स्वास्थ्य

प्रदूषण और वायरस को भी रोकने में सक्षम है कार्डबोर्ड के डिब्बों से बना एयर फिल्टर, जानें क्या कहता है शोध

किस तरह एयर पॉल्यूशन आपके फेफड़ों को करता है प्रभावित, जानें खास बातें


वाशिंगटन. हार्डवेयर की दुकान पर आसानी से मिलने वाले सामान से बने एयर फिल्टर भी न केवल लोगों को विषाणुओं के संक्रमण से बचा सकते हैं, बल्कि रासायनिक प्रदूषकों से भी रक्षा कर सकते हैं. यह दावा एक नए अध्ययन में किया गया है. अध्ययन के मुताबिक कोर्सी रोसेंथल बॉक्स या घन नामक इस फिल्टर को हार्डवेयर पर आसानी से मिलने वाले एमईआरवी-13 फिल्टर, डक्ट टेप, 20 इंच के बॉक्स पंखे और कार्डबोर्ड के डिब्बों की मदद से बनाया जा सकता है.

अध्ययन के मुख्य अनुसंधानकर्ता और अमेरिका स्थित ब्राउन यूनिवर्सिटी में एसोसिएट प्रोफेसर जोसफ ब्राउन ने बताया, ‘‘अध्ययन से साबित हुआ है कि सस्ते और आसानी से बनाए जाने वाले डिब्बा नुमा इस फिल्टर से न केवल विषाणुओं से बल्कि रासायनिक प्रदूषकों से भी बचाव हो सकता है.’’ ब्राउन ने बयान में कहा, ‘‘जन स्वास्थ्य में सहायक यह सहज फिल्टर, सामुदायिक समूहों को वायु गुणवत्ता और उनका स्वास्थ्य सुधारने के लिए कदम उठाने हेतु सशक्त करेगा.’’

परियोजना के तहत इन डिब्बों को विद्यार्थियों और विश्वविद्यालय परिसर के सदस्यों ने बनाया और स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ और संस्थान की अन्य इमारतों में लगाया गया.’’ रासायनिक कणों के स्तर को हवा में न्यूनतम करने के लिए इस घन आकार के डिब्बों का प्रभाव जानने के उद्देश्य से ब्राउन और उनकी टीम ने कमरे में डिब्बे रखने से पहले और बाद में वाष्प रूप में मौजूद रासायनिक कणों की सघनता जांची.

अध्ययन के परिणामों को जर्नल ‘‘एनवायरनमेंटल साइंस एंड टेक्नोलॉजी’’ में प्रकाशित किया गया है, जिसके मुताबिक रोसेंथन बॉक्स के इस्तेमाल से 17 कमरों में उल्लेखनीय रूप से कई पीएफएएस और फाथलेट्स कणों के स्तर में कमी आई. यह प्रयोग फरवरी और मार्च 2022 के दौरान किया गया.

गौरतलब है कि पीएफएएस कृत्रिम रसायन होता है जो क्लीनर, कपड़ा और तारों के ऊपर लगे कुचालक में मिलता है और इस बॉक्स की मदद से इनके स्तर में 40 से 60 प्रतिशत की कमी आई. फाथलेट्स आमतौर पर निर्माण सामग्री और निजी देखभाल की सामग्री में मिलता है और इन डिब्बों से इनके स्तर में 30 से 60 प्रतिशत कमी लाने में मदद मिली.

ब्राउन ने बताया कि पीएफएएस और फाथलेट्स से दमा, टीकों का असर कम होने, जन्म के समय कम वजन, बच्चों के दिमागी विकास में अवरोध सहित कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं उत्पन्न होती हैं.



Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top