धर्म-ज्योतिष

Astrology: Chant the mantras of Maa Lakshmi according to the zodiac | ज्योतिष: राशि अनुसार मां लक्ष्मी के मंत्रों का करें जाप, धन संबंधी दिक्कतें होंगी दूर

open-button


1. मॉं लक्ष्मी का बीज मंत्र
“ॐ ह्रीं श्रीं लक्ष्मीभ्यो नमः॥” 2. लक्ष्मी गायत्री मंत्र
“ॐ श्री महालक्ष्म्यै च विद्महे विष्णु पत्न्यै च धीमहि तन्नो लक्ष्मी प्रचोदयात् ॐ॥” 3. महालक्ष्मी मंत्र
“ॐ श्रीं ह्रीं श्रीं कमले कमलालये प्रसीद प्रसीद ॐ श्रीं ह्रीं श्रीं महालक्ष्म्ये नम:॥”

4. “महालक्ष्मी च विद्महे,
विष्णुपत्नी च धीमहि,
तन्नो लक्ष्मी: प्रचोदयात्।” 5. “ॐ श्रीं श्रीं महालक्ष्म्यै श्रीं श्रीं ॐ नम:।” राशि अनुसार मां लक्ष्मी के मंत्र:
मेष- ॐ ऐं क्लीं सौं:
वृषभ- ॐ ऐं क्लीं श्रीं
मिथुन- ॐ क्लीं ऐं सौं:
कर्क- ॐ ऐं क्लीं श्रीं
सिंह- ॐ ह्रीं श्रीं सौं:
कन्या- ॐ श्रीं ऐं सौं:
तुला- ॐ ह्रीं क्लीं श्रीं
वृश्चिक- ॐ ऐं क्लीं सौं:
धनु- ॐ ह्रीं क्लीं सौं:
मकर- ॐ ऐं क्लीं ह्रीं श्रीं सौं:
कुंभ- ॐ ह्रीं ऐं क्लीं श्रीं
मीन- ॐ ह्रीं क्लीं सौं:

मां लक्ष्मी के मंत्रों को जपने की विधि:
-मंत्र जाप के दौरान शुद्ध घी का दीया लगातार जलते रहना चाहिए।
-लक्ष्मी मंत्र का जाप स्फटिक या कमलगट्टे की माला से करें।
-किसी भी मंत्र के उच्चारण की 11 माला जाप अवश्य करें।
-संभव हो तो मंत्र का जाप कुश (एक तरह की घास) के आसन पर बैठकर करें। मान्यता है इससे शुभ फलों की प्राप्ति होती है।
-मंत्र का जाप पूरा करने के बाद माला को पूजा स्थान पर वापस रख दें।

यह भी पढ़ें

स्वप्नशास्त्र: सपने में अपने लव पार्टनर या हमसफर को किसी दूसरे के साथ देखना

(डिस्क्लेमर: इस लेख में दी गई सूचनाएं सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है।patrika.com इनकी पुष्टि नहीं करता है। किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ की सलाह लें।)





Source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top