धर्म-ज्योतिष

Astrology revelations on increase in temperature in 2022 | इस साल मौसम को लेकर क्या कहते हैं ज्योतिष, जानें ग्रह और नक्षत्र की दशा

open-button


ग्रहों की चाल: जानें कहां बढ़ेगा तापमान और कहां रहेगा कम

Published: March 02, 2022 10:43:55 am

इस बार देश के कई क्षेत्रों में फरवरी 2022 से ही एकाएक गर्मी बढ़ गई। जिसके बाद इससे संबंधित विभागों सहित कई जानकारों द्वारा भोपाल सहित कई क्षेत्रों में बारिश को लेकर तमाम बातें कही गई। उनका कहना था कि इसके बाद ठंड पुन: वापसी करेगी। लेकिन इन तमाम बातों में अब तक कोई बात सच नहीं हुई।

weather Astrology 2022

Yearly weather Astrology 2022

इसी बीच ज्योतिष के जानकारों ने ग्रहों की दशा व दिशा का आंकलन कर इस साल पड़ने वाली गर्मी को लेकर नए व बड़े खुलासे किए हैं। इस संबंध में ज्योतिष के जानकारों का मानना है कि भले ही इस साल तकरीबन हर माह कहीं न कहीं बारिश देखने को मिल सकती है, लेकिन सूर्य, शुक्र व मंगल की स्थिति तापमान में वृद्धि का कारण बनती दिख रही है।

मुमकिन है कि आगामी कुछ दिनों में सर्दी की वापसी हो, लेकिन यदि पूरे साल की बात की जाए तो इस साल ग्रहों और नक्षत्रों की स्थिति ज्यादा गर्मी की ओर इशारा कर रही है।

ज्योतिष के जानकार एके शुक्ला का कहना है कि इस साल गर्मी के कारक माने जाने वाले ज्येष्ठा नक्षत्र, मूल नक्षत्र, मंगल प्रधान धनिष्ठा नक्षत्र, रेवती नक्षत्र आदि की स्थिति देश में इस बार ज्यादा गर्मी बिखेरती दिख रही है। इसके चलते जहां पूर्वोत्तर के राज्यों सहित पश्चिमी, उत्तर पश्चिमी राज्यों में तापमान कुछ अधिक रहेगा। वहीं गंगा के आसपास के क्षेत्रों में तापमान कम रहने की संभावना है।

ज्योतिष के जानकारों के अनुसार इस वर्ष सूर्य, शुक्र व मंगल की स्थिति साफ दर्शा रही है कि कई क्षेत्रों में लू की लपट गर्मी के मौसम में देखने को मिलेगी। जिसके चलते तापमान में वृद्धि होगी। इसके अलावा अधिकांश क्षेत्रों में ये ग्रह अपना प्रभाव छोड़ते हुए तेजी से तापमान में वृद्धि करेंगे।

ज्योतिष के जानकारों का ये भी मानना है कि इस महीने यानि मार्च 2022 में भारत के पश्चिम क्षेत्र में काफी अधिक बारिश हो सकती है। जहां तक ग्रहों की स्थिति का सवाल है तो इस साल यानि 2022 में ग्रह और नक्षत्र की स्थितियां भारत के पश्चिमी, उत्तरी, पूर्वी सहित मध्य के अधिकांश क्षेत्रों में गर्मी में इजाफा करते दिख रहे हैं। जबकि उत्तर मध्य,पूर्व मध्य और पश्चिम मध्य क्षेत्रों में तापमान कम रह सकता है।

newsletter
Home / Astrology and Spirituality

अगली खबर

right-arrow





Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top