स्वास्थ्य

इंटरनेट मीडिया के इस्तेमाल से प्रभावित होता है किशोरों का स्वास्थ्य – स्टडी

इंटरनेट मीडिया के इस्तेमाल से प्रभावित होता है किशोरों का स्वास्थ्य - स्टडी


Adolescent’s Health affected by Internet media use : ब्रिटेन में हुई एक हालिया स्टडी से पता चला है कि अलग-अलग समय में इंटरनेट मीडिया (Internet Media) के इस्तेमाल का किशोर लड़कियों व लड़कों की सेहत पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है. किंग्स कॉलेज लंदन (Kings College London), ऑक्सफोर्ड (Oxford University) और कैंब्रिज यूनिवर्सिटी (Cambridge University) के विशेषज्ञों के मार्गदर्शन में हुए इस स्टडी का निष्कर्ष ‘नेचर कम्युनिकेशन (Nature Communications)’ जर्नल में प्रकाशित किया गया है. आंकड़े बताते हैं कि 11 से 13 साल की लड़कियां और 14 से 15 साल के लड़के जब इंटरनेट मीडिया का यूज करते हैं, तो उनके लाइफ सैटिस्फैक्शन (life satisfaction) पर निगेटिव इफेक्ट पड़ता है. लाइफ सैटिस्फैक्शन वो माध्यम है, जिसमें लोग अपनी भावनाओं और मनोदशा को प्रकट करते हैं और बताते हैं कि वे अपने भविष्य की दिशा और विकल्पों को लेकर कैसा महसूस करते हैं.

इंटरनेट मीडिया का इस्तेमाल ज्यादा होने पर लड़के और लड़कियां 19 साल की उम्र में ही कमतर जीवन संतुष्टि (life satisfaction) का अनुभव करने लगते हैं. इससे पता चलता है कि इंटरनेट मीडिया के प्रति ज्यादा संवेदनशीलता ब्रेन की संरचना में संभावित बदलावों से जुड़ी हो सकती है. ये परिवर्तन लड़कों के बाद भी दिखाई देते हैं.

यह भी पढ़ें-
स्किन एलर्जी की जांच और इलाज का तरीका हुआ सरल- स्टडी

क्या कहते हैं जानकार
ऑक्सफोर्ड इंटरनेट इंस्टीट्यूट के ट्विटर अकाउंट के जरिए इस स्टडी के मेन ऑथर एमी ओरबेन (Amy Orben) ने कहा, “सोशल मीडिया के यूज और मानसिक सुख (mental wellbeing) के बीच की कड़ी स्पष्ट रूप से बहुत जटिल है. हमारे शरीर के भीतर परिवर्तन, (जैसे कि ब्रेन के डेवलप्मेंट, यौवन और हमारी सामाजिक परिस्थितियों) हमारे जीवन के विशेष समय पर हमें कमजोर बनाते हैं.”

यह भी पढ़ें-
गर्मी में बढ़ सकती है नाक से खून आने की समस्या, यूं करें नकसीर से बचाव

रिसर्चर्स ने जिस मुख्य डेटासेट से अपना विश्लेषण प्राप्त किया, वह यूके अंडरस्टैंडिंग सोसाइटी ऑफ हाउसहोल्ड पैनल सर्वेक्षण (UK Understanding Society household panel survey) था. इसने 10 से 80 साल की उम्र के 70,000 से अधिक प्रतिभागियों से पूछा कि उन्होंने औसतन दिन में फेसबुक, ट्विटर और व्हाट्सऐप जैसी सोशल नेटवर्किंग या मैसेजिंग साइट्स का कितना उपयोग किया और उस समय वे अपने जीवन से कितने संतुष्ट थे. सर्वेक्षण ने उन्हें पहले अपने जीवन को समग्र रूप से मूल्यांकन करने के लिए कहा और फिर मूल्यांकन करें कि वे अपने काम, उपस्थिति, परिवार, दोस्तों और स्कूल में जीवन के बारे में कैसा महसूस करते हैं.

Tags: Health, Health News, Lifestyle



Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top