स्वास्थ्य

क्या पीरियड्स में दौड़ना सेहत के लिए होता है अच्छा? ये रहे फायदे-नुकसान

क्या पीरियड्स में दौड़ना सेहत के लिए होता है अच्छा? ये रहे फायदे-नुकसान


Running Benefits during periods: पीरियड्स के 4 से 5 दिन काफी कष्टदायक होते हैं. महिलाओं को कई तरह की शारीरिक परेशानियों का सामना करना पड़ता है. कुछ महिलाओं को काफी अधिक पेट, कमर, सिरदर्द होता है, तो कुछ को थकान, मतली, पेट में ऐंठन जैसा महसूस होता है. इन समस्याओं से बचने के लिए अक्सर कई महिलाएं एक्सरसाइज जैसे रनिंग, जॉगिंग करती हैं. लेकिन, कुछ महिलाएं किसी भी तरह की एक्सरसाइज करने से डरती हैं. ऐसे में सवाल ये उठता है कि पीरियड्स (periods) के दिनों में सिर्फ लेटे रहना सही है या फिर रनिंग या वॉकिंग (walking) करना चाहिए. जानें, पीरियड्स में दौड़ना कितना सुरक्षित है और क्या हैं इसके फायदे-नुकसान (Running Benefits in periods) दौड़ने के लिए कुछ सेफ्टी टिप्स.

पीरियड्स में दौड़ने के फायदे-नुकसान

अक्सर महिलाएं या किशोर लड़कियां पेट, कमर दर्द से इतनी परेशान रहती हैं कि वे बिस्तर पर लेटी रहती हैं. इस दर्द की वजह से ना तो कुछ खाने की इच्छा होती है और ना ही किसी काम को करने का दिल करता है. मूड स्विंग, चिड़चिड़ेपन से अलग परेशान रहती हैं. लेकिन पीरियड्य के दौरान टहलना या दौड़ना आपके लिए काफी अच्छा होता है. इंडियनएक्सप्रेस में छपी रिपोर्ट के अनुसार, सेहत के लिए वॉकिंग और रनिंग कई मायनों में फायदेमंद होते हैं. प्रतिदिन सिर्फ 30 मिनट दौ़ड़ने से कार्डियोवैस्कुलर संबंधित समस्याओं से बचा जा सकता है. यदि आपको हेवी पीरियड्स होता है, तो आप हल्के एक्सरसाइज जैसे वॉकिंग पीरियड्स के लक्षणों को काफी हद तक कम करते हैं. मासिक धर्म के दौरान लो एस्ट्रोजन/प्रोजेस्टेरोन लेवल होने से सुस्ती अधिक महसूस होती है. आपको इंफ्लेमेशन महसूस हो सकता है. ऐसे में पीरियड्स के 3-4 दिनों में धीमी गति से दौड़ना शुरू कर सकती हैं. दौड़ने से दर्द तो कम होता ही, निराशा, मूड स्विंग को दूर करके आपको बेहतर महसूस करने में मदद कर सकता है. लेकिन, लगातार दौड़ने से बचना चाहिए. बीच-बीच में रुककर पानी भी पीना जरूरी है. पीरियड्स में दौड़ने से पेल्किव में होने वाले दर्द, ऐंठन, मरोड़ से राहत मिलती है.

इसे भी पढ़ें: पीरियड्स के दौरान न करें ये गलतियां, सेहत को हो सकते हैं नुकसान

पीरियड्स में करें योग

योग करने से भी आप पीरियड्स के दिनों में शारीरिक और मानसिक रूप से हेल्दी महसूस कर सकती हैं. इससे एंग्जायटी, अवसाद, स्ट्रेस, बेचैनी, चिंता, लो एनर्जी जैसी समस्याएं दूर होंगी. मासिक धर्म के दौरान पेट में ऐंठन, ब्लोटिंग जैसे लक्षणों को कम करने के लिए ब्रीदिंग एक्सरसाइज, स्ट्रेचिंग करना भी फायदेमंद होता है.

इसे भी पढ़ें: Periods के दौरान होता है तेज दर्द तो खाने में शामिल करें ये चीजें, तुरंत मिलेगी राहत

पीरियड्स में रनिंग करने के टिप्स

  • पीरियड्स के पहले दिन दौड़ रही हैं, तो बहुत तेज (Tips for Running in Periods) ना दौड़ें.
  • बीच-बीच में रुकें और पानी पीती रहें. इससे शरीर हाइड्रेटेड रहेगा.
  • यदि आपको बहुत ज्यादा पेट या कमर दर्द हो, तो दौड़ने ना जाएं.
  • दर्द दूर करने के लिए टहलना भी सही है.
  • खाते ही दौड़ना के लिए ना जाएं. खाना खाने के 30 मिनट बाद जाएं टहलने या दौड़ने.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle



Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top