धर्म-ज्योतिष

Holi 2022 date, auspicious time and importance | होलिका दहन 2022- कब है? जानें तिथि, शुभ मुहूर्त व महत्व

holika-2022


– होलाष्टक व होली दहन पर क्या करें व क्या न करें

– जानें होलिका दहन के पूजा अनुष्ठान (पूजन विधि)

भोपाल

Published: March 04, 2022 12:49:00 pm

हिंदू धर्म के प्रमुख त्यौहारों में से एक होली का धार्मिक उत्सव बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। यह त्यौहार हिंदू कैलेंडर में फाल्गुन पूर्णिमा व उसके अगले दिन मनाया जाता है। दरअसल यह इसलिए कहा जाता है कि होलिका दहन फाल्गुन पूर्णिमा के दिन व होली यानि धुलेंडी उसके अगले दिन मनाई जाती है।

holika-2022

holika-2022

ऐसे में इस साल 2022 में गुरुवार, 17 मार्च को पूर्णिमा व्रत के साथ ही होलिका दहन किया जाएगा, जबकि इसके अगले दिन यानि शुक्रवार 18 मार्च को होली यानि धुलेंडी खेलने के साथ ही पूर्णिमा का स्नानदान कार्य किया जाएगा।

होलिका दहन का शुभ मुहूर्त 2022

होलिका दहन तिथि: गुरुवार, 17 मार्च

हिंदू पंचांग के अनुसार होलिका दहन का शुभ मुहूर्त रात 09 बजकर 20 मिनट से 10 बजकर 31 मिनट तक रहेगा। यानि होलिका दहन के लिए कुल 1 घंटा 10 मिनट का समय मिलेगा।

8 दिन पहले से शुरु होंगे होलाष्टक
एक ओर जहां साल 2022 में 17 मार्च को होलिका दहन से 8 दिन पहले यानी 10 मार्च से होलाष्टक शुरु हो जाएंगे। जो होलिका दहन के साथ समाप्त हो जाएंगे।मान्यताओं के अनुसार होलाष्टक के दौरान कोई भी शुभ कार्य नहीं किया जाना चाहिए।

होलाष्टक इसलिए है अशुभ
ज्योतिष के जानकारों व पंडितों के अनुसार होली के आठ दिन पहले होलाष्टक का प्रारंभ होता है। वहीं इस दौरान विवाह, गृह प्रवेश सहित कई अन्य शुभ कार्य वर्जित माने जाते हैं। इसका कारण ये है कि होलाष्टक और होलिका दहन की कथा आपस में जुड़ी हुई है। मान्यता है कि हिरण्यकश्यप ने अपने पुत्र प्रह्लाद को इन 8 दिनों में चरम स्थितियों में प्रताड़ित किया और अंत में उसे होलिका दहन के दिन आग के टीले पर बैठाया था।

भगवान विष्णु के परम भक्त प्रह्लाद को इन दिनों मिली प्रताड़नाओं को देखते हुए यह दिन किसी भी उत्सव या नई खरीदारी के लिए दिन शुभ नहीं माने जाते हैं। वहीं चूंकि इस दौरान प्रह्लाद लगातार भगवान विष्णु के नाम का जाप करते रहे, इसलिए ऐसे में यह दिन धार्मिक और आध्यात्मिक गतिविधियों को करने के लिए दिन उत्कृष्ट माने जाते हैं।

ये दिन भगवान नारायण की भक्ति के लिए बेहद शुभ माने जाते हैं जिन्होंने प्रह्लाद को उसकी सच्ची भक्ति के लिए बचाया और उसे राजा बना दिया। होलाष्टक पर इन बातों का ध्यान रखें और ये न करें?
होली और अष्टक का मेल ही होलाष्टक है। अष्ट का अर्थ है होली के आठ दिन। फाल्गुन शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा से आठ दिन पहले होलाष्टक शुरू होता है। ऐसे में होलाष्टक के आठ दिनों में शादी, हजामत बनाने, गृह प्रवेश समारोह, चल और अचल संपत्तियों की खरीद निषिद्ध मानी गई है। जबकि, धार्मिक और आध्यात्मिक उद्देश्यों के लिए इन आठ दिनों को अत्यधिक शुभ माना जाता है।

होलाष्टक के दिन
अवधि: 10 मार्च 2022 से 17 मार्च 2022 तक
होलाष्टक के दौरान इन चीजों से करें परहेज : पंडित सुनील शर्मा के अनुसार हिंदू शास्त्रों के अनुसार सभी 16 संस्कार जैसे शादी, हजामत बनाने आदि इस अवधि के दौरान नहीं किए जाने चाहिए।

– इस दौरान सभी प्रकार की चल-अचल संपत्तियां खरीदने से बचना चाहिए। साथ ही लंबी अवधि का निवेश भी नहीं करना चाहिए और न ही सोना-चांदी खरीदना चाहिए।
– इस दौरान कपड़े खरीदने से बचें।
– कुछ लोग इस अवधि में अपने स्वार्थ की पूर्ति के लिए तंत्र-मंत्र गतिविधियों और टोटकों का भी सहारा लेते हैं। अत: इन दिनों में अनावश्यक भटकने से बचना चाहिए। साथ ही चौराहा या किसी अन्य भीड़भाड़ वाले क्षेत्रों को पार करते समय सचेत रहना चाहिए।।

होलाष्टक के दौरान करें ये काम:
1. ध्यान और जप करें।
2. सच्चे मन से भगवान की पूजा करें।
3. इस दौरान मृत्यु पर किए जाने वाले विशेष अनुष्ठान किए जा सकते हैं।
4. इस अवधि में जीवन में सभी प्रकार के दुखों और दुखों से बचने के लिए महामृत्युंजय मंत्र या विष्णु सहस्त्रनाम स्तोत्र का जाप करना विशेष फलदायी माना जाता है।
5. भगवान विष्णु और भगवान शिव अपने भक्तों को सभी बाधाओं और समय से पहले होने वाली मौतों से बचा सकते हैं। इसलिए, माना जाता है कि इस दौरान उनके नामों को याद करने से लोगों को सारी समृद्धि मिलती है।

होलिका दहन के पूजा अनुष्ठान (पूजन विधि)
होलिका दहन पूजा या पूजा के लिए अनुष्ठान के तहत प्रह्लाद को मारने के लिए बनाए गए अग्नि टीले के समान अलाव रखी जाती है। वहीं इस आग के टीले पर गाय के गोबर के कई उपले रखे जाते हैं। होलिका और प्रह्लाद की मूर्तियों को भी गाय के गोबर से बनाने के पश्चात सबसे ऊपर रखा जाता है।

उसके बाद आग टीले में लगाई जाती है, टीले पर आग की लपटे प्रह्लाद की मूर्ति तक पहुंचकर उसे नुकसान पहुंचाने से पहले ही प्रह्लाद की मूर्ति आग से हटा दी जाती है, इसका प्रहलाद द्वारा की सच्ची भक्ति के कारण भगवान विष्णु के आशीर्वाद स्वरूप उन्हें घातक आग से बचाए जाने के रूप में चित्रण किया जाता है।

– ध्यान रखें जिस स्थान पर होलिका पूजन करना हो उस स्थान पर पूर्व या उत्तर दिशा की ओर मुख करके बैठना चाहिए।
– इस दौरान पूजा के लिए फूल की माला, रोली, गंध, फूल, गुड़, साबुत हल्दी, मूंग, बतासे, गुलाल, नारियल, पांच या सात प्रकार के अनाज, नए गेहूं और अन्य फसलों के साथ ढेर सारा पानी इस्तेमाल करना होता है।
– इन सामग्रियों से होलिका दहन की पूजा के बाद लोग फूल, मिठाई और फल आदि चढ़ाए जाते हैं।
वहीं पूजा प्रक्रिया को लाभकारी रूप से समाप्त करने के लिए भगवान नरसिंह की पूजा अनिवार्य मानी गई है। इसके अलावा होलिका की सात परिक्रमा भी करनी चाहिए।

होलिका दहन 2022 के पीछे का महत्व और किंवदंती
होलिका दहन और धुलेंडी का पर्व सर्दियों के मौसम के अंत और वसंत के मौसम की शुरुआत का प्रतीक भी है। मान्यता के अनुसर होलिका दहन की उत्पत्ति वैदिक काल में हुई है।

प्राचीन ग्रंथों के अनुसार हिरण्यकश्यप एक राक्षस राजा था, जिसे भगवान विष्णु से बहुत नफरत थी। भगवान विष्णु ने हिरण्यकश्यप के बड़े भाई हिरण्याक्ष को वराह अवतार में मार डाला था और तब से हिरण्यकश्यप उनसे बदला लेना चाहता था।

हिरण्यकश्यप ने तब कठोर तपस्या से भगवान ब्रह्मा को प्रसन्न कर एक वरदान प्राप्त किया कि उसे न तो कोई ऐसा देव, मानव या पशु मार सकता है जो जन्म के माध्यम से इस दुनिया में आया है।

और न ही उसे दिन में न रात में मारा जा सकता है। न किसी हथियार से उसकी मौत हो सकेगी। न घर में न बाहर, न आकाश में न जमीन पर कोई उसे मार सकेगा। इस तरह के जटिल वरदान ने उसे लगभग अमर बना दिया और उसने खुद को भगवान घोषित कर दिया।

हिरण्यकश्यप चाहता था कि हर कोई केवल उसकी प्रशंसा करे और देवों को भूल जाए। जबकि उसका अपना पुत्र, प्रह्लाद भगवान विष्णु का सच्चा भक्त था और उसने भगवान विष्णु की स्तुति करना बंद नहीं किया। अपने ही पुत्र के इस रवैये से क्रोधित होकर हिरण्यकश्यप ने अपने पुत्र को मारने के लिए कई योजनाएं बनाईं। पर सब फेल हो गईं।

तब हिरण्यकश्यप को अपनी बहन होलिका की याद आई जिसके पास वरदान से एक ऐसा कपड़ा था जिसे आग का प्रभाव नहीं होता था, ऐसे में वह आग में रहकर भी जलती नहीं थी। (मान्यता के अनुसार भगवान ब्रह्मा ने इस वरदानी कपड़े को देते समय होलिका को चेतावनी दी थी कि वह बुरे कामों के लिए वरदान का इस्तेमाल न करें अन्यथा यह काम नहीं करेगा।)

होलिका के इस वरदानी कपड़े की याद आते ही हिरण्यकश्यप ने अपनी बहन होलिका से खुद वह वरदान वाला कपड़ा पहन कर उसके बाहर प्रह्लाद को अपनी गोद में लेने और आग के टीले पर बैठने के लिए कहा, ताकि प्रहलाद को जलाकर मार दिया जाए। जबकि होलिका सुरक्षित बाहर आ जाए।

उसने जैसा आदेश दिया था होलिका ने वैसा ही किया और प्रह्लाद को गोद मे लेकर आग के टीले पर बैठ गई। इस समय भी प्रह्लाद भगवान विष्णु के नाम का जाप करता रहा। जिसके फलस्वरूप आग के तेज होने पर अचानक आंधी सी चली और उस वरदान वाले कपड़े ने होलिका से उड़कर प्रह्लाद को लपेट लिया, जिसके फलस्वरूप इस आग में होलिका तो जल गई, लेकिन प्रह्लाद बच गया।

newsletter

अगली खबर

right-arrow





Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top