स्वास्थ्य

इन लक्षणों से पहचानें कहीं कमजोर तो नहीं हो गई है आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता

इन लक्षणों से पहचानें कहीं कमजोर तो नहीं हो गई है आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता


Symptoms of Week Immunity: कोरोनावायरस (Coronavirus) हो या कोई दूसरी बीमारी, इन सभी से बचाव के लिए शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाए रखना बहुत जरूरी है. इसके लिए आपको खानपान में उन चीजों को शामिल करना होगा, जो इम्यूनिटी को बूस्ट करते हैं. जब आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर रहती है, तो आप बार-बार बीमार पड़ते हैं. इम्यूनिटी वीक (Week Immunity) होने के कई लक्षण भी नजर आते हैं, जिन्हें आपको जरूर जानना चाहिए, ताकि सही समय पर इसे बूस्ट कर सकें और गंभीर रोगों से खुद को बचाए रख सकें. आइए जानते हैं, रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने पर कैसे लक्षण (Symptoms of Week Immunity) नजर आ सकते हैं.

इम्यूनिटी कमजोर होने के लक्षण

स्ट्रेस लेवल होगा अधिक

पेनमेडिसिन में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार, जब आप लगातार स्ट्रेस में रहते हैं, तो इससे रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर पड़ने लगती है. ऐसा इसलिए, क्योंकि तनाव शरीर के लिम्फोसाइट्स, व्हाइट ब्लड सेल्स को कम कर देता है, जो संक्रमण से लड़ने में मदद करते हैं. आपके लिम्फोसाइट का स्तर जितना कम होगा, आपको सामान्य सर्दी होने का खतरा उतना ही अधिक होगा.

इसे भी पढ़ें: कहीं आपकी इम्‍यूनिटी कमजोर तो नहीं? ऐसे करें चेक

बार-बार होगी सर्दी

साल में दो से तीन बार वयस्कों को सर्दी-खांसी होना सामान्य होता है. ज्यादातर लोगों को यह 7 से 10 दिनों तक रहता है. इस दौरान एंटीबॉडी विकसित करने और हानिकारक कीटाणुओं से लड़ने के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली को तीन से चार दिन लगते हैं. लेकिन, आपको लगातार सर्दी होती है, तो समझ लें आपकी इम्यूनिटी कमजोर हो रही है.

पेट रहता है खराब

यदि आपकी इम्यूनिटी कमजोर होगी तो आपको बहुत जल्दी-जल्दी गैस या कब्ज, डायरिया हो सकता है. शोध बताते हैं कि आपकी लगभग 70 प्रतिशत इम्यून सिस्टम आपके डाइजेस्विट ट्रैक्ट में स्थित होता है. डाइजेस्टिव ट्रैक्ट में कुछ हेल्दी बैक्टीरिया और माइक्रोऑर्गैनिज्म मौजूद होते हैं, जो आपकी पेट की सेहत को इंफेक्शन से सुरक्षित रखते हैं साथ ही इम्यून सिस्टम को सपोर्ट करते हैं.

इसे भी पढ़ें: बदलता मौसम लेकर आता है कई बीमारियां, जानें कैसे बढ़ाएं इम्यूनिटी

जख्म या घाव जल्दी नहीं भरते

यदि आपको कोई जख्म, घाव, स्किन के जलने की समस्या होगी, तो रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने पर ये जल्दी ठीक नहीं होंगे. स्वस्थ इम्यून सेल्स शरीर में मौजूद होने से घावों के भरने की प्रक्रिया तेजी से होती है.

इंफेक्शन होगा अधिक

यदि आपको किसी भी तरह का इंफेक्शन बहुत जल्दी होता है, तो समझ लें कि आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो गई है. साल में चार बार कान में इंफेक्शन होना, एक साल में दो बार निमोनिया होना, क्रोनिक साइनसाइटिस, साल में दो से अधिक बार एंटीबायोटिक्स की जरूरत पड़ना आदि कमजोर इम्यूनिटी के लक्षण हो सकते हैं.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle



Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top