स्वास्थ्य

क्या आपको भी आती है बहुत अधिक नींद? ये हैं इसके कारण और दूर करने के उपाय

क्या आपको भी आती है बहुत अधिक नींद? ये हैं इसके कारण और दूर करने के उपाय


Causes of Hypersomnia: ये तो हम सभी जानते हैं कि शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ रहने के लिए प्रत्येक दिन कम से कम सात से आठ घंटे की नींद लेनी जरूरी है. यदि आप हर दिन 6 घंटे से भी कम सोते हैं या फिर 8 घंटे से भी बहुत ज्यादा सोते हैं, तो ये दोनों ही स्थितियां आपकी सेहत के लिए ठीक नुकसानदायक साबित हो सकती हैं. कुछ लोग बहुत कम सोते हैं. इसकी वजह होती है देर तक जागकर मोबाइल या टीवी देखना, ऑफिस का काम निपटाना या फिर कोई शारीरिक समस्या के कारण जल्दी नींद नहीं आती है. लेकिन, कुछ लोग ऐसे भी होते हैं, जिन्हें सारा दिन नींद ही आती रहती है या नींद आने जैसा महसूस होता रहता है. अत्यधिक नींद आना भी सेहत के लिए सही नहीं है. यदि आप 7-8 घंटे नींद ले रहे है बावजूद इसके आपको नींद आती है, तो ऐसा होना के कारणों को आपको जरूर जान लेना चाहिए. यह कोई गंभीर शारीरिक समस्या भी हो सकती है.

इसे भी पढ़ें: रात में बेचैनी के कारण नहीं आती है नींद, ये हैं इसके 7 कारण और दूर करने के उपाय

क्या होती है अधिक नींद आना
बार-बार नींद आती है या सोने का मन करता रहता है, तो इस समस्या को हाइपरसोम्निया (Hypersomnia) कहा जाता है. 7-8 घंटे पर्याप्त नींद लेने के बाद भी जब आपको नींद आती रहती है, तो यह एक प्रकार का स्लीप डिसऑर्डर है.

क्या है हाइपरसोम्निया
हेल्थलाइन डॉट कॉम में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार, हाइपरसोम्निया एक ऐसी स्थिति है, जिसमें आपको दिन के समय अत्यधिक नींद महसूस होती है. यह रात में देर तक पर्याप्त सोने के बाद भी हो सकता है. हाइपरसोम्निया को ‘दिन में अत्यधिक नींद आना (excessive daytime sleepiness) कहलाता है. हाइपरसोम्निया एक प्राइमरी या सेकेंडरी स्थिति हो सकती है. सेकेंडरी हाइपरसोम्निया किसी मेडिकल कंडीशन का परिणाम हो सकती है. जिन लोगों को हाइपरसोम्निया यानी अत्यधिक नींद आने की समस्या होती है, उन्हें दिन में किसी भी काम को करने में परेशानी हो सकती है, क्योंकि वे अक्सर थके हुए होते हैं, जो एकाग्रता और ऊर्जा के स्तर को प्रभावित कर सकता है.

अधिक नींद आने या हाइपरसोम्निया के कारण
प्राथमिक या प्राइमरी हाइपरसोम्निया कई बार मस्तिष्क प्रणालियों में समस्याओं के कारण होता है, जो नींद और जागने के कार्यों को नियंत्रित करते हैं. वहीं, सेकेंडरी हाइपरसोम्निया उन स्थितियों का परिणाम होती है, जो थकान या अपर्याप्त नींद का कारण बनती हैं. उदाहरण के लिए, स्लीप एप्निया हाइपरसोम्निया का कारण बन सकता है, क्योंकि स्लीप एप्निया में रात में सांस लेने में परेशानी होती है, जिससे लोगों को कई बार रात में नींद नहीं आ पाती है. कुछ दवाओं के सेवन से भी हाइपरसोम्निया का कारण बन सकती हैं. बार-बार नशीली दवाओं और शराब के सेवन से दिन में नींद आ सकती है. अन्य संभावित कारण थायरॉएड फंक्शन का कम होना या फिर सिर में कोई चोट लगना हो सकता है.

इसे भी पढ़ें: Sound Sleep Benefits: अच्छी और गहरी नींद लेने के ये हैं 5 बड़े फायदे

हाइपरसोम्निया का खतरा किसे अधिक
जो लोग दिन के समय बहुत अधिक थकान महसूस करते हैं, उनमें हाइपरसोम्निया का खतरा सबसे अधिक होता है. इन स्थितियों में स्लीप एप्निया, किडनी, हृदय, मस्तिष्क की स्थिति, असामान्य डिप्रेशन और थायरॉइड कम होना आदि शामिल हैं. अमेरिकन स्लीप एसोसिएशन के अनुसार, यह स्तिथि पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में अधिक होती है. जो लोग एल्कोहल, स्मोकिंग का अधिक सेवन करते हैं, उनमें भी हाइपरसोम्निया होने का जोखिम रहता है.

हाइपरसोम्निया के लक्षण
यदि किसी व्यक्ति को बहुत अधिक नींद आती रहती है, तो उसे हाइपरसोम्निया की समस्या हो सकती है. हाइपरसोम्निया का मुख्य लक्षण लगातार थकान महसूस करना है. इससे ग्रस्त लोग दिन में कभी भी कई दफा झपकी ले सकते हैं. ऐसे लोगों को लंबी अवधि की नींद से जागने में भी कठिनाई होती है. ऐसे लोगों में थकान के अलावा, निन्म लक्षण नजर आ सकते हैं.

-कम शारीरिक ऊर्जा
-चिड़चिड़ा महसूस करना
-एंग्जायटी
-भूख में कमी
-दिन भर नींद आते रहना
-किसी भी चीज को याद रखने में परेशानी होना
-बेचैनी महसूस करना

अत्यधिक सोने से बचने के उपाय
यदि आप चाहते हैं कि आपको रात में अच्छी नींद आए, तो आप देर तक जागकर टीवी, मोबाइल ना चलाएं. समय पर ऑफिस का कार्य खत्म करने की कोशिश करें.

– रात में सोते समय अधिक हेवी फूड्स ना खाएं. हल्का-फुल्का खाना खाकर ही सोएं.
– शराब, स्मोकिंग की आदत बहुत ज्यादा है, तो कम कर दें.
– आप कब सोएंगे, कब जागेंगे, इसका समय निर्धारित करें.
– वजन पर कंट्रोल रखें वरना आपको आगे चलकर परेशानी होगी.
– स्वस्थ खानपान, पौष्टिक चीजों को फूड में शामिल करें.
– सोने के कमरे का वातारण शांत हो. एल्कोहल का सेवन कोई ना करे.
– देर तक जागकर प्रत्येक दिन काम ना करें.
– उन दवाओं के सेवन से बचें, जो उनींदापन का कारण बनती हैं.
– साथ ही देर रात तक काम करने से बचें.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle



Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top