स्वास्थ्य

लगातार आ रही खांसी कहीं अस्थमेटिक ब्रोंकाइटिस तो नहीं? पहचाने इसके लक्षण

लगातार आ रही खांसी कहीं अस्थमेटिक ब्रोंकाइटिस तो नहीं? पहचाने इसके लक्षण


हाइलाइट्स

धूल,धुआं या प्रदूषण के कारण होता है अस्थमेटिक ब्रोंकाइटिस.
अस्थमेटिक ब्रोंकाइटिस के लक्षण गले में दर्द, खांसी हो सकते हैं.
अस्थमेटिक ब्रोंकाइटिस बैक्टीरिया या इंफेक्शन की वजह से होता है

Asthmatic Bronchitis: मौसम में बदलाव की वजह से छाती में दर्द, खांसी और गले में दर्द यह अस्थमेटिक ब्रोंकाइटिस के लक्षण हो सकते हैं. अस्थमेटिक ब्रोंकाइटिस की समस्या प्रदूषण, डस्ट और मौसम के बदलने की वजह से हो सकती है. अस्थमा से पीड़ित व्यक्ति को वायरल इंफेक्शन जल्दी होता है जिस वजह से अस्थमेटिक ब्रोंकाइटिस होने का खतरा अधिक बढ़ सकता है. ब्रोंकाइटिस वह स्थिति है जिसमें पेशेंट को लगातार खांसी आती है. कई बार खांसी को रोकने के लिए नेबुलाइजर का प्रयोग भी करना पड़ जाता है. आमतौर पर ब्रोंकाइटिस की समस्या एक हफ्ते में कम हो जाती है लेकिन पुरानी ब्रोंकाइटिस अस्थमा से पीड़ित व्यक्ति के लिए गंभीर समस्या पैदा कर सकती है. चलिए जानते हैं अस्थमेटिक ब्रोंकाइटिस के क्या लक्षण हैं.

क्या है अस्थमेटिक ब्रोंकाइटिस
अस्थमेटिक ब्रोंकाइटिस एक बीमारी है जो वायरस, बैक्टीरिया या इंफेक्शन की वजह से होती है. वेरीवैल हेल्थ के मुताबिक अस्थमा लंग्स की वह स्थिति है जिसके कारण ​ब्रोन्किओल्स या वायुमार्ग में सूजन हो जाती है. जब ऐसा होता है तो वायुमार्ग छोटा हो जाता है जिस वजह से सांस लेने में मुश्किल आने लगती है. अस्थमेटिक ब्रोंकाइटिस के ​भी यही लक्षण होते हैं बस इसमें व्यक्ति को म्यूकस अधिक बनता है. एक्यूट और क्रोनिक दो प्रकार की ब्रोंकाइटिस होती है.

अस्थमेटिक ब्रोंकाइटिस के लक्षण
– कफ के साथ आने वाली खांसी जिसमें येलो और ग्रीन कलर का कफ आता है.
– सांस लेते समय घरघराहट या सीटी की आवाज आना
– छाती में कंजेशन
– थकान महसूस होना
– 100 से 101 डिग्री बुखार आना
– लंग्स में इंफेक्शन
– गले में खरास
– बंद या बहती नाक
– सिरदर्द
– खांसी में खून आना
– मानसिक परेशानी



इसे भी पढ़ें: खाने के बाद पेट में जलन और दर्द से रहते हैं परेशान, तो इन 3 घरेलू उपायों की लें मदद

इसे भी पढ़ें: पेट दर्द में बड़े काम आएंगे ये घरेलू उपचार

 अस्थमेटिक ब्रोंकाइटिस के कारण
– धूल,धुआं या प्रदूषण
– गैस्ट्रिक रिफ्लक्स
– अधिक ठंडा पानी या खाने का सेवन
– मौमस में परिवर्तन
– अधिक खट्टा खाना
– धूम्रपान

Tags: Health, Health problems, Lifestyle



Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top