धर्म-ज्योतिष

Today is the last Trayodashi of the year 2022, worship of Mahadev | साल 2022 की अंतिम त्रयोदशी आज, जानें क्यों की जाती है शिव की विशेष पूजा

open-button


Home / Astrology and Spirituality

locationभोपालPublished: Dec 21, 2022 01:27:06 pm

आगमों व पुराणों में त्रयोदशी तिथि भगवान भोलेनाथ को समर्पित मानी गई है। यही कारण है कि इस दिन देवों के देव महादेव का अभिषेक किया जाता है। उनकी विशेष पूजा-अर्चना की जाती है। ज्योतिषीय मान्यताओं के अनुसार इस दिन व्रत एवं शिव की आराधना करने पर विशेष फल की प्राप्ति होती है…

mahadev_kripa.jpg

भोपाल। इस वर्ष की अंतिम त्रयोदशी (प्रदोष) तिथि 21 दिसंबर 2022 यानि आज बुधवार को है। इस दिन पौष माह के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी है। आगमों व पुराणों में त्रयोदशी तिथि भगवान भोलेनाथ को समर्पित मानी गई है। यही कारण है कि इस दिन देवों के देव महादेव का अभिषेक किया जाता है। उनकी विशेष पूजा-अर्चना की जाती है। ज्योतिषीय मान्यताओं के अनुसार इस दिन व्रत एवं शिव की आराधना करने पर विशेष फल की प्राप्ति होती है। ऐसे भक्तों को मोक्ष तो मिलता ही है, वे इस पृथ्वी पर भी समस्त प्रकार के सुख व सौभाग्य प्राप्त करते हैं। भोपाल के पंडित जगदीश शर्मा आपको बता रहे हैं कैसे की जाती है त्रयोदशी के इस व्रत में क्यों की जाती है शिव भगवान की विशेष पूजा…



Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top