स्वास्थ्य

इन संकेतों से समझें किडनी को डिटॉक्स की है जरूरत, यूं करें गुर्दे की सफाई

इन संकेतों से समझें किडनी को डिटॉक्स की है जरूरत, यूं करें गुर्दे की सफाई


Ways to Cleanse Kidney: किडनी शरीर में दो होती है. गुर्दे का मुख्य कार्य ब्लड को छानना और अतिरिक्त पानी को विषाक्त पदार्थों और अन्य अपशिष्टों के साथ बाहर निकालना है, जो शरीर द्वारा पेशाब के रूप में उत्पन्न होते हैं. साथ ही लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण और ब्लड प्रेशर के रेगुलेशन में भी मुख्य भूमिका निभाती है. अगर किडनी में किसी भी तरह की कोई समस्या होती है, तो वह अपने महत्वपूर्ण कार्यों को करना बंद कर सकती है, जिससे सेहत को गंभीर रूप से नुकसान हो सकता है. किडनी को आप स्वस्थ खानपान और पर्याप्त पानी पीकर हेल्दी रख सकते हैं. यदि आप अनहेल्दी खानपान करेंगे, तरल पदार्थों का सेवन भरपूर नहीं करेंगे और टॉक्सिन पदार्थों के संपर्क में आएंगे, तो किडनी की सेहत को नुकसान पहुंच सकता है. ऐसे में किडनी की भी साफ-सफाई बेहद जरूरी है.

इसे भी पढ़ें: Detox Water: अपनी डेली लाइफ में शामिल करें डिटॉक्स वॉटर, मिलेंगे कई फायदे

किडनी फ्लश करना क्या है
स्टाइलक्रेज डॉट कॉम में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार, किडनी फ्लश यानी किडनी की साफ-सफाई करना, उसे क्लिंज करना. यह एक प्रकार का डिटॉक्स डाइट है, जिसमें किडनी को सही तरीके से कार्य करने के लिए डिजाइन किया गया है. गुर्दे की सफाई कई तरह से की जा सकती है. आप कुछ फूड्स के सेवन से भी किडनी को साफ और स्वस्थ रख सकते हैं. जानें, किडनी को डिटॉक्स करने के लिए क्या फूड्स खाना चाहिए. ये फूड्स किडनी में जमे हुए विषाक्त और अन्य अपशिष्ट पदार्थों से छुटकारा पाने में मदद कर सकते हैं, जिससे गुर्दे की बीमारियों के जोखिम को कम किया जा सकता है. हालांकि, वर्तमान में कोई भी वैज्ञानिक प्रमाण मौजूद नहीं है कि किसी खास तरीके या फूड्स के जरिए गुर्दे की सफाई की जा सकती है. लेकिन, हेल्दी खानपान और भरपूर तरल पदार्थों के सेवन से किडनी को स्वस्थ रखने में जरूर मदद मिल सकती है.

किडनी में समस्या होने पर नजर आने वाले लक्षण
– थकान महसूस होना
– जी मिचलाना
– खुजली होना और रूखी त्वचा
– एड़ियों में सूजन होना
– ब्रेन फॉग
– पैरों में दर्द होना
– बार-बार किडनी में स्टोन होना
– यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन होना
– मुंह में खराब स्वाद आना
– पेशाब जल्दी होना, रंग में बदलाव

इसे भी पढ़ें: Kidney Problem : किडनी में खराबी होने पर बॉडी में दिखते हैं ये 7 लक्षण, हो जाएं सतर्क

किडनी फ्लश करने के तरीके

पानी पिएं पर्याप्त
क्या आप जानते हैं कि हर अंग को सही तरीके से अपना कार्य करने के लिए पानी की जरूरत होती है. ठीक उसी तरह से किडनी को भी लिक्विड पदार्थ की जरूरत होती है, क्योंकि इसका मुख्य काम होता है फिल्टर करना. किडनी को यूरिन बनाने के लिए पानी की जरूरत होती है, जो शरीर से विषाक्त पदार्थों और अपशिष्टों को बाहर निकालता है. मूत्र की कम मात्रा किडनी डिस्फंक्शन, गुर्दे में पथरी बनने से संबंधित है. ऐसे में प्रतिदिन 3 लीटर पानी जरूर पीना चाहिए.

बेरीज फलों का सेवन करें
अधिकतर बेरीज में एंटीऑक्सीडेंट्स, फाइटोकेमिकल्स और किडनी की कोशिकाओं को सुरक्षित रखने वाले प्रभाव होते हैं. इससे इंफ्लेमेशन और ऑक्सिडेटिव स्ट्रेस भी कम होता है. किडनी को फ्लश करने की जब बात आती है, तो ब्लूबेरी और क्रेनबेरीज का सेवन अधिक करना चाहिए. क्रैनबेरी यूरिनरी ट्रैक्ट को शांत रखते हैं और संक्रमण से बचाते हैं. ब्लूबेरीज में पोटैशियम, सोडियम और फॉस्फोरस की मात्रा कम होती है, ऐसे में इनका सेवन आप कर सकते हैं.

ओमेगा-3 फैटी एसिड का करें सेवन
आप ओमेगा-3 फैटी एसिड से भरपूर चीजों का भी सेवन कर सकते हैं. ये अत्यधिक ओमेगा-6 फैटी एसिड को संतुलित करता है. ओमेगा-6 के उच्च स्तर से किडनी स्टोन होने का रिस्क रहता है. इसके अलावा, ओमेगा -3एस पेशाब के जरिए प्रोटीन को बाहर निकालने के जोखिम को भी कम कर सकता है. यह एक ऐसी स्थिति है, जिसे प्रोटीन्युरिया कहा जाता है.

इसे भी पढ़ें: किडनी की सेहत का हाल बता देगा ये ‘टेस्ट’, साल में एक बार जरूर करवा लें वरना…

खूब खाएं तरबूज, अनार
तरबूज में भरपूर मात्रा में पानी, फाइबर और कई अन्य पोषक तत्व मौजूद होते हैं, जो किडनी को नुकसान होने से बचा सकते हैं. तरबूज में यौगिक लाइकोपीन होता है, जो किडनी डैमेज होने पर इंफ्लेमेशन होने से बचाता है.. तरबूज शरीर में साइट्रेट, कैल्शियम, फॉस्फेट, ऑक्सालेट के लेवल को बैलेंस करने में भी मदद कर सकता है. अनार में पोटैशियम काफी होता है, जिसे किडनी को क्लिंज करने वाली डाइट में शामिल किया जा सकता है. पोटैशियम गुर्दे की पथरी के जोखिम को कम कर सकता है. गुर्दे से विषाक्त पदार्थों और अपशिष्ट को बाहर निकालने में मदद कर सकता है. बावजूद इसके, तरबूज और अनार में अधिक मात्रा में पोटैशियम होता है, जिनका सेवन किडनी क्लिंज के दौरान अत्यधिक नहीं करना चाहिए.
पोटैशियम उन मिनरल्स में से एक है, जिसे किडनी की कार्यक्षमता में किसी भी तरह की खराबी आने पर उसे साफ कर पाना मुश्किल होता है.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle



Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top