स्वास्थ्य

महिलाओं की फर्टिलिटी को कैसे प्रभावित कर सकती है एंडोमेट्रियोसिस, एक्सपर्ट से जानिए

महिलाओं की फर्टिलिटी को कैसे प्रभावित कर सकती है एंडोमेट्रियोसिस, एक्सपर्ट से जानिए


Endometriosis Can Affect Women’s Fertility : एंडोमेट्रियोसिस (Endometriosis) महिलाओं में होने वाली गर्भाशय से संबंधित समस्या है. इसमें गर्भाशय के अंदर के टिशू (ऊतक) बढ़कर गर्भाशय के बाहर निकलने और फैलने लगते हैं. ये फैलोपियन ट्यूब (fallopian tubes) और अंडाशय (ovaries) के बाहरी और अंदरूनी हिस्सों में भी फैलने लगते हैं. इससे महिलाओं को पीरियड्स, पेशाब के दौरान अत्यधिक दर्द आदि का अनुभव हो सकता है. इनफर्टिलिटी (Infertility), क्रोनिक पेल्विक पेन, उबकाई आना, पेट की सूजन, थकान, डिप्रेशन और एंग्जाइटी एंडोमेट्रियोसिस से जुड़े कुछ सामान्य इशूज हैं.

इंडियन एक्सप्रेस डॉट कॉम की न्यूज रिपोर्ट में नोवा आईवीएफ फर्टिलिटी (Nova IVF Fertility), दिल्ली में फर्टिलिटी कंसल्टेंट (fertility consultant) डॉ. अश्वती नायर (Dr. Aswati Nair) बताती हैं कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार, विश्व स्तर पर ये बीमारी लगभग 10% (190 मिलियन) महिलाओं और लड़कियों को प्रभावित करती है, जो प्रजनन आयु (reproductive age) से संबंधित है.  बहुत कम महिलाओं को इस स्थिति के बारे में पता होता है. इसी के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए, एंडोमेट्रियोसिस जागरूकता माह (Endometriosis Awareness Month) हर साल मार्च में मनाया जाता है.

इसे भी पढ़ें : जानें महिलाओं में क्यों होती है एंडोमेट्रियोसिस की बीमारी, कैसे करें बचाव

डॉ. नायर ने साझा किया कि एंडोमेट्रियोसिस के लक्षण लोगों के लिए गंभीर चिंता के रूप में नहीं आते हैं और यही कारण है कि आमतौर पर कई लोग इसे समझने से चूक जाते हैं. ये ही लक्षणों की शुरुआत और बीमारी के निदान के बीच देरी का कारण बनता है. एक्सपर्ट के मुताबिक, इस बीमारी से महिलाओं में इनफर्टिलिटी (Infertility) भी हो सकती है. अगर किसी महिला को एंडोमेट्रियोसिस है, तो गर्भाशय के आसपास की परत के कारण महिला का गर्भवती होना मुश्किल हो जाता है.

यह भी पढ़ें – मां नहीं बनने देती ये बीमारी, 17 करोड़ से ज्यादा औरतें हैं प्रभावित

क्या है लक्षण
अमेरिकन सोसाइटी ऑफ रिप्रोडक्टिव मेडिसिन के अनुसार, लगभग 30 से 50 प्रतिशत महिलाओं को इस स्थिति में इनफर्टिलिटी (Infertility) का सामना करना पड़ता है.  एंडोमेट्रियोसिस निम्नलिखित तरीकों से प्रजनन क्षमता (fertility) को प्रभावित करता है.

-आसंजन या चिपकाव (Adhesions)
– पेल्विस (Distorted anatomy Of Pelvis) की विकृत शारीरिक रचना
– खराब फैलोपियन ट्यूब (Scarred fallopian tubes)
-पेल्विस संरचनाओं की सूजन
– प्रतिरक्षा प्रणाली कार्य में तब्दीली
-अंडे के हार्मोनल वातावरण में बदलाव
-गर्भावस्था का बिगड़ा हुआ आरोपण (implantation)
– अंडे की गुणवत्ता में बदलाव

कैसे होगा इलाज
इलाज के बारे में बताते हुए डॉ. नायर ने कहा, “सर्जरी के समय डॉक्टर या प्रजनन विशेषज्ञ (fertility expert) एंडोमेट्रियोसिस (endometriosis) और बीमारी की गहराई का मूल्यांकन करेगा, जो आपको इसके आकार, स्थान और मात्रा के साथ है. इससे आपकी बीमारी की उस अवस्था का पता चल जाएगा, जिसे न्यूनतम – स्टेज 1 , माइल्ड – स्टेज 2, मध्यम – स्टेज 3, या गंभीर – स्टेज 4  माना जा सकता है.  एंडोमेट्रियोसिस के चरण के आधार पर आपको और आपके डॉक्टर को पता चल जाएगा कि ये आपकी गर्भावस्था को कैसे प्रभावित करेगा.”

यह भी पढ़ें-
Women’s Health: 40 की उम्र के बाद महिलाएं हेल्दी रहने के लिए करें ये 7 जरूरी काम

उन्होंने आगे कहा, “जिन महिलाओं को गंभीर एंडोमेट्रियोसिस होता है, वे काफी जख्म, क्षतिग्रस्त अंडाशय और अवरुद्ध फैलोपियन ट्यूब का अनुभव कर सकती हैं और उन्हें गर्भवती होने में भी कठिनाई हो सकती है. ऐसी महिलाओं को प्रजनन विशेषज्ञों (fertility expert)  से परामर्श लेना चाहिए, क्योंकि उन्हें उन्नत प्रजनन उपचार की आवश्यकता (advanced fertility treatment) हो सकती है.”

Tags: Health, Health News, Lifestyle, Women Health



Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top