बिज़नेस

India’s GDP growth slows to 4.1% in Q4, govt pegs FY22 growth at 8.7% | India GDP Growth: 2021-22 में 8.7% रही भारत की आर्थिक विकास दर, चौथी तिमाही में 4.1% रही GDP

open-button


हालांकि, बढ़ती महंगाई और बढ़ते ब्याज दरों से FY23 में आर्थिक विकास की गति पर असर पड़ने की उम्मीद जताई गई है। आंकड़ों में ये भी सामने आया है कि एशिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था में अक्टूबर-दिसंबर तिमाही के दौरान भारत की अर्थव्यवस्था में 5.4% की वृद्धि दर्ज हुई थी।

क्या रहा अन्य सेक्टर का हाल

आंकड़ों के अनुसार, मार्च तिमाही के दौरान कृषि क्षेत्र में 4.1% की वृद्धि हुई है, जबकि विनिर्माण में 0.2% की गिरावट दर्ज की गई है। पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन, डिफेन्स और अन्य सेवाओं को देखें तो ये मार्च तिमाही के दौरान 7.7% बढ़ी है। ये वो क्षेत्र हैं जो सरकारी व्यय का प्रतिनिधित्व करती है। इस वृद्धि से भारत के समग्र आर्थिक विकास को बढ़ावा मिला है। अन्य क्षेत्रों में, खनन और उत्खनन और निर्माण में क्रमशः 6.7% और 2% की वृद्धि दर्ज की गई है।

यह भी पढ़ें

IMF ने बताया- भारत जब बनेगा $5 ट्रिलियन इकॉनमी तब 94.4 रुपए का होगा 1 डॉलर

क्या कारण है GDP में आई सुस्ती के पीछे?
इसके पीछे का कारण ओमिक्रॉन और रूस-यूक्रेन के बीच छिड़ी जंग को बताया गया है। मई में S&P Global Ratings ने बढ़ते मुद्रास्फीति दबाव और रूस-यूक्रेन युद्ध के कारण FY 23 के लिए भारत के विकास के अनुमान को 7.8% से घटाकर 7.3% कर दिया है।

वहीं, मॉर्गन स्टेनली (Morgan Stanley) ने पिछले महीने भी वित्त वर्ष 23 के लिए भारत के विकास के अनुमान को 7.9% से घटाकर 7.6% कर दिया था।

यह भी पढ़ें

46 हजार कर्ज के साथ पैदा हो रहा देश का हर बच्चा





Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top