स्वास्थ्य

आंखों की ये बीमारियां आपको टेस्टिंग के लिए देते हैं बड़े संकेत, लक्षण दिखने पर तुरंत एक्सपर्ट से करें संपर्क

आंखों की ये बीमारियां आपको टेस्टिंग के लिए देते हैं बड़े संकेत, लक्षण दिखने पर तुरंत एक्सपर्ट से करें संपर्क


SYMPTOMS OF EYE PROBLEMS: आंख हमारे शरीर का सबसे अहम और कोमल अंग है.आंखों के बिना हम अपनी जिंदगी की कल्पना भी नहीं कर सकते है, बढ़ती उम्र का हमारी आंखों पर भी असर होता है इसलिए आंखों का हमें विशेष ध्यान रखना चाहिए. आंखों को लेकर की गई एक छोटी सी लापरवाही हमारे लिए एक बड़ी समस्या बन सकती है. पिछले कुछ समय में हमारी जीवनशैली और खानपान में बहुत ज्यादा बदलाव आया है और इससे हमारी आंखें भी प्रभावित हुई हैं. आंखों से संबंधित कई बीमारियों का जोखिम बहुत बढ़ गया है जिनके बारे में जानना और समझना बेहद जरूरी है.

रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र के अनुसार 21 मिलियन से अधिक अमेरिकी आंखों की समस्याओं से पीड़ित हैं. आई आरएक्स के अनुसार आंखों की कई समस्याएं सामान्य होती हैं जैसे- माइल्ड मायोपिया, मोतियाबिंद, ग्लूकोमा आदि. हालांकि कुछ ऐसी समस्याएं भी होती हैं जो आंखों को बड़ा नुकसान पहुंचा सकती हैं. कई ऐसी बीमारियां होती हैं जो हमें आई टेस्टिंग के लिए संकेत देती हैं लेकिन हमें इन्हें इग्नोर कर देते हैं. आइए जानते हैं इनके बारे में.

लाल आंखे होना: आंखों लालिमा अलग अलग स्थितियों और चोट की वजह से आ सकती है जिससे जलन, सूजन और कभी कभी रोशनी तक जा सकती है. रेड आई होने की वजह से कई बार आंखों की छोटी ब्लड सेल्स वाहिकाएं सूज जाती है. लेकिन अगर बिना किसी चोट या दर्द के आंखें लाल हो रही हैं तो आपको तुरंत एक्सपर्ट से मिलना चाहिए.

आंखों में अचानक दर्द होना: यदि आपको अचानक आंखों में दर्द महसूस होता है तो दर्द तुरंत एक्सपर्ट से सलाह लेनी चाहिए. दर्द के भी कई कारण हो सकते हैं. कई बार आंखों में दर्द मौसम में बदलाव और मामूली संक्रमण की वजह से भी हो सकता है.

Alcohol कैसे Anemia को करता है ट्रिगर, जानें इसके लक्षण और बचाव के तरीके

प्रकाश के प्रति संवेदनशील होना: यदि आपकी आंखें प्रकाश के प्रति अधिक संवेदनशील हो गई हैं और ऐसा पहले नहीं था तो संभावना है कि आपके लेंस में कोई समस्या हो. इसके साथ ही इसमें आपको रोशनी में धुंधला पन भी महसूस हो सकता है. इसे नजरअंदाज करना भारी पड़ सकता है.

रतौंधी: अगर आपको अंधेरे में देखने में परेशानी हो रही है, तो आपको नाइट विजन की समस्या हो सकती है. आम तौर पर, हमारी आंखे अच्छी तरह से प्रकाश और अंधेरी जगह पर एडजस्ट कर लेती हैं लेकिन आंखों की कुछ समस्याएं इसे मुश्किल बना देती हैं.

प्रोस्टेट कैंसर का जोखिम कम करेंगे ये खास योगासन, बचाव के लिए रूटीन में करें शामिल

सिरदर्द बने रहना: सिरदर्द की भी कई वजहें हो सकती हैं. आमतौर पर थकावट, तनाव और उच्च रक्तचाप की वजह से भी सिरदर्द बना रहता है. लेकिन, कई बार आंखों में बीमारी होने की वजह से भी सिर में दर्द हो सकता है. यदि दवाएं लेने के बाद भी सिरदर्द ठीक नहीं होता तो आपको एक्सपर्ट नहीं लेना चाहिए.

ड्राय आई: कई बार आंखें ड्राय हो जाती हैं जिससे जलन और खुजली होने की समस्या बढ़ जाती है. आंसू आंखों का अहम हिस्सा होते हैं जब आंसू बनने बनना बंद हो जाते हैं तो आंखे ड्राय होने लगती हैं. आंखों में सूखापन एक बड़ी स्थिति का संकेत भी हो सकता है.

आंसू निकलना: आंसू न निकलने से आंखें ड्राय हो जाती हैं लेकिन, अगर ज्यादा आंसू आते हैं तो भी यह आंखों के लिए एक बड़ी समस्या है. लगातार आंखों से पानी बहते रहने पर आपको डॉक्टर से मिलना चाहिए.

धुंधली आंखें: आंखों में धुंधला पन होना एक सामान्य समस्या है लेकिन यदि यह लगातार कई दिनों तक रहता है तो यह किसी न किसी बीमारी का संकेत है. यदि आप अपनी दृष्टि में अचानक, महत्वपूर्ण परिवर्तन देखते हैं, तो आपको जल्द से जल्द अपने ऑप्टोमेट्रिस्ट के पास जाना चाहिए.

क्रॉस आइज और निस्टागमस: जब आप किसी चीज को देखते हैं तो अगर आपकी आंखें एक-दूसरे की सीध में नहीं देख पाती तो हो सकता है कि आपको स्ट्रैबिस्मस की समस्या हो सकती है. आप इसे क्रॉस्ड आइज भी कह सकते हैं. यह समस्या अपने आप दूर नहीं होगी.

Tags: Eyes, Health, Lifestyle



Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top