धर्म-ज्योतिष

Shiva’s grace is hidden in Ramcharitmanas | रामचरितमानस में छिपी है शिव कृपा, ऐसे समझें

open-button


रामचरितमानस के पाठ से पूर्व भगवान शिव जी की उपासना को ऐसे समझें…

पहला श्लोक
– पहला श्लोक है – “वन्दे बोधमयं नित्यं गुरु , शंकर रूपिणम । यमाश्रितो हि वक्रोपि , चन्द्रः सर्वत्र वन्द्यते* ।।”
– इस श्लोक में शिव जी को गुरु रूप में प्रणाम करके उनकी महिमा बताई गई है।
– पूजा उपासना करने के पूर्व इस श्लोक को पढ़ना चाहिए ताकि पूजा का पूर्ण फल मिल सके।
– यदि पूजा में कोई समस्या आ जाए तो शिव कृपा से वह समाप्त हो जाती है।

दूसरा दोहा
– दूसरा दोहा है – “महामंत्र जोई जपत महेसू , कासी मुकुति हेतु उपदेसू* ।”
– जब भी आप मंत्र जाप करना या सिद्ध करना चाहते हों उसके पहले यह दोहा पढना चाहिए।
– कारण ये है कि इसे पढ़ने से शिव जी की कृपा से तुरंत ही मंत्र सिद्ध भी होता है और प्रभावशाली भी।

तीसरा दोहा
– तीसरा दोहा है – “संभु सहज समरथ भगवाना , एही बिबाह सब विधि कल्याणा* ।”
– जब संतान के दाम्पत्य जीवन में समस्या आ रही हो, तब इस दोहे का प्रभाव अचूक होता है।
– नित्य प्रातः शिव जी के समक्ष इस दोहे का 108 बार जाप करें, फिर अपने संतान के सुखद दाम्पत्य जीवन की प्रार्थना करें ।

चौथा दोहा
– चौथा दोहा है – “जो तप करे कुमारी तुम्हारी , भावी मेटी सकही त्रिपुरारी* ।”
– अगर जीवन में ग्रहों या प्रारब्ध के कारण कुछ भी न हो पा रहा हो, तो यह दोहा अत्यंत फलदायी होता है।
– माना जाता है कि इस दोहे को चारों वेला कम से कम 108 बार पढने से भाग्य का चक्र भी बदल सकता है।
– परन्तु कुछ ऐसी कामना न करें जो उचित न हो।

पांचवा दोहा
– पांचवा दोहा है “तव सिव तीसर नयन उघारा , चितवत कामु भयऊ जरि छारा ।”
– अगर मन भटकता हो और अत्यंत चंचल हो तो यह दोहा लाभकारी होता है।
– जो लोग काम चिंतन और काम भाव से परेशान हों उनके लिए यह दोहा अत्यंत प्रभावशाली है।

छठवां दोहा
– छठवां दोहा है – “पाणिग्रहण जब कीन्ह महेसा , हिय हरसे तब सकल सुरेसा ।
*वेद मंत्र मुनिवर उच्चरहीं , जय जय जय संकर सुर करहीं* ।।”
– अगर विवाह होने में बाधा आ रही हो तो इस दोहे का जाप अत्यंत शुभ होता है।
– प्रातः काल शिव और पार्वती के समक्ष इस दोहे का जाप करने से शीघ्र और सुखद विवाह होता है।

सातवां दोहा
– सातवां दोहा है -“विश्वनाथ मम नाथ पुरारी , त्रिभुवन महिमा विदित तुम्हारी* ।”
– अगर आर्थिक समस्याएं ज्यादा हों या रोजगार की समस्या हो तो इस दोहे का जाप करना चाहिए।
– प्रातः और रात्रि के समय भगवान शिव के समक्ष कम से कम 108 बार इस दोहे का जाप करना चाहिए।

आठवां दोहा
– आठवां दोहा – शिव जी के द्वारा की गई श्री राम की स्तुति है।
– यह उत्तरकाण्ड में छन्द के रूप में उल्लिखित है।
– अगर केवल इसी स्तुति को नित्य प्रातः भाव से गाया जाय, तो जीवन की तमाम समस्याएं मिट जाती हैं।
– इस स्तुति को करने से व्यक्ति की, जीवन में दुर्घटनाओं, अपयश और मुकदमों से रक्षा होती है।

शिव जी द्वारा रामायण में श्री रघुबीर जी की स्तुति-
जय राम रमारमणं समनं । भव ताप भयाकुल पाहि जनं ॥
अवधेस सुरेस रमेस विभो । सरनागत मागत पाहि प्रभो ॥
दस सीस बिनासन बीस भुजा । कृत दूरी महा माहि भूरी रुजा ।
रजनीचर बृंद पतंग रहे । सर पावक तेज प्रचंड दहे ॥
महि मंडल मंडन चारूतरं । धृत सायक चाप निषंग बरं ।
मद मोह महा ममता रजनी । तम पुंज दिवाकर तेज अनी ॥
मनजात किरात निपात किए । मृग लोग कुभोग सरेन हिए ।
हति नाथ अनाथनि पाहि हरे । विषया बन पाँवर भूली परे ॥
बाहु रोग बियोगन्हि लोग हए । भवदंध्री निरादर के फल ए ।
भव सिंधु अगाध परे नर ते । पद पंकज प्रेम न जे करते ॥
अति दीन मलीन दुखी नितहीँ । जिन्ह के पद पंकज प्रीती नहीं ।
अवलंब भवंत कथा जिन्ह कें । प्रिय संत अनंत सदा तिन्ह कें ॥
नहीं राग न लोभ न मान मदा । तिन्ह कें सम वैभव वा विपदा ।
एहि ते तव सेवक होत मुदा । मुनि त्यागत जोग भरोस सदा ॥
करि प्रेम निरंतर नेम लिएँ । पद पंकज सेवत सुद्ध हिएँ ।
सम मानी निरादर आदरही । सब संत सुखी बिचरंति महि ॥
मुनि मानस पंकज भृंग भजे । रघुवीर महा रनधीर अजे ।
तव नाम जपामि नमामि हरी । भव रोग महागद मान अरी ॥
गुन सील कृपा परमायतनं । प्रनमामि निरंतर श्रीरमणं।
रघुनंदन निकंदय द्वन्दधनं । महि पाल बिलोकय दीन जनं
बार बार बर मांगऊ हरिषि देहु श्रीरंग ।
पदसरोज अनपायनी भगति सदा सतसंग ॥
बरनी उमापति राम गुन हरषि गए कैलास ।
तब प्रभु कपिन्ह दिवाए सब बिधि सुखप्रद बास॥





Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top