धर्म-ज्योतिष

Hartalika Teej Or Hariyali Teej on 31st July? Know the complete method of fasting in detail | 31 जुलाई को हरतालिका तीज और हरियाली तीज? जानिए व्रत की पूरी विधि विस्तार से

open-button


कैसी मनाई जाती है हरियाली तीज?
-इस दिन महिलाओं द्वारा पति की लंबी उम्र के लिए निर्जला व्रत रखा जाता है।
-विवाहित बेटी के लिए मायके से साड़ी, श्रृंगार का सारा सामान, मिठाई, फल आदि भेजा जाता है। इस दिन लड़कियां अपने मायके से आए सामान का ही इस्तेमाल करती हैं।
-धार्मिक मान्यताओं अनुसार व्रत रखने वाली महिलाओं को दिन में सोने से बचना चाहिए।
-इस दिन सुहागिन महिलाओं को जितना हो सके हरे रंग का इस्तेमाल करना चाहिए। जैसे हरे रंग की चूड़ियां, साड़ी आदि पहननी चाहिए।
-हरियाली तीज की व्रत कथा जरूर पढ़नी चाहिए।
-इस दिन अपने हाथों पर महंदी जरूर लगानी चाहिए।
-इस दिन सुहागिन स्त्रियां सास के पांव छूकर उन्हें सुहागी देती हैं। यदि सास न हो तो सुहागी जेठानी को या फिर किसी अन्य वृद्ध महिला को दी जाती है।
-इस दिन महिलाएं अच्छे से श्रृंगार करके नए वस्त्र पहनकर मां पार्वती की पूजा करती हैं।
-हरियाली तीज पर महिलाएं झूले झूलती हैं और लोक गीत पर नाचती-गाती हैं।

हरियाली तीज की पूजा विधि: इस दिन घर की अच्छे से साफ-सफाई कर घर को तोरण-मंडप से सजायें। मिट्टी में गंगाजल मिलाकर शिवलिंग, भगवान गणेश, माता पार्वती और उनकी सखियों की प्रतिमा बना लें। अगर प्रतिमा नहीं बना सकते तो बनी बनाई प्रतिमाएं भी आप प्रयोग में ला सकते हैं। प्रतिमाओं को चौकी पर स्थापित कर दें। फिर देवताओं का आह्वान करते हुए षोडशोपचार पूजन करें। पूजा के दौरान माता पार्वती को श्रृंगार की चीजें जैसे सिंदूर, बिंदी, चूड़ियां, मेहंदी और बाकी अन्य सामान अर्पित करें। साथ ही भगवान शिव को भी वस्त्र आर्तित करें। घी का दीपक जलाएं और विधि विधान पूजा करें। कथा सुने और अंत में माता पार्वती की आरती करें। सुहागन महिलाएं अपनी सास या नन्द को श्रृंगार का सामान भेट स्वरुप दें। ये व्रत पूजन रातभर चलता है। इस दिन कई महिलाएं रात पर जागरण और कीर्तन भी करती हैं।
यह भी पढे़ं: नाम ज्योतिष: पति ही नहीं ससुराल के सभी सदस्यों के लिए लकी मानी जाती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियां





Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top