक्षण और संकेत
-गुस्सा
-उदासी
-निराशा (फ्रस्ट्रेशन) और चिंता (एंग्जाइटी) विकार
-बार-बार घबराहट होना
-बहुत ज्यादा चिंता करना
-निराशा (होपलेसनेस)
-कम आत्म सम्मान
-थकान

डिप्रेशन में बदल सकता है मूड स्विंग 
मूड स्विंग का लेवल यानी मिजाज का स्तर हर किसी के लिए अलग हो सकता है. ये आमतौर पर कुछ दिनों में दूर हो जाता है, लेकिन कई लोग कुछ हफ़्ते के लिए भी इस प्रॉब्लम को महसूस करते हैं. हालांकि, अगर हफ्तों या उसके बाद भी फीलिंग्स में सुधार नहीं होता है, तो ये डिप्रेशन का संकेत हो सकता है.

यह भी पढ़ें-
सेहत के लिए बेस्ट है बेल का जूस, पाचन से लेकर इम्यूनिटी बढ़ाने तक होते हैं कई फायदे

लाइफस्टाइल बदलाव करने की जरूरत
इसलिए, इस परेशानी से निपटने और अपनी भावनात्मक और मानसिक स्थिति पर नियंत्रण रखने के लिए आपको अपनी लाइफस्टाल में कुछ बदलाव करने की जरूरत है. आपको अपने परिवार, दोस्तों या यहां तक ​​कि ऑफिस के कलीग्स से अतिरिक्त हेल्प लेने की जरूरत है.

यह भी पढ़ें-
खाने से पहले प्रोटीन सप्लीमेंट लेना टाइप-2 डायबिटीज में फायदेमंद, ब्लड शुगर रहता है कंट्रोल- स्टडी

साधारण लाइफस्टाइल में बदलाव जैसे बैलेंस डाइट, एल्कोहल को सीमित करना, स्मोकिंग छोड़ने या कंट्रोल करने की इच्छा, पर्याप्त नींद लेना और डेली फिजिकल एक्सरसाइज आपके ठीक होने की अवधि के दौरान आपकी मदद करने में एक लंबा रास्ता तय करेगा. और, यदि आप अक्सर अवसाद का अनुभव कर रहे हैं और ट्रैक पर वापस आने में कठिनाई का सामना कर रहे हैं, तो आपको अपने डॉक्टर से मिलना चाहिए.

Tags: Health, Health News, Lifestyle



Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top