धर्म-ज्योतिष

Pipal Purnima 2022: Significance of Peepal Puja On Vaishakh Purnima | वैशाख पूर्णिमा को क्यों कहा जाता है पीपल पूर्णिमा? इस दिन पीपल के पेड़ की पूजा मानी जाती है फलदायी

open-button


1. शास्त्रों के अनुसार पीपल पूर्णिमा के दिन पीपल के वृक्ष पर मां लक्ष्मी विराजमान होती हैं। ऐसे में इस दिन सुबह-सुबह पीपल के वृक्ष की पूजा करने से घर में सुख-समृद्धि बनी रहती है और मां लक्ष्मी का आशीर्वाद प्राप्त होता है।

2. पीपल पूर्णिमा के दिन पीपल के वृक्ष की पूजा करने से ग्रह और पितृ दोष से मुक्ति मिलने की भी मान्यता है।

3. हिंदू धर्म में पीपल के पेड़ को बहुत पूजनीय माना जाता है। साथ ही मान्यता है कि पीपल के पेड़ में तीनों देवताओं का वास होता है और वैशाख पूर्णिमा के खास दिन पर पीपल से जुड़े उपाय तथा पूजा-पाठ करने से भगवान विष्णु की कृपा से जीवन के कष्टों से मुक्ति मिलती है।

4. मांगलिक कार्यों को करने की दृष्टि से भी यह दिन बहुत महत्व रखता है। इस दिन शुभ मुहूर्त देखने की आवश्यकता नहीं होती बल्कि पीपल की पूजा की बाद सभी प्रकार के मांगलिक कार्य किए जा सकते हैं।

(डिस्क्लेमर: इस लेख में दी गई सूचनाएं सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है। patrika.com इनकी पुष्टि नहीं करता है। किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ की सलाह ले लें।)

यह भी पढ़ें

Financial Horoscope 13 May 2022 आर्थिक राशिफल: मेष, कर्क समेत इन राशियों के व्यवसायी कमाएंगे जमकर मुनाफा





Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top