ऑटोमोबाइल

Want to Install public Charging Stations for EV know process in detail | Electric Vehicles के Charging Stations लगाने का क्या है प्रोसेस,कितना आएगा खर्च? यहां पढ़े पूरी डिटेल

open-button


फास्ट चार्जिंग स्टेशन को लंबी दूरी के ईवी या बसों जैसे ईवी के लिए स्थापित किया जाएगा। वहीं हेवी-ड्यूटी ईवी के लिए चार्जिंग सुविधाएं बस डिपो के पास स्थित होनी चाहिए।

नई दिल्ली

Published: April 15, 2022 07:51:09 pm

इलेक्ट्रिक वाहनों की दौड़ में कंपनी और सरकार आम आदमी कके लिए कई रास्ते खोल रही हैं, जहां इन्हें खरीदने पर सब्सिडी का प्रवाधान है, वहीं भारत सरकार ने स्पष्ट कर दिया है कि कोई भी व्यक्ति पूरे देश में एक इलेक्ट्रिक चार्जिंग स्टेशन स्थापित करने के लिए स्वतंत्र (लाइसेंस रहित) है, बशर्ते चार्जिंग स्टेशन बिजली विभाग के मानकों को पूरा करता हो। इसलिए, यदि आप अपना ईवी चार्जिंग स्टेशन स्थापित करने की योजना बना रहे हैं, तो आपको बस न्यूनतम बुनियादी आवश्यकताओं का पालन करना होगा और सही विक्रेता और स्थान का पता लगाना होगा। आइए आपको बताते हैं, ईवी चार्जिंग स्टेशन लगाने की पूरी प्रक्रिया।

electric_car-_amp.jpg

Electric Vehicle Charging station

देश में कई प्रकार के ईवी चार्जर हैं; लेवल 1 स्लो चार्जिंग स्पीड वाला बेसिक है। वहीं सबसे लोकप्रिय लेवल 3 प्रकार का चार्जर है, जो डीसी करंट का उपयोग करता है, और इसमें तेज चार्जिंग फास्ट होती है। भारत में ईवी चार्जिंग स्टेशन स्थापित करने की लागत भिन्न होती है। 1 लाख रुपये से 40 लाख रुपये तक आप चार्जर के प्रकार के अनुसार निवेश कर सकते हैं। उदाहरण के तौर पर देखें तो नया बिजली कनेक्शन 250 केवीए का खरीदने के लिए आपको करीब 7,50,000/- रुपये खर्च करने होंगे। वहीं इसमें ईवी का Management Software और Integration के लिए 40,000/- रुपये खर्च करने होंगे। इसके अलावा तकनीशियन व रखरखाव में 3,50,000/ रुपये सालाना खर्च आएगा।

दी गई लागत अनुमानित है, और जैसा कि हमने बताया कि ईवी चार्जिंग स्टेशन को लगाने के लिए आपको बिजली विभाग को कोई पैसा नहीं देना होगा। लेकिन आपका बैकअप प्लान जरूर मजबूत होना चाहिए। इसके साथ ही आपको भारत में ईवी चार्जिंग स्टेशन की स्थापना के लिए निवेश करने की योग्यता को समझना, सरकार की पहल पर विचार करना, सेटअप के लिए लागत, चार्जर की लागत, बिजली और सॉफ्टवेयर लागत,बुनियादी ढांचा लागत, इन्फ्रास्ट्रक्चर सेटअप आवश्यकताएँ आदि पर की भी योजना बनाने की आवयश्कता है।

बिजली मंत्रालय (एमओपी) द्वारा 2018 में निर्धारित दिशा-निर्देशों के अनुसार, पब्लिक चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर (पीसीआई) के लिए न्यूनतम आवश्यकताओं में “सभी संबंधित सबस्टेशन उपकरणों के साथ एक विशेष ट्रांसफार्मर” शामिल है जिसमें प्लग-इन नोजल, 33/11 केवी होना चाहिए। प्रत्येक सार्वजनिक चार्जर में कम से कम एक इलेक्ट्रिक कियोस्क होना चाहिए जिसमें कई चार्जिंग पॉइंट हों। इनमें न्यूनतम आवश्यकता के अलावा, कई कियोस्क और चार्जिंग पॉइंट स्थापित किए जा सकते हैं।

newsletter

अगली खबर

right-arrow





Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top