स्वास्थ्य

अच्छी हेल्थ के लिए घातक है यूरिक एसिड, ये हैं 3 शुरुआती लक्षण, जानिए बचाव के 5 टिप्स

अच्छी हेल्थ के लिए घातक है यूरिक एसिड, ये हैं 3 शुरुआती लक्षण, जानिए बचाव के 5 टिप्स


हाइलाइट्स

अनहेल्थी डाइट और बिगड़ी हुई लाइफस्टाइल के कारण बढ़ता है यूरिक एसिड को लेवल
यूरिक एसिड बढ़ने पर होती है हाथों-पैरों में जलन और सूजन
यूरिक एसिड और हेल्थी डाइट का है गहरा संबंध

How to Control Uric Acid in Hindi: अक्सर बिजी शेड्यूल के चलते लोग अपनी हेल्थ का धयान नहीं रख पाते हैं. जिसकी वजह से लाइफस्टाइल में बदलाव होने के साथ-साथ बहार का मसालेदार, तालाभुना खाना और जंक फूड खाते हैं ये सब खाने से हमारी सेहत पर भी काफी असर पड़ता है. जिसके बाद हम कई बीमारियों के शिकंजे में फस जाते हैं. अनहेल्दी डाइट और बिगड़ी हुई लाइफस्टाइल के कारण ही वर्तमान समय में यूरिक एसिड का बढ़ना एक आम समस्या बन गई है. शरीर में जब यूरिक एसिड के मात्रा सामान्य से ज्यादा हो जाती है तो इससे आपको कई बीमारियों और समस्याओं का सामना करना पड़ता है. 

यूरिक एसिड बढ़ने से जोड़ों, टेंडन, मांसपेशियों और टिश्यूज में इस एसिड के छोटे-छोटे टुकड़ों में क्रिस्टल के रूप में जमा हो जाते हैं. इसी कारण जोड़ों और हड्डियों में दर्द, सूजन की समस्या हो जाती है. वहीँ बढ़े हुए यूरिक एसिड के कारण गाउट, आर्थराइटिस, घुटने में दर्द और सूजन जैसी समस्याएं आती हैं. रोज एक्सरसाइज करने और सही खानपान से यूरिक एसिड को कंट्रोल में रखा जा सकता है. लेकिन सबसे पहले जरूरी है कि बढ़ते यूरिक एसिड के शुरूआती लक्षण पहचान में आ सके. जिससे अगर वो लक्षण आपको दिखे तो आप जल्द से जल्द डॉक्टर से सलाह ले सकें. सीडीसी में पब्लिश्ड रिसर्च रिपोर्ट के अनुसार बढ़ते हुए यूरिक एसिड के लक्षण

  1. यूरिक एसिड बढ़ने पर जोड़ों में दर्द पैर और एड़ियों में तेज दर्द और हाथ-पैरों में जलन का सामना करना पड़ता है. 
  2. धीरे-धीरे उंगलियों के जोड़ों में दर्द के साथ-साथ सूजन भी आने लगती है.
  3. यूरिक एसिड  बढ़ने पर ज्यादा प्यास लगने लगती है और बुखार भी आने लगता है.

कई टिप्स को अपनाकर आप बढ़ते हुए यूरिक एसिड की समस्याओं से बच सकते हैं. 
1.यूरिक एसिड कंट्रोल करने के लिए हेल्दी डाइट और लाइफस्टाइल फॉलो करें.
2.समय पर खाना खाएं, ज्यादा से ज्यादा पानी पीयें. वहीं अपनी डाइट में लो प्यूरीन और फाइबर युक्त खाने को ऐड करें.
3. दूध वाली चाय के मुकाबले ग्रीन टी काफी फायदेमंद होती है. इसमें एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो यूरिक एसिड को हड्डियों के बीच इकट्ठा होने से रोकते हैं. इसलिए ग्रीन टी को सुबह-सुबह ज़रूर पियें.

ये भी पढ़ें:How To Make Lauki Juice: फाइबर से भरपूर लौकी का जूस डाइजेशन में है मददगार, जान लें बनाने का आसान तरीका
ये भी पढ़ें: लौकी का जूस पीने से पहले जरूर जान लें ये बातें, हो सकती है बड़ी परेशानी

Tags: Health, Lifestyle



Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top