स्वास्थ्य

देश में मंकीपॉक्स का टीका बनाने के लिए सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया सहित 29 कंपनियां रेस में 

देश में मंकीपॉक्स का टीका बनाने के लिए सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया सहित 29 कंपनियां रेस में 


नई दिल्ली. देश में मंकीपॉक्स (Monkeypox Case In India) का टीका (Vaccine) बनाने के लिए 29 कंपनियों को शॉर्टलिस्ट किया गया है. इससे लोगों को मंकीपॉक्स के टीके मिलने की उम्मीद बढ़ गई है. इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च ( ICMR) ने नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (NIV-Pune) के सहयोग से वैक्सीन और डायग्नोस्टिक किट विकसित करने के लिए 29 फार्मा कंपनियों को शॉर्टलिस्ट किया है. हालांकि 29 कंपनियों का शॉर्टलिस्ट करने का मतलब यह नहीं कि सभी कंपनियां वैक्सीन बनाएंगी. दस्तावेजों के सत्यापन के बाद अंतिम फैसला लिया जाएगा.

कोरोना की तरह अब मंकीपॉक्स के टीके को लेकर भी देश की दो बड़ी नामचीन कंपनियों के बीच होड़ है. सीरम इस्टीट्यूट ऑफ इंडिया, बायोलॉजिकल ई, हाफकाइन इस्टीट्यूट, मुंबई और इंडियन इम्यूनोलॉजिकल इस्टीट्यूट से आवेदन मिले हैं. आईसीएमआर के मुताबिक फार्मा कंपनियों की तरफ से कुल 31 आवेदन मिले हैं. आईसीएमआर की पिछली बैठक में 29 आवेदनों को शॉर्टलिस्ट कर लिया गया है. आईसीएमआऱ को देश की 8 फार्मा कंपनियों ने भी आवेदन भेजे हैं, जबकि 23 कंपनियों ने टेस्टिंग किट बनाने में दिलचस्पी दिखाई है.

monkeypox, monkeypox vaccine, monkeypox smallpox vaccine, monkeypox, monkeypox latest news, monkeypox update, monkeypox india, which vaccine beneficial in monkeypox, मंकीपॉक्स का टीका, सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया, भारत बायोटेक, वैक्सीन, स्वास्थ्य मंत्रालय, मनसुख मंडाविया, मंकीपॉक्स टीका

मंकीपॉक्स का नाम पहली बार 1958 में रखा गया था (फोटो-AP)

मंकीपॉक्स का टीका बनाने के लिए 29 कंपनियां रेस में
आपको बता दें कि पिछली बार कोरोना रोधी कोवैक्सीन बनाने के लिए हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक कंपनी सबसे आगे रही. इस बार पुणे स्थित सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया भी सरकार के साथ मिलकर मंकीपॉक्स का टीका बनाना चाहती है.

स्वास्थ्य मंत्रालय की बैठक में कई कंपिनयों ने रुचि दिखाई
पिछले दिनों केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया के साथ हुई बैठक में कई कंपनियों ने रुचि दिखाई थी. मांडविया के साथ ऑनलाइन बैठक में भारत बायोटेक और सीरम दोनों कंपनियों ने जल्द से जल्द मंकीपॉक्स का तोड़ निकालने का दावा किया था. इसके लिए इन्हें जीवित वायरस की आवश्यकता पड़ेगी जिसमें आईसीएमआर सहयोग करेगा.

देश में अब तक मंकीपॉक्स के 10 मरीज
भारत में मंकीपॉक्स के अब तक 10 मरीज मिल चुके हैं. दिल्ली में ही पांच मरीज मंकीपॉक्स के मिले हैं. देश में मंकीपॉक्स का पहला मामला केरल के कोल्लम जिले में 14 जुलाई को सामने आया था. भारत में मंकॉपॉक्स से एक मरीज की अब तक मौत हुई है. दुनिया भर में अमेरिका और यूरोप में इस बीमारी के सबसे ज्यादा केस हैं. इस साल विश्व स्तर पर 80 से अधिक देशों में मंकीपॉक्स के 31,000 से अधिक मामले दर्ज किए गए हैं.

monkeypox

भारत में मंकीपॉक्स के अब तक 10 मरीज मिल चुके हैं.

ये भी पढ़ें: बैंड-बाजा और बारात के साथ-साथ कई त्योहारों से फिर गुलजार होगा बाजार, मंडप और मैरिज होम की बुकिंग अभी से शुरू

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंकीपॉक्स वायरस के बारे में जानकारी देते हुए कहा है कि इससे संक्रमित व्यक्ति को तेज बुखार, त्वचा पर चकत्ते (चेहरे से शुरू होकर हाथ, पैर, हथेलियों और तलवों तक) पड़ते हैं. मंकीपॉक्स वायरस से संक्रमित व्यक्ति को सिरदर्द, मांसपेशियों में दर्द या थकावट, गले में खराश और खांसी आना प्रमुख लक्षण है. मंकीपॉक्स वायरस से संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने के 21 दिनों में अगर इनमें से कोई लक्षण दिखता है तो तुरंत डॉक्टर की सलाह लेनी चहिए.

Tags: Health Minister Mansukh Mandaviya, Health ministry, ICMR, Monkeypox, Vaccine



Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top