स्वास्थ्य

बच्चों की मेंटल हेल्थ को ट्रिगर करता है माता-पिता का तलाक, एक्सपर्ट ने बताए इससे बचने के उपाय

बच्चों की मेंटल हेल्थ को ट्रिगर करता है माता-पिता का तलाक, एक्सपर्ट ने बताए इससे बचने के उपाय


Kids Mental Health During Divorce: इस भागमभाग भरी जिंदगी में पिछले कुछ वक्त में रिश्तों की परिभाषा भी तेजी से बदली है. पहले जहां लोग काम से ज्यादा अपने रिश्तों को महत्व देते थे वहीं आज लोगों के पास काम की जिम्मेदारी इतनी बढ़ गई है कि रिश्तों के लिए ना के बराबर समय बचा है. पारिवारिक रिश्ते भी आजकल काफी कमजोर नजर आने लगे हैं. पिछले कुछ समय में तलाक के मामले भी काफी बढ़े हैं. तलाक सिर्फ माता पिता के रिश्ते को ही नहीं तोड़ता बल्कि इससे बच्चे भी बुरी तरह से प्रभावित होते हैं. पेरेंट्स के बीच का अलगाव उन्हें मानसिक तौर पर कमजोर बना देता है जिससे उसकी ग्रोथ पर भी असर पड़ता है.

अगर माता पिता के बीच तलाक होता है तो बच्चों को उस कठिन परिस्थिति से कैसे बचाया जा सकता है ताकि वह दूसरे बच्चों की ही तरह सामान्य रहे इसके लिए हमने मैरिज काउंसलर एंड पेरेंटिंग एक्सपर्ट डॉ. गीतांजलि शर्मा, डीजीएस काउंसलिंग सॉल्यूशन (DGS Counselling Solutions) से बात की.

डॉ. गीताजंलि ने बताया कि बच्चा कम उम्र होने की वजह से माता-पिता के बीच के टकराव को समझ नहीं पाता और जब घर टूटता है इससे काफी नेगेटिव असर उस पर पड़ता है. आइए जानते हैं कि यह चीजें बच्चे को कैसे प्रभावित करती हैं और उन्हें इससे बचाने के लिए क्या करना चाहिए.

डिप्रेशन में जा सकते हैं बच्चे: एक बच्च के लिए माता पिता ही सब कुछ होते हैं. वह उनके साथ अपने आप को सुरक्षित महसूस करता है. लेकिन, जब माता पिता का तलाक होता है और उसे किसी एक के पास रहने का ऑप्शन दिया जाता है तो वह उस स्थिति को समझ नहीं पाता और इस कंडीशन का मानसिक तौर पर सीधा असर पड़ता है. कभी कभी यह इतना घातक होता है कि बच्चे डिप्रेशन और एंग्जायटी का शिकार भी हो सकते हैं.

हीन भावना का शिकार हो सकते हैं बच्चे: माता पिता के बीच तलाक होने से कई बार बच्चे हीन भावना का शिकार हो जाते हैं. वह दोस्तों और समाज से अलग रहने लगते हैं. उन्हें डर रहता है कि दूसरे लोग उसे बुरा भला बोलेंगे और इस डर से वह अलग रहने की कोशिश करने लगता है. माता पिता का साथ न होना उसे लेफ्टआउट महसूस कराते हैं.

बच्चे को कैसे मानसिक स्वास्थ्य को सुधारने के लिए क्या करें…

बच्चे की काउंसलिग कराएं: डॉ. गीतांजलि ने बताया कि जब भी माता पिता के बीच तलाक हो तो यह बेहद जरूरी है कि बच्चों की काउंसलिंग जरूर कराएं ताकि बच्चे अपनी फीलिंग्स को शेयर कर सके. इसके साथ ही यह जरूरी है कि जितना संभव हो बच्चे को सेफ्टी दें. मैरिज काउंसल के मुताबिक कपल्स के लिए जरूरी है कि अगर वे पति-पत्नी नहीं रह सकते तो एक माता पिता जरूर बने रहें.

डाइट प्लान से सुधरेगा बच्चों का परीक्षा परिणाम, यहां जानें Food और Study में क्या है कनेक्शन

बच्चे को एक दूसरे के खिलाफ न भड़काएं: कई बार देखा जाता है कि तलाक की परिस्थिति में बच्चे को माता पिता किसी एक साथ रहने का ऑप्शन दिया जाता है ऐसे में माता या पिता बच्चे को एक दूसरे के खिलाफ भड़काने लगते हैं और यह चीज बच्चे पर बुरा असर डालती है. इससे बच्चा अपने ही माता पिता को गलत समझ सकता है. बच्चों के फ्यूचर को ध्यान में रखते हुए उन्हें अच्छी पेरेंटिंग देने की कोशिश करनी चाहिए.

माता-पिता के प्यार का भरोसा दिलाएं: माता पिता के बीच तलाक होना बच्चों के लिए आसान नहीं होता. इससे सबसे ज्यादा बच्चा ही प्रभावित होता है, उसे किसी एक को चुनना होता है ऐसे में जरूरी है कि माता पिता उसे इस बात का भरोसा दिलाएं कि हम लोग जरूर अलग हो रहे हैं लेकिन हम दोनों माता पिता के तौर पर हमेशा तुम्हारा साथ देगें और हमेशा तुम्हें प्यार करते रहेंगे.

हार्ट और लंग्स के लिए घातक है विंटर स्मॉग, बचने के लिए अपनाएं ये तरीके

बच्चों को समय दें: तलाक के कई ऐसे मामले होते हैं जिसमें बच्चे की उम्र काफी कम होती है. बच्चा तलाक और माता पिता के बीच टकराव को समझ नहीं पाता और इससे वह माता पिता को लड़ते या फिर अलग होते हुए देखता है तो परेशान हो जाता है. ऐसी स्थिति में जरूरी है कि माता पिता बच्चों से बात करें और उसे ये सब समझने के लिए समय दें. कभी भी बच्चों पर अपनी भावनाओं का बोझ नहीं डालना चाहिए.

तलाक के कारणों पर बात करें: कई माता पिता तलाक लेते हैं लेकिन वह बच्चों पर इसका होने वाले असर के बारे में नहीं सोचते. माता पिता को चाहिए के वे मिलकर बच्चे से बात करें और उसे समझाएं कि तलाक किन वजहों से हो रहा है, लेकिन वह हमेशा ही उसके साथ रहेंगे. कई बार बच्चों को सही वजह नहीं बताई जाती और बच्चे खुद को तलाक की वजह मान लेते हैं. बच्चों को इस सोच से बचाना जरूरी है.

Tags: Divorce, Lifestyle, Mental health



Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top