स्वास्थ्य

पुरुषों की ये 6 अनहेल्दी आदतें कम कर सकती हैं स्पर्म क्वालिटी, हो सकती है इनफर्टिलिटी

पुरुषों की ये 6 अनहेल्दी आदतें कम कर सकती हैं स्पर्म क्वालिटी, हो सकती है इनफर्टिलिटी


Unhealthy Habits can reduce sperm quality: स्पर्म क्वालिटी (Sperm quality) खराब होने से पुरुषों में इनफर्टिलिटी की समस्या बढ़ जाती है. इससे पिता बनने में भी कई अड़चनें आती हैं. कई कारणों से स्पर्म की गुणवत्ता खराब हो सकती है जैसे खराब जीवनशैली, अनहेल्दी ईटिंग हैबिट्स आदि. अक्सर कुछ पुरुषों की गलत आदतों के कारण भी उनके वीर्य या शुक्राणु में कमी, गुणवत्ता खराब होने जैसी परेशानी हो जाती है. जानना चाहते हैं आप हर दिन कौन सी ऐसी गलती करते हैं, जो आपके शुक्राणुओं को प्रभावित करती हैं, तो पढ़ें यहां.

स्पर्म क्वालिटी को कम करने वाली अनहेल्दी आदतें

  • यदि आपको अधिक टाइट जींस, पैंट पहने की आदत है, तो अपने इस फैशन स्टाइल को बदल दें. डॉक्टर डॉट एनडीटीवी में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार, स्लिम फिट ट्राउजर्स, जींस को लगातार पहने रहने से स्पर्म काउंट में कमी आती है. टाइट पैंट पहनने से अंडकोष शरीर के अधिक करीब रहते हैं, जिससे वे गर्म हो जाते हैं. ये शुक्राणुओं के लिए अच्छा नहीं है.
  • आप बहुत ज्यादा कार्बोनेटेड ड्रिंक का सेवन करते हैं, तो स्पर्म क्वालिटी खराब हो सकती है. शुक्राणुओं की संख्या में भी गिरावट आ सकती है. एक कैन से अधिक कार्बोनेटेड ड्रिंक पीने से स्पर्म मोबिलिटी प्रभावित होती है. साथ ही बियर भी अधिक पीने से स्पर्म अनहेल्दी और कमजोर हो सकते हैं.

इसे भी पढ़ें: इन 4 तरीकों से बढ़ा सकते हैं अपनी फर्टिलिटी और स्पर्म क्वालिटी

  • यदि आप अपने फोन को लगातार अपने पैंट की जेब में रखते हैं, तो इससे भी स्पर्म की गुणवत्ता प्रभावित हो सकती है. फोन के रेडिएशन से शुक्राणुओं को नुकसान पहुंच सकता है. एक स्टडी की मानें तो फोन को जेब में रखने से शुक्राणुओं की संख्या 9% तक कम हो सकती है.
  • लैपटॉप को अपनी गोद में रखकर देर तक काम करते रहते हैं, तो इस आदत को भी तुरंद बदल दें वरना आपके पिता बनने की संभावना काफी हद तक कम हो सकती है. अंडकोष (Testicles) को ठंडा रखने की जरूरत होती है और देर तक लैपटॉप को पैरों या गोद में रखने से यह भाग गर्म हो जाता है, जिससे शुक्राणु की संख्या घट सकती है.

इसे भी पढ़ें: स्पर्म की क्वालिटी पर असर डालता है कोरोना वायरस, पढ़ें ये नई स्टडी

  • यदि आप प्रतिदिन 6 घंटे से भी कम नींद लेते हैं, इससे भी शुक्राणुओं की संख्या, गुणवत्ता प्रभावित होती है. शरीर, दिमाग को जिस तरह आराम की जरूरत होती है, ठीक उसी तरह स्पर्म्स को भी आराम करने की जरूरत होती है, ताकि ये सही तरीके से एक्टिव होकर अपना कार्य कर सकें. प्रत्येक दिन 7 से 8 घंटे की नींद जरूर लें ताकि स्पर्म एक्टिव रहें.
  • कई अन्य कारणों जैसे स्ट्रेस, एल्कोहल के सेवन, सेक्स ट्वॉएज का इस्तेमाल, स्मोकिंग, अधिक सनस्क्रीन के इस्तेमाल से भी स्पर्म की संख्या में कमी आ सकती है.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle



Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top