बिज़नेस

Sri Lankan crisis may help Indian tea exporters | श्रीलंका का आर्थिक संकट भारतीय चाय निर्यातकों के लिए बन सकता है अवसर, जानें कैसे

open-button


श्रीलंका में आए आर्थिक संकट के कारण उसके यहाँ चाय के उत्पादन में भारी गिरावट देखने को मिल सकती है। श्रीलंका चाय के ग्लोबल मार्केट में मुख्य खिलाड़ी है।

Published: April 05, 2022 05:09:17 pm

श्रीलंका बड़े आर्थिक संकट से जूझ रहा है और ये भारत के चाय निर्यातकों के लिए अवसर बन सकता है। वैश्विक चाय बाजार में श्रीलंका एक प्रमुख खिलाड़ी है परन्तु उसकी बदहाली भारत के चाय निर्यातकों लिए अपने निर्यात बढ़ाने का अवसर प्रदान कर सकता है। श्रीलंका सालाना 300 मिलियन किलोग्राम चाय का उत्पादन करता है और 90-95 फीसदी चाय का निर्यात करता है। रेटिंग एजेंसी आईसीआरए लिमिटेड के उपाध्यक्ष कौशिक दास ने कहा कि देश अपने वार्षिक उत्पादन का लगभग 97-98 प्रतिशत निर्यात करता है। ग्लोबल मार्केट में श्रीलंका की हिस्सेदारी करीब 50 फीसदी है।

Sri Lankan crisis may help Indian tea exporters

Sri Lankan crisis may help Indian tea exporters

किन देशों को करता है निर्यात?
श्रीलंका चाय का निर्यात इराक, ईरान व संयुक्त अरब अमीरात, पश्चिमी देशों, रूस, तुर्की व लीबिया को चाय निर्यात करता है। श्रीलंका के आर्थिक संकट के कारण चाय के उत्पादन में भारी गिरावट आई है जिससे ग्लोबल मार्केट पर असर पड़ेगा।

भारत के चाय निर्यातकों के लिए अवसर
रेटिंग एजेंसी आईसीआरए लिमिटेड के उपाध्यक्ष कौशिक दास ने कहा कि श्रीलंका के चाय के उत्पादन में गिरावट से ग्लोबल मार्केट पर इसका असर पड़ेगा परंतु भारत के चाय निर्यातक इसकी कमी को पूरा कर सकते हैं।” उन्होंने कहा, “भारत लगभग 11 करोड़ किलोग्राम चाय का उत्पादन करता है जिसमें से 90 फीसदी निर्यात किया जाता है।”

श्रीलंका में ठप पड़े चाय कारखाने
दक्षिण भारत चाय निर्यातक संघ के अध्यक्ष दीपक शाह हाल ही में श्रीलंका से लौटे थे। उन्होंने कहा कि “श्रीलंका में बढ़ते आर्थिक संकट के साथ, चाय कारखाने अपने संचालन के लिए संघर्ष कर रहे हैं। श्रीलंका में लगभग सभी यूनिट लगभग 12-13 घंटे बिजली कटौती का सामना कर रहे हैं और उनके पास जनरेटर चलाने के लिए पर्याप्त ईंधन नहीं है। मुझे लगता है कि हमारे पड़ोसी देश में उत्पादन में 20-25 फीसदी की गिरावट आ सकती है।”

आ सकती है 15 फीसदी की गिरावट
वहीं, इंडियन टी एक्सपोर्टर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष अंशुमान कनोरिया ने कहा कि चाय उद्योग को लगता है कि इस द्वीप देश की वर्तमान में जो आर्थिक स्थिति है उस कारण इस साल फसल में कम से कम 15 प्रतिशत की गिरावट आ सकती है।”

श्रीलंका में आए आर्थिक संकट के कारण वैश्विक बाजार में चाय की जो कमी होने वाली है उसे भारत के चाय निर्यातक पूरा कर पाते हैं या नहीं ये तो आने वाला समय ही बताएगा।

यह भी पढ़ें

भारत में भी श्रीलंका जैसी आर्थिक बदहाली का डर!

newsletter

अगली खबर

right-arrow





Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top