धर्म-ज्योतिष

Yaksharaj Kuber and his nine treasures | यक्षराज कुबेर की नौ निधियां, साथ ही जानें इनकी खासियत व इन्हें ये कैसे मिली

open-button


दरअसल निधि का अर्थ यह होता है कि ऐसा धन जो अत्यंत दुर्लभ हो। इनमें से कई का वर्णन युधिष्ठिर ने भी महाभारत में किया है। यक्षराज (यक्षों के राजा) कुबेर को इन निधियों की प्राप्ति महादेव से होना माना जाता है। उनकी तपस्या से प्रसन्न होकर ना केवल भगवान शंकर ने उन्हें न केवल इन निधियों का दान दिया, अपितु उन्हें देवताओं के कोषाध्यक्ष का पद भी प्रदान किया।

ये हैं वे नौ निधियां-
1. पद्म: माना जाता है कि जिस व्यक्ति के पास पद्म निधि होती है वो सात्विक गुणों से युक्त होता है। ये भी कहा जा सकता है कि पद्म निधि को प्राप्त करने के लिए मनुष्य में सात्विक वृत्ति होना आवश्यक है। चूंकि ये निधि सात्विक तरीके से ही प्राप्त की जा सकती है इसी कारण इसका अस्तित्व बहुत समय तक रहता है। कहा जाता है कि पद्म निधि मनुष्य के कई पीढ़ियों को तार देती है और उन्हें कभी धन की कमी नहीं रहती। ये धन इतना अधिक होता है कि मनुष्य उसे पीढ़ी दर पीढ़ी इस्तेमाल करता रहता है किन्तु तब भी ये समाप्त नहीं होती। सात्विक गुणों से संपन्न व्यक्ति इस धन का संग्रह तो करता ही है किन्तु साथ ही साथ उसी उन्मुक्त भाव से उसका दान भी करता है। वैसे इस निधि के उपयोग के लिए पीढ़ी का वर्णन तो नहीं दिया गया है, किन्तु फिर भी कहा जाता है कि यह पद्म निधि मनुष्य की 21 पीढ़ियों तक चलती रहती है।

2. महापद्म: मान्यता के अनुसर ये निधि भी पद्म निधि के सामान ही होती है किन्तु इसका प्रभाव 7 पीढ़ियों तक रहता है। उसके बाद की पीढ़ियां इस निधि का लाभ नहीं ले सकती। पद्म की तरह महापद्म निधि भी सात्विक मानी जाती है और जिस मनुष्य के पास ये निधि होती है वो अपने संग्रह किए हुए धन का दान धार्मिक कार्यों में करता है। कुल मिलकर ये कहा जा सकता है कि महापद्म निधि प्राप्त मनुष्य दानी तो होता हैं, किन्तु उसकी ये निधि केवल 7 पीढ़ियों तक उसके परिवार में रहती है। किन्तु इन सब के पश्चात भी ये निधि या धन इतना अधिक होता है कि अगर मनुष्य दोनों हाथों से भी इसे व्यय करे, तो भी पीढ़ी दर पीढ़ी (सात) तक चलता रहता है। इस निधि को प्राप्त व्यक्ति में रजोगुण अत्यंत ही कम मात्रा में रहता है, इसी कारण धारक धर्मानुसार इसे व्यय करता है।

3. नील: नील निधि को भी सात्विक निधि माना जाता है और इसे प्राप्त व्यक्ति सात्विक तेज से युक्त होता है किन्तु उसमे रजगुण की भी मात्रा रहती है। भले ही सत एवं रज गुणों में सतगुण की अधिकता होती है इसी कारण इस निधि को प्राप्त करने वाला व्यक्ति सतोगुणी ही कहलाता है। ये निधि मनुष्य की तीन पीढ़ियों तक उसके पास रहती है। उसके बाद की पीढ़ियों को इसका फल नहीं मिल पाता। सामान्यतः ऐसी निधि व्यापार के माध्यम से ही प्राप्त होती है इसीलिए इसे रजोगुणी संपत्ति भी कहा जाता है। लेकिन चूँकि साधक इस संपत्ति का प्रयोग जनहित में करता है इसीलिए इसे मधुर स्वाभाव वाली निधि भी कहा गया है। रजोगुण की प्रधानता भी होने के कारण ये निधि 3 पीढ़ी से आगे नहीं बढ़ सकती। इसे प्राप्त करने वाले साधक में दान की वैसी भावना नहीं होती जैसी पद्म एवं महापद्म के धारकों में होती है। किन्तु फिर भी नील निधि का धारक धर्म के लिए कुछ दान तो अवश्य करता है।

4. मुकुंद: माना जाता है कि ये निधि रजोगुण से संपन्न होती है और इसे प्राप्त करने वाला मनुष्य भी रजोगुण से समपन्न होता है। ऐसा व्यक्ति सदा केवल धन के संचय करने में लगा रहता है। यही कारण है कि इसे राजसी स्वाभाव वाली निधि कहा गया है। इस निधि को प्राप्त साधक अधिकतर भोग-विलास में लिप्त होता है। हालाँकि वो सम्पूर्णतः राजसी स्वाभाव का नहीं होता और उसने सतगुण का भी योग होता है किन्तु दोनों गुणों में रजगुण की अत्यधिक प्रधानता रहती है। ये निधि 1 पीढ़ी तक ही रहती है, अर्थात उस व्यक्ति के बाद केवल उसकी संतान ही उस निधि का उपयोग कर सकती है। उसके पश्चात आने वाली पीढ़ी के लिए ये निधि किसी काम की नहीं रहती। इस निधि को प्राप्त करने वाले धारक में दान की भावना नहीं होती। भले ही उसे बार-बार धर्म का स्मरण दिलाने पर वो साधक भी दान करता है।

5. नन्द: मान्यता है कि इस निधि का धारक राजसी और तामसी गुणों के मिश्रण वाला होता है। वह अकेला अपने कुल का आधार होता है। ये निधि साधक को लम्बी आयु एवं निरंतर तरक्की प्रदान करती है। ऐसा व्यक्ति अपनी प्रशंसा से अत्यंत प्रसन्न होता है और प्रशंसा करने वाले को आर्थिक रूप से सहायता भी कर देता है। अधिकतर ऐसे साधक अपने परिवार की नींव होता है और अपने परिवार में धन संग्रह करने वाला एकलौता व्यक्ति होता है। इस निधि के साधक के पास धन तो अथाह होता है किन्तु तामसी गुणों के कारण उसका नाश भी जल्दी होता है। पर साधक अपने पुत्र पौत्रों के लिए बहुत धन संपत्ति छोड़ कर जाता है।

6. मकर: माना जाता है कि इस निधि के धारक में योद्धा के गुण अधिक होते हैं और वह अस्त्रों व शस्त्रों का संग्रह करने वाला होता है। इस निधि में तामसी गुण अधिक होते हैं। इस निधि को प्राप्त व्यक्ति वीर होता है एवं सदैव युद्ध के लिए तत्पर होता है। वो राज्य के राजा एवं शासन के विरुद्ध जाने वाला होता है। ऐसे व्यक्ति को अगर अपनी पैतृक संपत्ति ना भी मिले तो भी वो अपनी वीरता से अपने लिए बहुत धन अर्जित करता है।

7. कच्छप: इस निधि को प्राप्त साधक तामस गुण वाला माना जाता है। स्वाभाव से वह अत्यंत ही कृपण होता है। वो ना तो स्वयं अपनी संपत्ति का उपयोग करता है और ना ही किसी अन्य को उसका उपयोग करने देता है। ऐसे साधक के पास संपत्ति तो अथाह होती है किन्तु वो अपनी समस्त संपत्ति को छुपा कर रखता है। सांकेतिक रूप में कहा जाता है कि ऐसा व्यक्ति अपने धन पर एक सर्प की भांति कुंडली मार कर रहता है और उसकी रक्षा करता है। साधक के पुत्र-पौत्रादि को उसके मृत्यु के पश्चात ही उसकी संपत्ति प्राप्त होती है।

8. शंख: माना जाता है कि मुकुंद निधि की भांति ही शंख निधि 1 पीढी तक रहती है। इस निधि को प्राप्त साधक केवल स्वयं की ही चिंता करता है, यह सारी संपत्ति को स्वयं ही भोगता है। व्यक्तिगत रूप से उसके पास धन तो बहुत होता है, किन्तु उसकी कृपणता के कारण उसके परिवार वाले दरिद्रता में ही जीवन जीते है। ऐसा साधक बहुत स्वार्थी होता है और अपनी समस्त संपत्ति का उपयोग स्वयं ही करता है।

9. खर्व: इसे मिश्रित निधि भी कहा जाता हैं। ऐसी मान्यता है कि नौ निधियों में केवल इस खर्व निधि को छोड़कर अन्य 8 निधियां के “पद्मिनी” नामक विद्या के सिद्ध होने पर प्राप्त हो जाती है। खर्व निधि विशेष ही क्यूंकि ये अन्य सभी 8 निधियों का मिश्रण मानी जाती है। यही कारण है कि इसके धारक के स्वाभाव में भी मिश्रित गुण प्रधान होते हैं। उसके कार्यों और स्वभाव के बारे में भविष्यवाणी नहीं की जा सकती। समय अगर सही हो तो साधक अपना सारा धन और संपत्ति दान भी कर सकता है और यदि समय अनुकूल ना हो, तो स्वयं उसके परिवार के सदस्यों को भी उसकी संपत्ति नहीं मिलती। इस निधि में सत, रज और तम तीनो गुणों का मिश्रण होता है।





Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top