स्वास्थ्य

लीची वजन कम करने से लेकर पाचनशक्ति करती है दुरुस्त, जानें इस रसीले फल के फायदे

लीची वजन कम करने से लेकर पाचनशक्ति करती है दुरुस्त, जानें इस रसीले फल के फायदे


Lychee Benefits and Side Effects: आम के बाद गर्मी के मौसम में सबसे ज्यादा लोगों को रसीले फल लीची (Lychee) का इंतजार रहता है. लीची ना सिर्फ स्वाद में, बल्कि सेहत को भी कई तरह से दुरुस्त रखती है. बच्चे हों या बड़े, हर कोई इस फल को बड़े चाव से खाना पसंद करता है. लीची ना सिर्फ गर्मियों में शरीर को हाइड्रेटेड रखती है, बल्कि पाचनशक्ति, त्वचा की सेहत का भी खास ख्याल रखती है. आइए जानते हैं लीची में मौजूद पोषक तत्वों और इसके फायदे-नुकसान (litchi Benefits-Side Effects) के बारे में यहां.

लीची में पोषक तत्व
लीची में कई तरह के पोषक तत्व होते हैं. सबसे ज्यादा विटामिन सी से भरपूर होती है लीची. साथ ही इसमें फॉस्फोरस, कॉपर, पॉलीफेनॉल ऑलिगोनॉल होता है, जिसमें एंटीऑक्सीडेंट और एंटीवायरल प्रॉपर्टीज होती हैं. इसके साथ ही इसमें प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट्स, नियासिन, फोलेट, थियामिन, कई तरह के विटामिंस जैसे ए, सी, ई, के, सोडियम, पोटैशियम, कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम, जिंक आदि भी मौजूद होते हैं.

इसे भी पढ़ें: सावधानी से खाएं लीची, हो सकती है एलर्जी, जानें इसके फायदे और नुकसान

त्वचा के लिए लीची के फायदे
स्टाइलक्रेज में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार, यदि आप झुर्रियों, ड्राई स्किन जैसी समस्याओं से परेशान हैं, तो लीची से बेहतर कुछ और नहीं. उम्र बढ़ने के साथ त्वचा पर एजिंग के लक्षण नजर आने लगते हैं, लीची खाने से ये समस्या नहीं होती है. उम्र बढ़ने के साथ शरीर अधिक फ्री रैडिकल्स का निर्माण करने लगता है, जो त्वचा को नुकसान पहुंचाता है. इस फल में एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं, जो फ्री रैडिकल्स से त्वचा को बचाते हैं. धूप में घूमकर सनबर्न, रेडनेस हो जाए, तो लीची के जूस में विटामिन ई कैप्सूल का लिक्विड मिलाएं और फेसपैक की तरह लगाएं.

कैंसर के जोखिम को करे कम लीची
इसमें एंटीकैंसर प्रभाव होते हैं, प्रतिदिन किसी भी रूप में लीची के सेवन से इस खतरनाक रोग से काफी हद तक बचाव करती है. चूंकि, इसके जूस में एंटीऑक्सीडेंट और फ्लैवोनॉए़ड्स होते हैं, जिनमें एंटीकैंसर प्रभाव होते हैं. यह स्तन के कैंसर की कोशिकाओं को बढ़ने नहीं देते हैं.

इसे भी पढ़ें: सुंदरता निखारने के लिए ऐसे करें लीची से बने फेस पैक का इस्तेमाल

कार्डियोवैस्कुलर हेल्थ को सुधारे लीची
लीची खाने से कार्डियोवैस्कुलर सेहत दुरुस्त बनी रहती है, क्योंकि लीची में एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं. लीची में मौजूद कम्पाउंड ऑलीगोनॉल नाइट्रिक ऑक्साइड के निर्माण को बढ़ाता है. यह ब्लड वेसल्स का विस्तार करता है, जिससे रक्त का प्रवाह सही तरीके से होता है. इससे दिल पर ब्लड को पंप करने के लिए अधिक दबाव नहीं लगाना पड़ता है, जिससे हार्ट की समस्याओं से आप बचे रह सकते हैं.

वजन कम करे लीची
क्या आप जानते हैं कि लीची के सेवन से वजन भी कम हो सकता है. ऐसा इसलिए, क्योंकि लीची में कैलोरी, फैट बिल्कुल नहीं होता है और इसमें पानी, फाइबर अधिक होता है. ऐसे में जो लोग अपना वजन कम करने की कोशिश कर रहे हैं, वो लीची भी खाना शुरू कर दें.

पाचन को रखे दुरुस्त
लीची खाने से गर्मी के मौसम में पाचन संबंधित समस्याएं नहीं होती हैं. लीची में मौजूद फ्लेवोनॉएड्स, फिनोलिक कम्पाउंड डाइजेशन को दुरुस्त रखता है. ऐसे में पाचन क्रिया को बेहतर बनाने के लिए आप गर्मी के मौसम में लीची का सेवन जरूर करें.

ब्लड सर्कुलेशन सुधारे
लीची खाने से शरीर में रक्त प्रवाह बेहतर बना रहता है. इससे शरीर के सभी महत्वपूर्ण अंग अपना काम सही तरीके से कर पाते हैं. लीची में कॉपर, जिंक, मैग्नीशियम, मैंगनीज, फोलेट, विटामिन सी आदि होता है, जो सर्कुलेटरी सिस्टम को सही तरीके से काम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं.

रोग प्रतिरोधक क्षमता करे मजबूत
यदि आप बार-बार बीमार पड़ते हैं, सर्दी-खांसी होती रहती है, तो लीची खा सकते हैं. यह इम्यूनिटी को स्ट्रॉन्ग बनाती है. रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होने से कई तरह की बीमारियों, इंफेक्शन से बचाव होता है. इसमें मौजूद सैपोनिन कम्पाउंड प्रतिरक्षा प्रणाली को बूस्ट करने के लिए जिम्मेदार होता है.

लीची खाने के नुकसान

  • किसी भी चीज का सेवन एक दिन में अत्यधिक करने से फायदे की जगह नुकसान पहुंचा सकता है. यही बात लीची पर भी लागू होती है. यदि आप बैठे-बैठे 50 लीची खा जाएंगे, तो आपका ब्लड शुगर लेवल कम हो सकता है. यदि आपको डायबिटीज है और शुगर लेवल को मेंटेन रखने के लिए दवाएं खाते हैं, तो लीची सीमिन मात्रा में ही खाएं. इससे ब्लड शुगर लेवल काफी डाउन हो सकता है.
  • कुछ लोगों को लीची खाने से कुछ खास तरह की स्किन एलर्जी हो सकती है. पहले से ही कोई स्किन या फूड एलर्जी रही हो, तो त्चवा पर खुजली, दानें, चकत्ते हो सकते हैं. बेहतर है कि एक्सपर्ट की सलाह लेकर ही लीची खाएं.
  • प्रेग्नेंसी और अपने शिशु को ब्रेस्टफीड कराने वाली महिलाओं को भी लीची का सेवन थोड़ा कम ही करना चाहिए. हालांकि, प्रेग्नेंसी में लीची खाने के फायदे-नुकसान पर अभी शोध बाकी है.
  • चूंकि, यह शुगर लेवल को कम करती है, ऐसे में किसी भी तरह की सर्जरी होने से कुछ दिनों पहले और बाद में लीची कुछ दिनों तक ना खाएं.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle



Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top