स्वास्थ्य

योगाभ्‍यास के दौरान बॉडी और माइंड का तालमेल बहुत जरूरी, जानें अभ्‍यास का तरीका

योगाभ्‍यास के दौरान बॉडी और माइंड का तालमेल बहुत जरूरी, जानें अभ्‍यास का तरीका


Yoga Session With Savita Yadav: योगाभ्यास करते हुए कभी भी हड़बड़ी नहीं करनी चाहिए. जब भी योगा करें तो तीन बातों को ध्‍यान में जरूर रखें. पहली बात की आप हमेशा योगाभ्यास के समय आपनी आती-जाती सांस पर विशेष ध्‍यान दें. अपनी सांस के साथ अभ्‍यास को जोड़ें. दूसरी जरूरी बात है कि आपका अभ्‍यास सुंदर हो और लयबद्ध हो. ऐसा करने से आपके अपने स्‍वाभाव में भी लयबद्धता आती है. अभ्‍यास के दौरान इस बात का विशेष ध्‍यान रखें कि आपके माइंड और बॉडी का कोऑर्डिनेशन बेहतर तरीके से हो. तीसरी जरूरी बात है कि आप हमेशा अपनी क्षमता के अनुसार ही योगा करें. आपका शरीर जितनी अनुमति देता है उतना ही अभ्‍यास करें, ना कि पहले दो से तीन महीने में ही अपना बेस्‍ट देने की कोशिश करें. इन तीन चीजों को अपने अभ्‍यास के दौरान ध्‍यान में रखें.

आज न्यूज़18 हिंदी के फेसबुक लाइव सेशन में योग प्रशिक्षिका सविता यादव (Savita Yadav) ने योगाभ्‍यास करना सिखाया और अभ्‍यास के दौरान कई जरूरी बातें साझा की.

इस तरह करें शुरुआत
-मैट पर बैठ जाएं और कमर-गर्दन को सीधा रखें.
-अब दोनों हथेलियों को आसमान की तरफ खुला छोड़ते हुए ध्‍यान की मुद्रा में बैठ जाएं.
-आंखें बंद करें और गहरी सांस लें. बेहतर तरीके से इन्‍हेल और एक्‍सहेल करें.
-अब ओम का उच्‍चारण करें और प्रार्थना करें.

इसे भी पढ़े : Yoga Session: पूरे शरीर को रखना चाहते हैं स्वस्थ? सीखें कुछ आसान योगाभ्यास और उनके नियम

सुबह जकड़न हटाने के लिए
सुबह-सुबह शरीर की जकड़न को दूर करने और लचीला बनाने के लिए वज्रासन में बैठें. इसके बाद कोहनियों को घुटनों के बराबर लाकर धीरे-धीरे दोनों हथेलियों पर वजन देते हुए और गहरी सांस भरते हुए ऊपर की ओर उठ जाएं. अब कमर को नीचे की तरफ तानते हुए सांस छोड़ें. अब कमर को ऊपर उठाएं और इसी तरह कैट और कैमल पोज को रिपीट करें. ध्‍यान रखें कि गर्दन को भी ऊपर और नीचे की तरफ स्‍ट्रेच करते रहें. ऐसे 10 चक्र पूरे करें.

फुल बॉडी स्‍ट्रेचिंग
मैट पर कैट पोजीशन की तरह मुद्रा बनाएं और इन्‍हेल करते हुए अपोजिट लेग और अपोजिट हैंड को स्ट्रेच करें. पैर को पीछे की तरफ स्‍ट्रेच करें और हाथ को आगे की ओर. अब एक्‍सहेल करते हुए पैर को नाक के पास तक फोल्‍ड करें और हाथ को जमीन पर रखें. ऐसे आप 10 चक्र पूरे करें. विस्‍तार से समझने के लिए आप विडियो देख सकते हैं.

वज्रासन में बैठें
घुटनों को सटाते हुए पैर को पीछे की ओर मोड़ते हुए बैठें और दोनों हाथों को घुटनों पर रखें. वज्रासन की मुद्रा में बैठने से पाचन बेहतर होता है, कब्‍ज की समस्‍या दूर होती है और शरीर रोगमुक्‍त होता है. ब्‍लड सर्कुलेशन भी बेहतर होता है.

पहला अभ्‍यास
अपने अपने मैट पर खड़े हो जाएं. पैरों को मजबूत बनाने के लिए पहले एड़ी को उठाएं और फिर पंजे को उठाएं. यह 30 चक्र तक करें. जब थक जाएं तो खड़े होकर गहरी सांस लें. बॉडी को स्‍ट्रेच करने के लिए अब ताड़ासन की मुद्रा में खड़े हो जाएं और अभ्‍यास करें.

दूसरा अभ्‍यास
मैट पर खड़े हो जाएं और पैरों के बीच गैप रखते हुए अपने हाथों को कमर के बराबर आगे की ओर बढ़ा कर रखें. अब घुटने मोड़ते हुए घुटनों को हाथों तक उठाएं और टच करें. ऐसे 20 चक्र करें. बेहतर तरीके से इन्‍हेल और एक्‍सहेल करते रहें. पूरा हो जाने पर गहरी सांस लें और शरीर को रिलैक्‍स करें.

तीसरा अभ्‍यास
अब हाथों को आगे की तरफ इंटरलॉक करें और घुटनों को एक-एक कर दाहिनी और बाई ओर ऊपर की तरफ उठाएं और फिर पैरों को जमीन पर रखें. ऐसा आप 20 चक्र तक करें.

इसे भी पढ़े : Yoga Session: पूरे शरीर को रखना चाहते हैं स्वस्थसीखें कुछ आसान योगाभ्यास और उनके नियम

चौथा अभ्‍यास
अपने हाथों को कोहनी से मोड़कर आगे पीछे 20 चक्र तक स्‍ट्रेच करें. अब हाथों को फुल रोटेट करें. ऐसा आप 10 बार करें और फिर 10 बार पीछे से आगे की ओर फुल रोटेशन करें.

इसके अलावा भी सेशन के दौरान कई अभ्‍यास कराए गए जिसे आप विडियाे लिंक की मदद से विस्‍तार से देख सकते हैं.

Tags: Benefits of yoga, Lifestyle, Yoga



Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top