धर्म-ज्योतिष

Solar Eclipse on this Shanishchari Amavasya What Dos and donts | Solar Eclipse 2022- शनिश्चरी अमावस्या पर अप्रैल 2022 का सूर्य ग्रहण, जानें समय और क्या करना है खास

open-button


साल 2022 के दोनों सूर्य ग्रहण शनिचरी अमावस्या पर ही लगेंगे

Updated: April 19, 2022 12:29:40 pm

First Surya Grahan 2022 : साल 2022 का पहला सूर्यग्रहण चंद दिनों बाद ही लगने वाला है। इस वर्ष 2 सूर्य ग्रहण और 2 चन्द्र ग्रहण के चलते साल कुल 4 ग्रहण लगेंगे। दरअसल सूर्य ग्रहण हमेशा चंद्र ग्रहण के लगभग दो सप्ताह पहले या बाद में होता है। दरअसल इस बार साल 2022 का पहला सूर्य ग्रहण शनि के 30 साल बाद कुंभ राशि में गोचर (29 अप्रैल 2022) के ठीक अगले ही दिन यानि 30 अप्रैल 2022 को शनिश्चरी अमावस्या के दिन सूर्य को ग्रहण लगने जा रहा है।

Surya grahan of 2022 Special

Surya grahan of 2022 Special

सूर्य ग्रहण एक दुर्लभ घटना है और इस साल 2022 में यह क्रमशः शनिवार 30 अप्रैल 2022 और शनिवार, 25 अक्टूबर 2022 को लगेगा। सबसे पहले आने वाले चंद दिनों में लगने वाला सूर्य ग्रहण हिंदू पंचांग के अनुसार वैसाख माह की अमावस्या तिथि पर यानि शनिचरी अमावस्या के दिन पहला सूर्य ग्रहण (Solar Eclipse) 30 अप्रैल को लगेगा। यहां ये जान लें कि शनिवार को पड़ने वाली अमावस्या को शनिचरी अमावस्या या शनिश्चरी अमावस्या कहा जाता है। वहीं दूसरा सूर्य ग्रहण भी शनिवार को ही 25 अक्टूबर को होगा।

जानकारों के अनुसार, पहला आंशिक सूर्य ग्रहण दोपहर 12.15 बजे से शाम 04.07 बजे तक रहेगा। यह ग्रहण दक्षिण-पश्चिम अमेरिका पेसिफिक अंटार्कटिका में देखा जा सकेगा, जो भारत में नहीं दिखेगा। यहां ये समझ लें कि आंशिक सूर्यग्रहण वह ग्रहण होता है जिसमें चंद्रमा सूर्य के केवल एक हिस्से को ही आंशिक रूप से ढकता है यानी पूर्ण रूप से सूर्य पर ग्रहण नहीं लगता।

आंशिक सूर्य ग्रहण क्या है?
इस ग्रहण के दौरान, सूर्य की थोड़ी सी-डिस्क चंद्रमा से ढकी हुई होगी, जो केवल कुछ ही स्थान पर दिखाई देगी। दरअसल सूर्य ग्रहण एक खगोलीय घटना है ऐसे में जब चन्द्रमा, पृथ्वी और सूर्य के मध्य से होकर गुजरता है और पृथ्वी से देखने पर सूर्य पूर्ण अथवा आंशिक रूप से चन्द्रमा द्वारा आच्छादित होता है। भौतिक विज्ञान की दृष्टि में जब सूर्य व पृथ्वी के बीच में चन्द्रमा आ जाता है तो चन्द्रमा के पीछे सूर्य का बिम्ब कुछ समय के लिए ढक जाता है, उसी घटना को सूर्य ग्रहण कहा जाता है।

पृथ्वी सूरज की परिक्रमा करती है और चांद पृथ्वी की। कभी-कभी चांद, सूरज और धरती के बीच आ जाता है। फिर वह सूरज की कुछ या सारी रोशनी रोक लेता है जिससे धरती पर साया फैल जाता है। इस घटना को ‘सूर्य ग्रहण’ कहा जाता है।

वहीं आंशिक सूर्यग्रहण में चन्द्रमा सूर्य व पृथ्वी के बीच में इस प्रकार आता है कि सूर्य का कुछ ही भाग पृथ्वी से दिखाई नहीं देता है यानि चन्दमा, सूर्य के केवल कुछ भाग को ही अपनी छाया में ले पाता है। इससे सूर्य का कुछ भाग ग्रहण ग्रास में और कुछ भाग ग्रहण से अप्रभावित रहता है तो पृथ्वी के उस भाग विशेष में लगा ग्रहण आंशिक सूर्य ग्रहण कहलाता है।

सामान्यत: सूर्य ग्रहण हमेशा चंद्र ग्रहण के लगभग दो सप्ताह पहले या बाद में होता है। ज्यादातर मामलों में, दो ग्रहण एक साथ होते हैं लेकिन कई बार एक ही ग्रहण के मौसम में तीन भी होते हैं।

सूर्य ग्रहण से जुड़ी बातें, तथ्य और क्या करें व क्या न करें:
ग्रहण को लेकर कई तरह की मान्यताएं हैं। परंपरागत रूप से, भारत में हिंदू आयुर्वेद पर आधारित आहार प्रतिबंधों का पालन करते हैं।

यह माना जाता है कि सूर्य ग्रहण अशुभ होता है क्योंकि सूर्य स्पष्ट रूप से दिखाई नहीं देता है जिससे बैक्टीरिया और कीटाणुओं में वृद्धि हो सकती है। इसलिए, ग्रहण के दौरान, कई घर खाना पकाने या खाना खाने, पानी पीने या यहां तक कि बाहर जाने से भी परहेज करते हैं।

वही आध्यात्मिक गुरु सद्गुरु जग्गी वासुदेव कहते हैं कि, ग्रहण से पहले और बाद में पके हुए भोजन के तरीके में एक अलग बदलाव आता है। जो पौष्टिक भोजन था वह जहर में बदल गया। पका हुआ भोजन सामान्य दिनों की तुलना में सूक्ष्म तरीके से अधिक तेजी से खराब होने के चरणों से गुजरेगा।”

वहीं आयुर्वेद के कुछ डॉक्टरों के अनुसार भी आयुर्वेद के अनुसार पृथ्वी का शरीर पर बहुत प्रभाव पड़ता है। तो, ब्रह्मांड में जो होता है उसका मानव शरीर के लिए भी महत्व है। “सूर्य ग्रहण के दौरान, चुंबकीय क्षेत्र और यूवी किरणों का स्तर अधिक होता है। और हमारा मेटाबॉलिज्म और पाचन कमजोर हो जाता है। इसलिए लोगों को सलाह दी जाती है कि इस दौरान खाने से परहेज करें और उपवास रखें।”

जबकि आधुनिक विज्ञान, ग्रहण के दौरान आहार में किसी भी बदलाव का समर्थन नहीं करता है, लेकिन फिर भी ध्यान में रखने के लिए कुछ आहार युक्तियां इस प्रकार हैं:

– आयुर्वेद के अनुसार, लोगों को ग्रहण के दौरान खाने से बचने की सलाह दी जाती है, लेकिन वृद्ध, बीमार रोगियों और गर्भवती महिलाओं के लिए कुछ अपवाद हैं जो हल्का, सात्विक भोजन कर सकते हैं जो पचने में आसान हो। आयुर्वेद के जानकारों के अनुसार, “ऐसे लोगों के लिए चावल का दलिया या मूंग का भीगा अहुआ पानी अच्छे विकल्प हैं।” जानकारों का कहना है कि आयुर्वेद की सलाह है कि सूर्य ग्रहण के दौरान महिलाएं बाहर न निकलें क्योंकि यूवी किरणें भ्रूण के लिए हानिकारक हो सकती हैं।

– आयुर्वेद के जानकारों के अनुसार इस समय पानी पीने से भी परहेज किया जाता है, लेकिन जरूरत पड़ने पर गुनगुना, उबला हुआ पानी पीने की सलाह दी जाती है। “आयुर्वेद में उबला हुआ पानी पानी को संदर्भित करता है जो 1/8 मात्रा में उबाला जाता है और पचने में हल्का होता है।

– आयुर्वेद के डॉक्टर राजकुमार का कहना है कि “बेहतर होगा कि आप हल्का, आसानी से पचने वाला शाकाहारी खाना खाएं। हल्दी को खाने में शामिल करें क्योंकि इसमें जीवाणुरोधी गुण होते हैं।”

जानकार यह भी कहते हैं, “किसी भी समय सीधे सूर्य को देखने की सलाह नहीं दी जाती है। क्योंकि ग्रहण के दौरान ऐसा करने से आंखों को स्थायी नुकसान हो सकता है। यह इस समय सूर्य की किरणों की तीव्रता की वजह से है, जो आंखों की कोशिकाओं को नुकसान पहुंचा सकती है। इससे रेटिना में जलन हो सकती है।

हां आप घटना को ग्रहण-प्रमाणित चश्मे के साथ देख सकते हैं, जो नियमित धूप के चश्मे की तुलना में एक हजार गुना गहरा है। आप सूर्य को सीधे नग्न आंखों से देखने के विपरीत प्रक्षेपित या परावर्तित छवियों को भी देख सकते हैं। साथ ही इस समय आपको दूरबीन और दूरबीन जैसे दृश्य आवर्धकों से पूरी तरह बचना चाहिए।

ग्रहण और ध्यान
मंत्र जाप और ध्यान के लिए ग्रहण का समय बहुत ही शुभ माना जाता है। श्री श्री रविशंकर अपनी वेबसाइट पर कहते हैं, “मन चंद्रमा से जुड़ा है, शरीर पृथ्वी से जुड़ा है और सूर्य दोनों से जुड़ा है। वह समय जब तीनों एक साथ आ जाते हैं, साधना के लिए अच्छा होता है।”

“… जब आप इस अवधि के दौरान 108 बार जाप करते हैं तो यह 10,000 बार या उससे अधिक के बराबर होता है! इसलिए इस अवधि के दौरान ध्यान और जप की अत्यधिक अनुशंसा की जाती है,” आध्यात्मिक गुरु कहते हैं।

यह भी पढ़ें

1. साल 2022 का पहला सूर्य ग्रहण, इन राशियों को देगा लाभ जानें सूतक काल और समय

2. साल 2022 में चार ग्रहणों का योग, जानें किस पर पड़ेंगे भारी

newsletter

अगली खबर

right-arrow





Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top